लाइव न्यूज़ :

Ghazipur MP Afzal Ansari: अखिलेश यादव और मायावती एक बार फिर मिलकर चुनाव लड़ेंगे!, अफजाल अंसारी को सपा की नसीहत, भ्रम फैलाने वाले बयान ना दे

By राजेंद्र कुमार | Published: June 18, 2024 6:23 PM

Ghazipur MP Afzal Ansari: यूपी में हम भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ जनता को एकजुट करेंगे. 

Open in App
ठळक मुद्देअफजाल अंसारी गाजीपुर लोकसभा सीट से तीसरी बार चुनाव जीतकर सांसद बने हैं. पांच बार वह विधानसभा चुनाव भी जीते हैं. मायावती ने उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया.

लखनऊः  समाजवादी पार्टी (सपा) के गाजीपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीते अफजाल अंसारी ने सोमवार को यह संभावना जताई थी कि सपा मुखिया अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती एक बार फिर मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं. यूपी में होने वाले अगले विधानसभा चुनाव में ऐसा हो सकता है. राजनीति में ऐसा होना असंभव नहीं है. पहले भी सपा और बसपा ने यूपी में मिलकर चुनाव लड़ा है. मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी के इस कथन के बाद से सपा में हड़कंप मचा और पार्टी नेताओं सपा और बसपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की संभावनाओं को गलत बताया. पार्टी के सीनियर नेता उदयवीर का कहना है कि अफजाल अंसारी पार्टी के जरूर सांसद है लेकिन वह पार्टी संगठन के फैसले लेने के लिए अधिकृत नहीं हैं.

इसलिए बसपा के साथ सपा के मिलकर चुनाव लड़ने का जो बयान उन्होंने दिया है, उससे पार्टी सहमत नहीं हैं. सपा का कांग्रेस के साथ तालमेल है और उसी के साथ यूपी में हम भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ जनता को एकजुट करेंगे. 

मायावती के नजदीकी रहे हैं अफजाल

अफजाल अंसारी गाजीपुर लोकसभा सीट से तीसरी बार चुनाव जीतकर सांसद बने हैं. पांच बार वह विधानसभा चुनाव भी जीते हैं. बाहुबली मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल अंसारी वर्ष 2019 में बसपा के टिकट पर चुनाव जीते थे. इस बार वह अखिलेश यादव के साथ आ गए तो भी मायावती ने उनके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया. उन्हें पार्टी से भी नहीं निकाला.

जबकि सपा में आए अन्य नेताओं को उन्होंने पार्टी से निकाल दिया था. कहा जा रहा है कि इसी वजह से अफजाल अंसारी बसपा के प्रति नर्म रुख भी रखते हैं. उनका कहना है कि मायावती ने उनके छोटे भाई  मुख्तार को गरीबों का मसीहा तक कहा था. हालांकि बाद में मायावती ने मुख्तार और अफजाल दोनों को ही पार्टी से निकाल दिया था.

लेकिन फिर 2019 में अफजाल अंसारी को उन्होने गाजीपुर सीट से चुनाव लड़ाया. उस चुनाव में दलित-मुस्लिम वोटों के बल पर अफजाल अंसारी ने भाजपा के मनोज सिन्हा को हार दिया था. इस बार भी अफजाल अपने पुराने वोटबैंक के भरोसे भाजपा के उम्मीदवार को हराने में सफल हुए. चुनाव में मिली इस जीत के लिए अफजाल अंसारी बसपा सुप्रीमो मायावती को भी शुक्रिया कह रहे हैं.

अफजाल कहते हैं, बहन जी ने हमेशा उनका मान-सम्मान रखा है. और वह दिल से चाहते है कि यूपी में गरीब लोगों के हक ही आवाज को बुलंद करने के लिए बदलते राजनीतिक हालात में सपा और बसपा को साथ होना चाहिए.अपनी इस सोच के चलते ही उन्होने यह कहा कि अगले विधानसभा चुनाव में सपा और बसपा मिलकर चुनाव लड़ सकते हैं.

अफजाल के इस कथन पर सपा ने असमति जता दी है. इसके साथ ही अफजाल अंसारी को भी यह बता दिया है कि भविष्य में वह इस तरह से भ्रम फैलाने वाले बयान ना दें और पार्टी संगठन को क्या करना चाहिए इसे लेकर सार्वजनिक रूप से अपनी सलाह देने से बचे. 

टॅग्स :उत्तर प्रदेशसमाजवादी पार्टीमुख्तार अंसारीअखिलेश यादवबीएसपीमायावती
Open in App

संबंधित खबरें

क्राइम अलर्टPratapgarh Crime News: तीन दिन पहले ऑपरेशन हुआ और घर आई, पट्टी बदलने के लिए बुलाया, ऑपरेशन थिएटर में बेहोश कर डॉक्टर ने किया रेप

भारतयोगी सरकार के पूर्व मंत्री बोले- 'थाना और तहसील स्तर पर ऐसा भ्रष्टाचार नहीं देखा, जीवन के 42 वर्षों में पहली बार...'

ज़रा हटकेAnti Snake Venom: मुझे बचा लीजिए... शनिवार को सांप 8वीं बार डस लेगा! 40 दिन में 7 बार बनाया शिकार

कारोबारUP TEACHER News: उपचुनाव से पहले 60000 शिक्षकों को तोहफा!, नई या पुरानी में से एक पेंशन चुनने का रास्ता साफ, जानें असर

भारतUP News: जिलों में प्रशासन और पुलिस अफसर सही से काम नहीं कर रहे, सीएम योगी से मिले फरियादी, शिक्षक, किसान, महिला से मुलाकात

भारत अधिक खबरें

भारतVIDEO: अनंत अंबानी और राधिका मर्चेंट के ‘शुभ आशीर्वाद’ समारोह में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, हुआ ग्रैंड वेलकम

भारतTelangana BRS vs Congress: 15 बीआरएस विधायक कांग्रेस में शामिल, मुख्यमंत्री रेड्डी ने भारत राष्ट्र समिति और राव की तोड़ दी कमर!, देखें लिस्ट

भारतध्रुव राठी ने अपने खिलाफ 'आपत्तिजनक' पोस्ट के लिए मामला दर्ज होने की खबरों पर दी यह प्रतिक्रिया

भारतजेल में रहते हुए भी अपराधी किसी का बेटा, पति, पिता या भाई होता, ऑस्ट्रेलिया जा रहा पुत्र के लिए बंबई उच्च न्यायालय ने पिता को दी पेरोल, पढ़िए कहानी

भारतBihar Rupauli By Election Result 2024 LIVE: जदयू उम्मीदवार की हार एनडीए के लिए माथे पर शिकन पैदा करने वाली, उपेन्द्र कुशवाहा ने जताई चिंता