लाइव न्यूज़ :

Pm Modi IN Bihar: 2007 में एपीजे अब्दुल कलाम साहब ने सपना देखा था...., 2024 में पीएम मोदी ने किया पूरा!, जानें क्या कुछ खास

By सतीश कुमार सिंह | Published: June 19, 2024 10:32 AM

Pm Modi IN Bihar: वर्तमान में 26 देशों के छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। न्यू नालंदा विश्वविद्यालय परिसर के बारे में नया नालंदा विश्वविद्यालय परिसर जो पारंपरिक और आधुनिक वास्तुशिल्प तत्वों को सहजता से एकीकृत करता है।

Open in App
ठळक मुद्देPm Modi IN Bihar: शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करने में बहुत मददगार साबित होगा।Pm Modi IN Bihar: परिसर का नाम प्राचीन विश्वविद्यालय के नाम पर रखा गया है।Pm Modi IN Bihar: 17 भागीदार देशों के राजदूत भी होंगे।

Pm Modi IN Bihar: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पूर्व राष्ट्रपति दिवंगत एपीजे अब्दुल कलाम के सपने को पूरा किया। पूर्व राष्ट्रपति ने बिहार विधानसभा के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए प्राचीन विश्वविद्यालय के पुनरुद्धार का प्रस्ताव रखा था। लगातार तीसरी सरकार बनाने के बाद पहली बार बिहार दौरे पर आएं प्रधानमंत्री मोदी नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर अपने एक पोस्ट में लिखा, ‘‘ यह हमारे शिक्षा क्षेत्र के लिए बहुत खास दिन है। आज सुबह 10:30 बजे राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्घाटन किया। नालंदा का हमारे गौरवशाली अतीत से गहरा नाता है। यह विश्वविद्यालय निश्चित रूप से युवाओं की शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करने में बहुत मददगार साबित होगा।’’

17 देशों के राजदूत शामिल, पूरी खबर पढ़ने के लिए इसे करें क्लिक...

परिसर का नाम प्राचीन विश्वविद्यालय के नाम पर रखा गया

परिसर का नाम प्राचीन विश्वविद्यालय के नाम पर रखा गया है। लगभग 1,600 साल पहले दुनिया भर के विद्वानों को आकर्षित करने के लिए प्रसिद्ध था। इस महत्वपूर्ण अवसर पर प्रधानमंत्री के साथ विदेश मंत्री, एस जयशंकर और साथ ही 17 भागीदार देशों के राजदूत भी होंगे। अंतरिम कुलपति प्रोफेसर अभय कुमार सिंह ने कहा कि हम प्रधानमंत्री की यात्रा को एक बहुत ही प्रतिष्ठित और शुभ अवसर मानते हैं।

26 देशों के छात्र पढ़ाई कर रहे हैं

वर्तमान में 26 देशों के छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। न्यू नालंदा विश्वविद्यालय परिसर के बारे में नया नालंदा विश्वविद्यालय परिसर जो पारंपरिक और आधुनिक वास्तुशिल्प तत्वों को सहजता से एकीकृत करता है। 455 एकड़ में फैला है और इसमें 100 एकड़ जल निकायों के साथ एक नेट शून्य क्षेत्र शामिल है। 

2010 में संसद के एक विशेष अधिनियम के साथ

रिपोर्ट के अनुसार 2007 में तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के सुझाव के बाद इस नए विश्वविद्यालय की स्थापना के प्रयास में तेजी आई। सरकार द्वारा 455 एकड़ जमीन के प्रावधान और 2010 में संसद के एक विशेष अधिनियम के साथ, विश्वविद्यालय को औपचारिक रूप से एक राष्ट्रीय संस्थान के रूप में स्थापित किया गया था।

पिलखी गांव में स्थायी परिसर का निर्माण 2017 में शुरू हुआ

विश्वविद्यालय ने आधिकारिक तौर पर 2014 में एक अस्थायी स्थान से संचालन शुरू किया, जिसमें केवल 14 छात्र थे। पिलखी गांव में स्थायी परिसर का निर्माण 2017 में शुरू हुआ। नया नालंदा विश्वविद्यालय दो शैक्षणिक भवनों, 40 कक्षाओं, दो 300 सीटों वाले सभागार, लगभग 550 छात्रों के लिए एक छात्रावास, 2,000 सीटों वाला एम्फीथिएटर, एक खेल से सुसज्जित है। एक अंतरराष्ट्रीय केंद्र है।

नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना 2010 में की गई थी

नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना 2010 में की गई थी और यह विश्वविद्यालय के प्राचीन खंडहर, नालंदा महावीर, जो अब एक विश्व धरोहर स्थल है, से 20 किमी से भी कम दूरी पर स्थित है। इससे पहले, 13वीं शताब्दी तक संचालित अपने नाम और प्राचीन शिक्षण स्थल की तर्ज पर अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय स्थापित करने के प्रस्ताव को पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में सदस्य देशों द्वारा समर्थन दिया गया था।

प्राचीन विश्वविद्यालय 800 वर्षों तक फलता-फूलता रहा

विश्वविद्यालय का नया परिसर नालंदा के प्राचीन खंडहर स्थल के करीब है। इस विश्वविद्यालय की स्थापना नालंदा विश्वविद्यालय अधिनियम, 2010 के तहत की गई थी। इस अधिनियम में विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए वर्ष 2007 में फिलीपीन में आयोजित दूसरे पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में लिए गए निर्णय को लागू करने का प्रावधान किया गया है।

नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना पांचवीं शताब्दी में हुई थी जहां दुनियाभर से छात्र अध्ययन के लिए आते थे। विशेषज्ञों के अनुसार, 12वीं शताब्दी में आक्रमणकारियों द्वारा नष्ट किए जाने से पहले यह प्राचीन विश्वविद्यालय 800 वर्षों तक फलता-फूलता रहा। विश्वविद्यालय में छह अध्ययन केंद्र हैं जिनमें बौद्ध अध्ययन, दर्शन और तुलनात्मक धर्म स्कूल; ऐतिहासिक अध्ययन स्कूल; पारिस्थितिकी और पर्यावरण अध्ययन स्कूल; और सतत विकास और प्रबंधन स्कूल शामिल हैं।

टॅग्स :नरेंद्र मोदीनीतीश कुमारए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलामबिहारपटनाS Jaishankar
Open in App

संबंधित खबरें

भारतबिहार के गया में दुकानदारों ने खुद लिख लिया नाम, दुकानों के नेम प्लेट को लेकर उपजे विवाद के बीच लिया फैसला

भारतयूपी बीजेपी में उथल-पुथल के बीच सीएम योगी पीएम मोदी से करेंगे मुलाकात, पार्टी के सीनियर नेताओं से भी मिलेंगे

बॉलीवुड चुस्की'मैंने खाने में थूकने वालों को कभी...': कांवड़ यात्रा विवाद पर अपने वायरल ट्वीट पर सोनू सूद ने दी सफाई

भारतIndia Alliance Protest March: नीतीश सरकार के खिलाफ बिहार में बवाल, राजद, कांग्रेस, वामदल और वीआईपी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे, देखें वीडियो

भारतBihar Kanwar Yatra 2024: दुकान के आगे मालिक का नाम हो, कांवड़ यात्री नाम देख लेंगे, भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल ने कहा, यूपी के बाद बिहार में मांग

भारत अधिक खबरें

भारतनीट, बिहार को विशेष दर्जा और भी बहुत कुछ.., यहां जानें सर्वदलीय बैठक में विपक्ष ने किन मुद्दों पर की मांग

भारतरिकार्ड तोड़ रही है अमरनाथ यात्रा में शिरकत करने वालों की संख्या, 22 दिनों में आंकड़ा 4 लाख को छूने लगा, उम्मीद 8 लाख को पार कर जाने की

भारत'अगर रामदेव को दिक्कत नहीं तो रहमान को क्यों...', बाबा रामदेव ने योगी सरकार के फैसले का किया समर्थन

भारत'CM अरविंद केजरीवाल को जेल में...', आम आदमी पार्टी का केंद्र, एलजी और BJP पर बड़ा आरोप

भारतकेदारनाथ धाम के रास्ते में भूस्खलन, चपेट में आने से तीन श्रद्धालुओं की मौत, आठ अन्य घायल