Highlightsइसका इस्तेमाल अधिकतर औषधि के रूप ही किया जाता हैखांसी दूर करने के लिए अडूसा के पत्ते, मुनक्का और मिश्री का काढ़ा पीना चाहिएयह अर्थराइटिस की सूजन को कम करने में सहायक है

धरती पर ऐसे कई पेड़-पौधे हैं जिनका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज में किया जाता है। ऐसा ही एक औषधीय पौधा अडूसा या वसाका (Malabar nut)है। बताया जाता है कि यह पौधा कई बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। इसक इस्तेमाल अधिकतर औषधि के रूप ही किया जाता है।

खांसी और घुटनों के दर्द के लिए
कहते हैं कि सूखी खांसी दूर करने के लिए अडूसा के पत्ते, मुनक्का और मिश्री का काढ़ा पीना चाहिए। घुटनों के दर्द से राहत- घुटनों के दर्द और सूजन को कम करने के लिए वसाका जड़ी-बूटी का उपयोग किया जाता है। इसमें पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लामेटरी गुण अर्थराइटिस की सूजन को कम करने में सहायक होते हैं।

How to get rid of a cough and whether medication can help - Insider

कब्ज और कमजोरी होते हैं दूर
आयुर्वैदिक चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार अडूसा पेड़ के फल, फूल, पत्ते तथा जड़ को रोग विकारों निवारण में प्रयुक्त किया जाता है।अडूसा न केवल खासी, श्वास, रक्तपीत और कफ के लिए गुणकारी है। बल्कि इसके पत्ते से बना काढ़ा कब्ज और शरीर निर्बलता के लिए एक दवा का काम करता है। 

अस्थमा में मिलती है राहत
अडूसा पाउडर और शहद मिलाकर दिन में तीन चार बार चाटने से अस्थमा रोग से निजात पाया जाता है। इसके पत्तों को पीसकर किसी कपड़े में बांधकर  इसका रस निकाल कर 20 ग्राम रस रोज दिन में दो बार पीने से नाक, कान, अथवा मल द्वार से निकलने वाले खून से निजात पा सकते है।

What To Do Now if Your Asthma is Worse in Winter – Health Essentials from Cleveland Clinic

टीबी और खांसी में मिलता है आराम
टीबी रोग और खांसी में 25 ग्राम अडूसा पाउडर 25 ग्राम गिलोय पाउडर को 200 मिली पानी में देर तक उबाले और इसका काढ़ा बना ले। 50 ग्राम काढ़े को शहद में मिलाकर सुबह शाम पीने से खांसी दूर हो जाती है और कफ सरलता से निकल जाता है।

मासिक धर्म में मिलता है आराम
मासिक धर्म में अधिक खून निकलने की समस्या होने से अडूसे के पत्ते का रस मिश्री मिलाकर सेवन करने से लाभ मिलता है। अडूसा के पत्ते के रस में तुलसी, अदरक का रस और मुलेठी का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से ज्वर में आराम मिलता है। 

The Best Ways to Ease Painful Periods | Chapel Hill OBGYN

सिरदर्द और मुंह के छाले
अडूसा के पत्तों को पानी में उबालकर काढ़ा बना ले और शहद और मिश्री के साथ सुबह शाम सेवन करने से सिरदर्द से राहत मिलती है। अडूसा के दो से तीन पत्तों को चबाकर उसके रस को चूसने से छाले ठीक होते हैं। आप ध्यान रखे कि चबाए हुए पत्तों का रस चूसकर थूक देना चाहिए। 

दांतों और मसूड़ों के दर्द में
अडूसा की लकड़ी से दातुन करने से दांतों और मसूड़ों की समस्या ठीक होती है। इसी के साथ इससे नियमित दातुन किया जाए तो दांतों व मसूड़ों के दर्द में राहत हो जाती है।

पेशाब के रोगों में देता है राहत
जिन लोगों को पेशाब ठीक से नहीं आती है या फिर उन्हें बार-बार जाना पड़ता है उनके लिए खरबूजे के 10 ग्राम बीज और अडूसा के 10 ग्राम पत्ते लेकर अच्छी तरह पीसकर खाने से इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है।

इस बात का रखें ध्यान

यह एक औषधीय पौधा है और एक्सपर्ट्स का मानना है कि इसके पत्ते, फूल और टहनी सभी चीजों का कई रोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन आपको इसका प्रयोग करने से पहले एक बार सलाह लेनी चाहिए। सही मात्रा और तरीका जानना बहुत जरूरी है।

Web Title: Health benefits of Malabar nut for constipation, piles, asthma, tb, urine disease, periods pain, arthritis
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे