International Condom Day history and unknown interesting facts | International Condom Day 2018: पहले बंदूक की नली पर चढ़ते थे कंडोम, जानिए ऐसी ही मजेदार बातें

वैलेंटाइन डे कल है। बेशक आपको इस खास दिन के बारे में पता होगा लेकिन आपको बता दें कि आज एक और महत्वपूर्ण डे है। आज इंटरनेशनल कंडोम डे भी है। कंडोम अनचाही प्रेगनेंसी और यौन संचारित रोगों से बचने का बेहतर उपाय है। एक्सपर्ट ऐसा मानते हैं कि कंडोम यौन संचारित रोगों के खिलाफ 98 फीसदी प्रभावी है जबकि इससे प्रेगनेंसी का खतरा 98 फीसदी कम हो सकता है। बेशक आप कंडोम के बारे में तमाम जानकारी रखते होंगे लेकिन कंडोम से जुड़ी कुछ बातें भी हैं, जो शायद आपको ना मालूम हों। हम आपको कंडोम से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बता रहे हैं। 

जरूर पढ़ें- कंडोम पहनने के मामले में ये 6 बड़ी गलतियां कर बैठते हैं लड़के-लड़कियां 

कंडोम का इतिहास 15,000 साल पुराना है और ऐसा माना जाता है कि 1564 में पहली बार इटली के डॉक्टर गब्रेल फेलोपियो ने एक ऐसी चीज़ बनाइ थी जो सुरक्षित सेक्स को बढ़ावा देती थी।

ऐसा माना जाता है कि दुनिया का सबसे पुराना कंडोम स्वीडन में पाया गया था और दुनिया का सबसे बड़ा कंडोम 260 फीट लंबा हैं। 1919 में पहली बार ऐसा कंडोम बना जो आज के कंडोम से काफी मिलता-जुलता था और उसी दौरान इसे पहली बार आम लोगों के लिए मार्केट में उतारा गया था।

आपको जानकार हैरानी होगी कि दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान, सैनिक अपनी राइफल को पानी से बचाने के लिए उसकी नली पर कंडोम चढ़ा देते थे। 20वीं सदी में कंडोम मिलना बहुत मुश्किल होता था। 1928 में तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसे पाया जा सकता था। साल 1990 में दुनिया को पहली बार फ्लेवर और कलर कंडोम मिला था। 

साल 1980 में एड्स ने दुनियाभर में अपने पैर पसारने शुरू कर दिए। इसके बाद कई देशों ने कंडोम के उपयोग के लिए जनता को जागरूक करना शुरू किया। एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया में सबसे ज्यादा कंडोम का इस्तेमाल दक्षिण अफ्रीका में होता हैं और हर साल दुनिया में 5 अरब से ज्यादा कंडोम यूज होते हैं।

ऐसा माना जाता है कि वैलेंटाइन डे यानी 14 फरवरी के दिन दुनियाभर में कंडोम की बिक्री बढ़ जाती है। आपको हैरानी होगी कि इस दिन अमेरिका में प्रति सेकंड 87 कंडोम बिकते हैं।

बाजार में मिलने वाले अधिकतर कंडोम चार साल तक चल सकते हैं। इसके लिए आपको इन्हें ठंडे और सूखे स्थान पर रखना होगा। इसलिए अगर आपके पास कोई पुराना कंडोम है तो आप चिंता किए बिना उसका इस्तेमाल कर सकते हैं। 

अगर आप ऐसा सोचते हैं कि कंडोम पहनकर यौन संबंध बनाने से महिलाओं को ऑर्गैज्म का एहसास नहीं होता है, तो आप गलत हैं। अध्ययनकर्ताओं के अनुसार, पुरुष पार्टनर कंडोम पहने या नहीं इससे महिलाओं के ऑर्गैज्म पर कोई असर नहीं पड़ता है। 

स्वीडन में कंडोम एम्बुलेंस के जरिए भी उपलब्ध होते हैं। यानी अगर आप स्वीडन में हैं और आपको यौन संबंध का मौका मिल रहा है लेकिन कंडोम उपलब्ध नहीं है, तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। 

फैक्ट्री में जब कंडोम बनाकर तैयार हो जाते हैं और बिक्री के लिए बाहर निकलते हैं, तो उन्हें इलेक्ट्रिक करंट प्रोसेस से गुजरना होता है। इससे यह पता लगाया जाता है कि किसी कंडोम में छेद या फटा तो नहीं है। 

(फोटो- Pixabay) 


स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे