Highlightsशुक्रवार को हुए ग्राम पंचायतों के चुनाव में 79 प्रतिशत वोट डाले गए थे।बीजेपी ने दावा किया है कि उनके समर्थित कई निर्दलीयों को भी इस चुनाव में बड़ी जीत मिली है।मनसे को 36 गांवों में सफलता मिली है।

Maharashtra Panchayat Election 2021: महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अगाड़ी के घटक दलों के नेताओं ने कहा कि गठबंधन ने पंचायत चुनावों में बड़ी सफलता हासिल की है, जिसके लिए सोमवार को मतगणना हुई थी, जबकि भाजपा ने दावा किया कि वह सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी।

34 जिलों की 12, 711 ग्राम पंचायत सीटों पर यह चुनाव कराया गया था, जिसमें से शिवसेना को 3113 सीटें, बीजेपी को 2632 सीटें, एनसीपी को 2400 सीटें, कांग्रेस को 1823 सीटें, मनसे को 36 सीटें और निर्दलीय को 2344 सीटें मिली हैं। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि ये आंकड़े स्वतंत्र रूप से मान्य नहीं हैं क्योंकि रात तक परिणामों की कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई थी।

हालांकि ग्राम पंचायत चुनाव पार्टी के प्रतीकों पर नहीं लड़े जाते हैं, लेकिन पैनल राजनीतिक दलों या स्थानीय नेताओं द्वारा चुने जाते हैं। 15 जनवरी को कुल 36 जिलों के 34 में 12,711 ग्राम पंचायतों के चुनाव के लिए मतदान हुआ था। 

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में मंगलवार को दावा किया कि महाराष्ट्र में ग्राम पंचायत चुनाव परिणाम एमवीए सरकार के लिए एक जनादेश है। प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए, शिवसेना ने कहा कि अब विपक्ष को महसूस करना चाहिए कि उसके "कार्यकर्ता" जैसे ईडी, सीबीआई और आई-टी विभाग महाराष्ट्र में राजनीतिक क्रांति नहीं ला सकते हैं।

महाराष्ट्र में, एमवीए ने 12,711 ग्राम पंचायतों में से 58% जीत हासिल की है। इस बीच, एमवीए और भाजपा दोनों पंचायत चुनाव में जीत का दावा कर रहे हैं। शिवसेना ने कहा है कि बीजेपी नेताओं को अपने घरेलू मैदान पर हार का सामना करना पड़ा और यह भी कि विखे पाटिल ने 20 साल के लिए अहमदनगर में लोनी खुर्द को खो दिया।

पिछले चुनावों की तुलना में इस बार भाजपा को बड़ा झटका लगा है, कांग्रेस और राकांपा को भारी सफलता मिलती दिखाई दे रही है, शिवसेना ने अपनी साख कायम रखी है. हालांकि उसे कोंकण में भारी झटका लगा है, पिछले चुनाव में भाजपा और शिवसेना का गठबंधन था जबकि कांग्रेस और राकांपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था।

कांग्रेस का दावा: विदर्भ में 50% गांवों में सफलता कांग्रेस ने दावा किया है कि उसने विदर्भ की 50 फीसदी गांवों पर झंडा फहराया है, मराठवाड़ा में महाविकास आघाड़ी के तीनों दलों को अलग-अलग जिलों में भारी सफलता मिली है, पश्चिम महाराष्ट्र में राकांपा ने अपने पारंपरिक गढ़ को सुरक्षित रखने में सफलता पाई है, सतारा जिले में कई स्थानों पर जीतने वाले और हारने वाले दोनों राकांपा के नेता थे।

खड़से को शामिल करने से राकांपा को फायदाः उत्तर महाराष्ट्र में भाजपा को शिवसेना और राकांपा ने झटका दिया है, खड़से के राकांपा में शामिल होने से राकांपा को फायदा हुआ है. मुक्ताईनगर तहसील में खड़से अपना गढ़ कायम रखने में सफल हुए हैं, क्षेत्र में कांग्रेस को वह सफलता नहीं मिली, जिसकी उम्मीद की जा रही थी।

गढ़ में दिग्गजों को लगा झटका चुनाव में अधिकतर दिग्गजों ने अपने-अपने इलाकों में वर्चस्व बनाए रखने में सफलता पाई है, हालांकि इक्का-दुक्का स्थानों पर उनकी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है। भाजपा के चंद्रकांत पाटिल अपने गांव खानापुर (कोल्हापुर) में पार्टी को जीत दिलवा नहीं सके।

राकांपा के जयंत पाटिल अपनी ससुराल में कामयाब नहीं हो सके. उनके परिवार के तीन सदस्य चुनाव हार गए. पुणे जिले में शरद पवार ने जिस गांव को गोद लिया था, वहां भाजपा को सफलता मिली है. सोलापुर जिले में भाजपा का परचम फहराया है, लेकिन अकलूज में विजयसिंह मोहिते पाटिल को भारी झटका लगा है।

Web Title: Maharashtra Panchayat Election 2021 Shiv Sena has 3113 seats BJP 2632 seats NCP and Congress

राजनीति से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे