तेलंगाना : कोरोना के बाद 1.25 लाख निजी स्कूलों के बच्चों ने लिया सरकारी स्कूल में दाखिला, आखिर इसके पीछे क्या कारण है

By दीप्ती कुमारी | Published: September 16, 2021 02:06 PM2021-09-16T14:06:48+5:302021-09-16T14:26:44+5:30

तेलंगाना के निजी स्कूलों के लगभग 1.25 लाख छात्र 2021-22 शैक्षणिक वर्ष के लिए राज्य के सरकारी स्कूलों में नामांकन कर लिया है । इस तरह के प्रवेश में वृद्धि के देखते हुए राज्य के शिक्षा विभाग ने 'रिवर्स माइग्रेशन' करार दिया है । कोरोना के कारण वित्तीय समस्याओं की वजह से भी कई माता -पिता सरकारी स्कूल में बच्चे का नामांकन करा रहे हैं ।

why 1.25 lakh private school students in telangana moved to govt school in 2021 | तेलंगाना : कोरोना के बाद 1.25 लाख निजी स्कूलों के बच्चों ने लिया सरकारी स्कूल में दाखिला, आखिर इसके पीछे क्या कारण है

फोटो सोर्स - सोशल मीडिया

Next
Highlightsतेलंगाना के 2021-22 सत्र के लिए 1.25 लाख बच्चों ने सरकारी स्कूल में लिया नामांकननिजी स्कूलों से सरकारी विद्यालय में शिफ्ट होने वाले बच्चों की संख्या इस बार ज्यादा है कोरोना काल में वित्तीय समस्या और निजी स्कूलों के रवैये के कारण बदलाव

तेलंगाना :  तेलंगाना के निजी स्कूलों के लगभग 1.25 लाख छात्र 2021-22 शैक्षणिक वर्ष के लिए राज्य के सरकारी स्कूलों में नामांकन कर लिया है । 2021 में पिछले शैक्षणिक वर्ष की तुलना में 40 प्रतिशत अधिक बच्चों ने नामांकन कराया है । 

इस तरह के प्रवेश में वृद्धि के देखते हुए राज्य के शिक्षा विभाग ने 'रिवर्स माइग्रेशन' करार दिया है, ज्यादातर माता-पिता कोरोना के कारण नौकरी छूटने और वित्तीय बाधाओं के कारण निजी स्कूल की फीस का भुगतान करने में असमर्थ होने की वजह से अपने बच्चों का नाम वापस ले लिया है । अधिकारी ने कहा, "हालांकि हम यह नहीं कह सकते कि केवल एक ही कारण है, ज्यादातर मामलों में, हमने माता-पिता को यह कहते हुए देखा कि वे अपनी कमजोर वित्तीय स्थिति के कारण अब स्कूल की फीस वहन करने में असमर्थ हैं।" उन्होंने कहा कि “इसमें आवासीय, सामाजिक कल्याण स्कूल शामिल नहीं हैं। यह गिनती विशुद्ध रूप से राज्य के सरकारी दिवस के स्कूलों से है ।”

अधिकारी के अनुसार, 2020 में लगभग 85,000 निजी स्कूल के छात्र सरकारी स्कूलों में चले गए, जो पिछले 2019-2020 शैक्षणिक वर्ष से कम से कम 40 प्रतिशत अधिक था । अधिकारी ने कहा कि महामारी से पहली लहर के बाद से ही सरकारी स्कूलों में ज्यादा बच्चे दाखिला लेने लगे थे । 

उन्होंने कहा कि  “अगर हम 2018 और उससे पहले के वर्षों को देखें, तो प्रवेश लेने वाले ऐसे छात्रों की संख्या बहुत कम थी, शायद 50 प्रतिशत कम । यहां तक ​​कि हर साल 10-15 प्रतिशत तक बच्चे ही नामांकन लेते थे लेकिन इस बार अप्रत्याशित बच्चों ने एडमिशन लिया है । 

वहीं तेलंगाना सरकार ने केंद्र के दिशा-निर्देशों के अनुरूप, 1 सितंबर से स्कूलों को उचित कोविड सावधानियों के साथ फिर से खोलने के आदेश जारी किया था । हालांकि बच्चों को स्कूल आने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है लेकिन इस बार सरकारी स्कूलों में बहुत ज्यादा बच्चों ने दाखिला लिया । 

हैदराबाद के सबसे पुराने में से एक गवर्नमेंट गर्ल्स हाई स्कूल महबूबिया में शैक्षणिक वर्ष के लिए कक्षा 6 से 10 के लिए 110 नए प्रवेश थे । स्कूल प्रभारी जी. नीरजा के मुताबिक इनमें से करीब 70 फीसदी निजी स्कूलों के छात्र हैं । नए प्रवेशों ने स्कूल की संख्या अब 410 हो  गई है और शिक्षक केवल 17 हैं । 

नीरजा ने दिप्रिंट को बताया, “हमें आमतौर पर हर साल निजी स्कूलों से लगभग 20 नए प्रवेश मिलते हैं, लेकिन इस साल यह बहुत अधिक था ।” 

सरकारी स्कूलों में दाखिले की वजह 

एम.वी. फाउंडेशन के सदस्य रेड्डी ने कहा एक और कारण है कि छात्र, विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में, सरकारी स्कूलों में चले गए हैं, निजी स्कूलों में परिवहन की कमी है । उन्होंने कहा कि “निजी स्कूलों ने अपनी बसें चलाना बंद कर दिया है और यह ग्रामीण छात्रों के लिए एक मुद्दा बन गया है । इसलिए, वे पास के सरकारी स्कूलों में चले गए । गांवों में सभी का अपना परिवहन नहीं है । ”

तेलंगाना राज्य संयुक्त शिक्षक संघ के महासचिव चावा रवि ने कहा कि हालांकि सरकारी स्कूलों में छात्रों की अधिक संख्या सरकारी संस्थानों के लिए सकारात्मक है  लेकिन हम कह सकते हैं कि ये बदलाव इसलिए नहीं है क्योंकि सरकारी स्कूलों में बहुत सुधार आया है या एक बेंचमार्क स्थापित किया है बल्कि माता-पिता की लाचारी के कारण । उन्होंने कहा कि खराब बुनियादी ढांचे और फैकल्टी की कमी के कारण सरकारी स्कूलों में रहने वाले छात्रों की संख्या की उम्मीद करना मुश्किल होगा।

आगे उन्होंने कहा कि उन छात्रों को सरकारी स्कूल में बनाए रखने के लिए संस्थानों को माता-पिता में विश्वास पैदा करना होगा लेकिन क्या राज्य इश स्थिति में है कि वह 20 हजार रिक्त पदों के साथ बच्चों को अच्छी शिक्षा दे सकते हैं । "शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के अनुसार सामान्य शिक्षक से छात्र अनुपात 1:30 होना चाहिए लेकिन तेलंगाना में यह स्थिति नहीं है ।"

इस बीच, स्कूलों के फिर से खुलने के केवल दो हफ्तों में, जो फिर से पूरी क्षमता से नहीं है, कम से कम 20 छात्रों ने कथित तौर पर पहले सप्ताह में सकारात्मक परीक्षण किया । राज्य भर में कम से कम पांच शिक्षकों ने भी सकारात्मक परीक्षण किया ।
 

Web Title: why 1.25 lakh private school students in telangana moved to govt school in 2021

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे