President Jamiat Ulama-i-Hind Maulana Syed Arshad Madani appealed to Muslims to not take it as win or loss | Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर मौलाना अरशद मदनी ने कहा- इसे हार जीत के तौर पर नहीं देखें
अयोध्या के फैसले को इसे हार या जीत के तौर पर नहीं ले: मौलाना अरशद मदनी (फाइल फोटो)

Highlightsसुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मौलाना अरशद मदनी की अपीलशांति बनाये रखना जरूरी, फैसले को हार या जीत के तौर पर नहीं देखें: मौलाना अरशद मदनी

प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने सभी से अपील की है कि अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के आये फैसले को हार या जीत के तौर पर नहीं लिया जाए। अरशद मदनी ने साथ ही सभी मुस्लिमों और देशवासियों से शांति बनाये रखने की भी अपील की है।

मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि फैसले को जीत या हार के तौर पर नहीं देखना चाहिए। मौलाना मदनी के अनुसार, 'ये फैसला हमारी उम्मीदों के मुताबिक नहीं है लेकिन सर्वोच्च न्यायालय सर्वोच्च है।'


बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने शनिवार को दशकों पुराने मामले में फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन पर मंदिर बनाने की बात कही। साथ ही कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को अलग से किसी महत्वपूर्ण जगह पर 5 एकड़ जमीने देने का भी आदेश दिया


Web Title: President Jamiat Ulama-i-Hind Maulana Syed Arshad Madani appealed to Muslims to not take it as win or loss
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे