अरुणाचल प्रदेश के छोटे चाय उत्पादकों के लिए उपयुक्त नीति की जरूरत: उप मुख्यमंत्री

By भाषा | Published: August 27, 2021 08:43 PM2021-08-27T20:43:37+5:302021-08-27T20:43:37+5:30

Need for suitable policy for small tea growers of Arunachal Pradesh: Deputy CM | अरुणाचल प्रदेश के छोटे चाय उत्पादकों के लिए उपयुक्त नीति की जरूरत: उप मुख्यमंत्री

अरुणाचल प्रदेश के छोटे चाय उत्पादकों के लिए उपयुक्त नीति की जरूरत: उप मुख्यमंत्री

Next

अरुणाचल प्रदेश के उपमुख्यमंत्री चाउना मीन ने शुक्रवार को राज्य के छोटे चाय उत्पादकों के लिए एक नीति तैयार करने का सुझाव दिया ताकि चाय बागानों की स्थापना के लिए भूमि कब्जा प्रमाणपत्र (एलपीसी) और एनओसी प्राप्त करने में आधिकारिक बाधाओं को दूर किया जा सके। छोटे चाय उत्पादकों के लिए एलपीसी जारी करने पर सदन में एक संक्षिप्त चर्चा में भाग लेते हुए, मीन ने कहा कि राज्य के कुछ गैर सरकारी संगठनों ने राज्य में चाय की खेती के बहाने वन क्षेत्र को नष्ट करने के खिलाफ 1999 में उच्चतम न्यायालय का रुख किया था। उनका कहना था कि इसने लकड़ी काटने पर प्रतिबंध लगाने के उच्चतम न्यायालय के 1996 के आदेश का उल्लंघन किया है। मीन ने कहा, "उच्चतम न्यायालय ने 2000 में चाय की खेती पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया और मुख्यमंत्री पेमा खांडू के प्रयासों के बावजूद, प्रतिबंध अभी तक नहीं हटाया गया है।" इस संबंध में एक कानून बनाया गया जिसमें उल्लेख किया गया था कि केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) मिलने तक चाय की खेती की अनुमति नहीं दी जाएगी। उपमुख्यमंत्री ने कहा, “यह राज्य और केंद्र के लिए छोटे चाय उत्पादकों के हित के लिए इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार करने का समय है।” चर्चा की शुरुआत करते हुए, कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने प्रतिबंध हटाने की मांग की और राज्य सरकार से चाय बोर्ड इंडिया या बैंकों से छोटे चाय उत्पादकों के स्वरोजगार उद्यमों के संचालन के लिए वित्तीय मदद लेने की सुविधा देने का आग्रह किया।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Need for suitable policy for small tea growers of Arunachal Pradesh: Deputy CM

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे