सीएम नीतीश कर सकते हैं फेरबदल, केंद्र में आरसीपी सिंह मंत्री तो उपेंद्र कुशवाहा होंगे जदयू के नए अध्यक्ष

By एस पी सिन्हा | Published: June 17, 2021 06:36 PM2021-06-17T18:36:59+5:302021-06-17T19:57:26+5:30

जदयू के मौजूदा राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष आरसीपी सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है. वे 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार के शपथ ग्रहण के वक्‍त शपथ लेते-लेते रह गए थे.

CM Nitish kumar can reshuffle RCP Singh minister center Upendra Kushwaha will be the new president of JDU | सीएम नीतीश कर सकते हैं फेरबदल, केंद्र में आरसीपी सिंह मंत्री तो उपेंद्र कुशवाहा होंगे जदयू के नए अध्यक्ष

बिहार में कुर्मी और कुशवाहा वोटर पर जदयू की पहले भी अच्‍छी पकड़ मानी जाती रही है.

Next
Highlightsमंत्री बनने के बाद उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी से भी मुक्त किया किया जा सकता है.जदयू में वापस लौटे उपेंद्र कुशवाहा को जदयू की राष्ट्रीय अध्‍यक्ष की जिम्‍मेदारी दी जा सकती है.राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष का पद देकर पार्टी अपने लव-कुश समीकरण को मजबूत करना चाहेगी.

पटनाः बिहार की सियासत में जारी गहमागहमी के बीच अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी जदयू में कुछ नये बदलाव की तैयारी में जुट गये हैं.

ऐसी संभावना है कि अगले कुछ दिन में जदयू में नई टीम बनाई जा सकती है. अंदरखाने में यह चर्चा है कि जदयू के मौजूदा राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष आरसीपी सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है. वे 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार के शपथ ग्रहण के वक्‍त शपथ लेते-लेते रह गए थे. मंत्री बनने के बाद उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी से भी मुक्त किया किया जा सकता है.

लव-कुश समीकरण को मजबूत

उनकी जगह पार्टी की जिम्मेदारी रालोसपा का विलय कराने के बाद जदयू में वापस लौटे उपेंद्र कुशवाहा को जदयू की राष्ट्रीय अध्‍यक्ष की जिम्‍मेदारी दी जा सकती है. उल्लेखनीय है कि उपेंद्र कुशवाहा की वापसी होते ही उन्‍हें जदयू में अहम पद दिया गया है. उन्‍हें संसदीय बोर्ड का अध्‍यक्ष बनाया गया है. लेकिन अब उन्‍हें राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष का पद देकर पार्टी अपने लव-कुश समीकरण को मजबूत करना चाहेगी.

जदयू का कोई नेता केंद्रीय मंत्रिमंडल में अब तक नहीं

बिहार में कुर्मी और कुशवाहा वोटर पर जदयू की पहले भी अच्‍छी पकड़ मानी जाती रही है. कुशवाहा के लौटने और उनको आगे बढ़ाने से यह कड़ी और मजबूत होगी. इस बार खुद आरसीपी कह चुके हैं कि उनका दल केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए तैयार है. एनडीए का बड़ा सहयोगी होने के बावजूद जदयू का कोई नेता केंद्रीय मंत्रिमंडल में अब तक नहीं है.

उपेंद्र कुशवाहा पर बड़ा दांव

पिछली बार आरसीपी के साथ ही ललन सिंह को भी मंत्रिमंडल में भेजने की तैयारी जदयू ने की थी, लेकिन बात नहीं बन सकी. इधर, बिहार में अब अपनी पार्टी के कम होते जनाधार को फिर से बनाए रखने के लिए नीतीश कुमार उपेंद्र कुशवाहा को लेकर एक बड़ा दांव खेलने की तैयारी में हैं. दो माह पहले ही उन्हें नीतीश कुमार ने न सिर्फ एमएलसी बनाया, बल्कि पार्टी के संसदीय बोर्ड का अध्यक्ष बना दिया था.

यहां बता दें कि जदयू के प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी उमेश कुशवाहा के पास है. अब राष्ट्रीय स्तर पर भी कुशवाहा समाज को पार्टी की जिम्मेदारी सौंप कर नीतीश कुमार अपने लव-कुश समीकरण को मजबूत करना चाहते हैं. जदयू में फिलहाल अध्यक्ष की कमान आरसीपी सिंह के पास है, जो नीतीश के बेहद करीबी माने जाते रहे हैं.

नीतीश कुमार और आरसीपी के बीच दूरियां

लेकिन जबसे उपेंद्र कुशवाहा ने जदयू में वापसी की है, आरसीपी सिर्फ पार्टी गतिविधियों तक सीमित रह गए हैं. पिछले कुछ दिनों से यह देखा भी जा रहा है कि जब भी नीतीश कुमार पर कोई राजनीतिक हमला होता है, उपेंद्र कुशवाहा ही उसका जवाब देते नजर आते हैं. इन सबके बीच नीतीश कुमार और आरसीपी के बीच दूरियां बढ़ी हैं.

यही कारण है कि कि जदयू के मौजूदा राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष आरसीपी सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में भेजकर पार्टी की सक्रिय राजनीति से अलग करने की कवायद शुरू हो गई है. हालांकि जदयू में उपेंद्र कुशवाहा को पार्टी की जिम्मेदारी सौंपे जाने की चर्चा को लेकर सवाल भी उठाए जा रहे हैं. राजनीति के जानकारों का कहना है कि उपेंद्र कुशवाहा को अध्यक्ष बनाए जाने पर पार्टी में मतभेद उभर कर सामने आ सकते हैं.

ललन सिंह का नाम सबसे ऊपर

जदयू में कई ऐसे नेता हैं जो कुशवाहा के अध्यक्ष बनाए जाने का विरोध कर सकते हैं. जिनमें ललन सिंह का नाम सबसे ऊपर है. ललन सिंह को जदयू का चाणक्य माना जाता है. जोड-तोड की राजनीति में उनसे बेहतर कोई नहीं कर सकता है. हाल में लोजपा में हुई टूट में ललन सिंह की बड़ी भूमिका मानी जा रही है. वैसे, ललन सिंह को भी केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किये जाने की चर्चा है. लेकिन उपेन्द्र कुशवाहा को पार्टी का प्रमुख बनाये जाने के सवाल पर वह मुखर हो सकते हैं, ऐसी संभावना जताई जा रही है. 

Web Title: CM Nitish kumar can reshuffle RCP Singh minister center Upendra Kushwaha will be the new president of JDU

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे