अंतरराष्ट्रीय मीडिया में पिछले कुछ हफ्तों से एक खबर दबे-दबे तौर पर आ रही है। कुछ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने शिनजियांग प्रांत के करीब 10 लाख वीगर मुसलमानों को  "रोजगार के लिए प्रशिक्षण" देने के नाम पर बंधक बना रखा है। 

कुछ मानवाधिकार कार्यकर्ता आरोप लगा रहे हैं अमेरिका के बाद दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होने की वजह से चीनवीगर मुसलमानों को कथित दमन की ख़बरों को दबवाने में कामयाब हो रहा है।

धार्मिक अल्पसंख्यकों के दमन के आरोपों से इनकार करते हुए शिनजियांग के गवर्नर शोहरत ज़ाकिर ने चीन सरकार के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि इन "ट्रेनिंग कैम्पों" में मैंड्रिन (चीन की आधिकारिक भाषा) और दूसरे 'जॉब स्किल्स' (रोजगार के हुनर) सिखाये जा रहे हैं। 

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी ने चीन सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा, "चीन सरकार मामले को चाहे जितना भी घुमाये-फिराये इस सच को दबाया नहीं जा सकता कि शिनजिंयाग वीगर स्वायत्त क्षेत्र में वीगर मुसलमानों के विधिवत दमन का कार्यक्रम चलाया जा रहा है। करीब 10 लाख लोगों को अनायास हिरासत में रखा गया है। इन कैम्पो में लोगों को कोई प्रशिक्षण नहीं बल्कि उन्हें सजा दी जा रही है और उनका उत्पीड़न किया जा रहा है। इन बंधकों की पिटाई, भूखे रखे जाने और एकांत कोठरी में डालने की ख़बरें लगातार आ रही हैं।"

वीगर मुसलमानों को कैम्प में रखने पर चीन की सफायी 

चीन सरकार का दावा है कि वो धार्मिक कट्टरता और आतंकवाद से निपटने के लिए ये 'शिक्षण और प्रशिक्षण' कार्यक्रम चला रही है। शिनजियांग के गवर्नर ज़ाकिर ने मंगलवार (15 अक्टूबर) को एक बयान जारी करके कहा था, "आज शिनजियांग न केवल ख़ूबसूरत है बल्कि सुरक्षित और स्थिर भी है। चाहे कोई वक़्त हो या कहीं का भी रहने वाला हो, आज शिनजियांग में कोई घर से बाहर निकलने, ख़रीदारी करने, डिनर के लिए बाहर जाने और ट्रैवलिंग के लिए जाने में नहीं डरता।"

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार गवर्नर ज़ाकिर ने कहा कि अभी शिनजियांग प्रांत में आतंकवाद और धार्मिक कट्टरता के माहौल को दूर किये जाने के लिए काफी लम्बा रास्ता तय करना है।

चीन में हान चीनी बहुसंख्यक हैं। आरोप है कि शिनजियांग प्रांत में पहले वीगर मुसलमान बहुसंख्यक थे लेकिन चीन सरकार ने प्रांत में हान चीनियों को बसाकर जनसंख्या अनुपात बदल दिया।

कौन हैं वीगर मुसलमान?

इनसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका के अनुसार वीगर मुसलमान मूलतः तुर्की मूल के मुसलमान हैं। वीगर मुसलमान नस्ली और भाषायी तौर पर चीनी हान के बनिस्बत मध्य एशिया के तुर्कमान, अज़ेरी और कज़ाक मुसलमानों के करीबी हैं। चीन में करीब एक करोड़ वीगर रहते हैं।

ब्रिटैनिका के अनुसार चीन में 1949 में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (CPP) के सत्ता में आने के बाद तिब्बत और शिनजियांग जैसे स्वायत्तशासी क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया।

चीन की राजधानी बीजिंग से करीब 1400 किलोमीटर दूर शिनजियांग में पिछले कुछ सालों में चरमपंथी गतिविधियों में बढ़ोतरी आयी है। 

साल 2009 में शिनजियांग में बड़े पैमाने पर दंगे हुए जिसमें करीब 200 लोगों की मौत हुई थी। चीनी सरकार ने शिनजियांग में हजारों की संख्या में रेड आर्मी के जवान तैनात कर दिये थे।

ब्रिटैनिका के अनुसार चीन के इंटरनेट सर्च इंजन और सोशल मीडिया साइटों पर वीगर और शिनजियांग जैसे शब्दों को सर्च नहीं किया जा सकता।

शिनजियांग प्रांत में चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने नाबालिग बच्चों पर किसी भी तरह के धार्मिक रिति-रिवाज या कर्मकांड में शामिल होने के लिए दबाव बनाने वाले अभिभावकों के लिए सजा का प्रावधान किया हुआ है।

शिनजियांग में सरकार कर्मचारी रमज़ान के दौरान रोज़ा (उपवास) नहीं रख सकते। चीन सरकार ने शिनजियांग के स्कूलों में भी कम्युनिस्ट विचारधारा के अनुरूप शिक्षा देने की व्यवस्था की हुई है।

English summary :
In the international media, a news has come under suspicion over the past few weeks. According to some media reports, the Communist Government of China has kept hostage 10 lakhs of Uyghurs Muslims to the "training for employment" in Xinjiang Province.


Web Title: China one million Uyghurs Muslims in xinjiang are captive in training camp but why
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे