Highlightsबुधवार का दिन भगवान गणेश जी को समर्पित माना जाता है।हिन्दू धर्म में भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है।

Lord Ganesha Pooja: भगवान श्री गणेश शिवजी और पार्वती के पुत्र हैं। उनका वाहन डिंक नामक मूषक है। गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है। ज्योतिष में इनको केतु का देवता माना जाता है और जो भी संसार के साधन हैं, उनके स्वामी श्री गणेशजी हैं। हाथी जैसा सिर होने के कारण उन्हें गजानन भी कहते हैं। गणेश जी का नाम हिन्दू शास्त्रों के अनुसार किसी भी कार्य के लिये पहले पूज्य है। इसलिए इन्हें प्रथमपूज्य भी कहते हैं।

गणपति आदिदेव हैं जिन्होंने हर युग में अलग अवतार लिया। उनकी शारीरिक संरचना में भी विशिष्ट व गहरा अर्थ निहित है। शिवमानस पूजा में श्री गणेश को प्रणव (ॐ) कहा गया है। इस एकाक्षर ब्रह्म में ऊपर वाला भाग गणेश का मस्तक, नीचे का भाग उदर, चंद्रबिंदु लड्डू और मात्रा सूँड है।

चारों दिशाओं में सर्वव्यापकता की प्रतीक उनकी चार भुजाएँ हैं। वे लंबोदर हैं क्योंकि समस्त चराचर सृष्टि उनके उदर में विचरती है। बड़े कान अधिक ग्राह्यशक्ति व छोटी-पैनी आँखें सूक्ष्म-तीक्ष्ण दृष्टि की सूचक हैं। उनकी लंबी नाक (सूंड) महाबुद्धित्व का प्रतीक है।

 

हिन्दू धर्म में भगवान गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है। यानी ऐसे देव जिनकी उपस्थिति में कभी कोई विघ्न नहीं आ सकता है। ऐसी मान्यता प्रचलित है कि गणेश जी अपने भक्त की हर दुःख और परेशानी को हर लेते हैं।

बुधवार का दिन भगवान गणेश जी को समर्पित माना जाता है तो इसी को ध्यान में रखते हुए हम यहां बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे उपाय जिन्हें बुधवार या किसी भी माह की चतुर्थी पर किया जा सकता है। ये उपाय आपको सुख-समृद्धि दिलाएंगे और साथ ही रोग-शोक से भी मुक्ती भी दिलाएंगे। 

1. अगर जीवन में दुःख परेशानियां चल रही हों तो किसी भी बुधवार के दिन या शाम को हाथी को हरा चारा खिलाएं। शास्त्रों में हाथी को भगवान गणेश का रूप और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हरा बुधवार का शुभ रंग माना जाता है। इसलिए इसदिन हरी वास्तु या अन्न हमेशा दान करना चाहिए। 

2. बुधवार के दिन सुबह स्नान करने के बाद गणेश मंत्र का एक माला जाप करें - "ॐ गं गणपतये नमः" मंत्र जाप के बाद गणेश जी को लड्डू या मोदक का भोग लगाने से मनोकामना जल्द पूर्ण होती है। 

3. अगर आप किसी विशेष मनोकामना की पूर्ती चाहते हैं तो किसी भी बुधवार की सुबह गणेश मंदिर जाएं और वहां श्रीगणेश को 21 गुड़ की ढेली के साथ दुर्वा रखकर चढ़ाएं। इस उपाय से मनोकामना पूर्ण होगी और साथ ही धन लाभ के भी योग बनेंगे। 

4. संतान सुख से वंचित महिला हर बुधवार श्रीगणेश के मंत्र जाप के साथ उन्हें दो लड्डुओं का भोग लगाए। ध्यान रहे कि लड्डू का यह प्रसाद घर पर ही  बना हो और भोग लगाने के बाद महिला स्वयं इसे ग्रहण जरूर करे। 

5. किसी भी बुधवार के दिन या शाम को श्रीगणेश का अभिषेक करें। शास्त्रों के अनुसार ऐसा करने से सुखों की प्राप्ति होती है और भगवान गणेश हर दुःख से आपको दूर रखते हैं।

Web Title: How to Please Lord Ganesha on wednesday wednesday upay
पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे