Sudarshan Patnaik created history, first Indian to receive 'Italian Golden Sand Art Award' | सुदर्शन पटनायक ने रचा इतिहास, ‘इटैलियन गोल्डन सैंड आर्ट अवार्ड’ पाने वाले पहले भारतीय
महोत्सव में हिस्सा लेने वाले विभिन्न देशों से आठ मूर्तिकार थे।

Highlightsरोम में शुक्रवार को एक कार्यक्रम में प्रोमूवी इंटरनेशनल स्कोरानो सैंड नेटिविटी के अध्यक्ष वितो माराशिओ से यह पुरस्कार मिला।भारतीय दूतावास की उपराजदूत निहारिका सिंह भी पुरस्कार समारोह में उपस्थित थीं।

प्रख्यात भारतीय रेत कलाकार सुदर्शन पटनायक को रोम में एक समारोह में ‘इटैलियन गोल्डन सैंड आर्ट अवार्ड, 2019’ से सम्मानित किया गया है। रेत कला में अपने योगदानों के लिये इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को जीतने वाले वह पहले भारतीय हैं।

इटली के लेचे में 13 नवंबर से 17 नवंबर तक आयोजित ‘इंटरनेशनल स्कोरानो सैंड नेटिविटी’ कार्यक्रम में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए पटनायक ने रूसी कलाकार पैवेल मिनिकोव के साथ मिलकर महात्मा गांधी की 10 फुट ऊंची रेत आकृति बनायी।

पटनायक ने ट्वीट किया, ‘‘रोम में शुक्रवार को एक कार्यक्रम में प्रोमूवी इंटरनेशनल स्कोरानो सैंड नेटिविटी के अध्यक्ष वितो माराशिओ से यह पुरस्कार मिला। भारतीय दूतावास की उपराजदूत निहारिका सिंह भी पुरस्कार समारोह में उपस्थित थीं।’’

महोत्सव में हिस्सा लेने वाले विभिन्न देशों से आठ मूर्तिकार थे। ‘पद्मश्री’ से सम्मानित पटनायक ने कहा, ‘‘इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को पाकर मैं बहुत गौरवान्वित और सम्मानित महसूस कर रहा हूं।’’ पटनायक ने अब तक 60 से अधिक अंतरराष्ट्रीय रेत कला महोत्सवों और दुनिया भर की प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया है तथा भारत के लिये पुरस्कार जीते हैं।

शुक्रवार को इटली में भारतीय राजदूत रीनत संधू से उनकी मुलाकात हुई, जिन्होंने उनकी उपलब्धियों के लिये बधाई दी। 

Web Title: Sudarshan Patnaik created history, first Indian to receive 'Italian Golden Sand Art Award'
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे