jharkhand: ATS arrested al qaeda terrorists from jamshedpur | झारखंड: ATS को मिली बड़ी कामयाबी, अलकायदा के आतंकी को किया गिरफ्तार, पूछताछ जारी
आतंकी के बारे में कहा जा रहा है कि यह स्‍लीपर सेल की सहायता से देश को दहलाने वाले किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था.

Highlightsमोस्टवांटेड आतंकी कलीमुद्दीन लंबे समय से फरार चल रहा था और उसे गिरफ्तार किया है एडीजी मोरारीलाल मीणा ने बताया कि कलीमुद्दीन के तार अलकायदा से जुड़े हैं.

झारखंड एटीएस ने ओसामा बिन लादेन के वैश्विक आतंकी संगठन अलकायदा के एक कुख्यात आतंकी को जमशेदपुर से गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि पकड़ा गया आतंकी स्‍लीपर सेल की सहायता से देश को दहलाने की साजिश रच रहा था. मोस्टवांटेड आतंकी कलीमुद्दीन लंबे समय से फरार चल रहा था और उसे गिरफ्तार करने के लिए एटीएस काफी कोशिशें कर रही थी. अब जाकर एटीएस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है.

एटीएस के एडीजी मोरारीलाल मीणा ने बताया कि कलीमुद्दीन के तार अलकायदा से जुड़े हैं. इतना ही नहीं यह आईएसआईएस के लिए लोगों की सप्‍लाई भी करता था. इसका असल नाम कलीमुद्दीन मजाहरी है. कलीमुद्दीन से पूछताछ में मिली जानकारी के मुताबिक इसका मुख्‍य काम जेहाद के लिए प्रेरित करना था. 

फिलहाल इससे और पूछताछ की जा रही है. इस आतंकी के बारे में कहा जा रहा है कि यह स्‍लीपर सेल की सहायता से देश को दहलाने वाले किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था. झारखंड एटीएस उससे अज्ञात स्‍थान पर रखकर कड़ाई से पूछताछ कर रही है. गिरफ्तार आतंकी मौलाना कलीमुद्दीन झारखंड के जमशेदपुर के मानगो इलाके के आजादनगर थाना क्षेत्र का रहनेवाला बताया गया है. वह लंबे समय से आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़ा हुआ है. देश भर की सुरक्षा एजेंसियों को वर्ष 2016 से ही अलकायदा के इस कुख्‍यात आतंकी की तलाश थी.  

पुलिस सूत्रों के मुताबिक अलकायदा के जिस कुख्‍यात आतंकी को पकड़ा गया है, यह आतंकी संगठन में काफी बड़े ओहदे पर काम कर रहा था. देशभर की पुलिस के साथ ही एनआइए को भी इस आतंकी की तलाश थी. एटीएस के एडीजी अभियान मुरारी लाल मीणा ने अलकायदा के आतंकी मोहम्मद कलीमुद्दीन की गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए बताया कि झारखंड में स्लीपर सेल तैयार करना और जिहाद के लिए लोगों को तैयार करना इसका मुख्य काम था. 

मूल रूप से यह रांची के चान्हो के राड़गांव का रहने वाला है. फिलहाल जमशेदपुर के आजाद नगर में ठिकाना बनाया हुआ था. तिहाड जेल में बंद आतंकवादी अब्दुल रहमान उर्फ कटकी, अब्दुल सामी सहित अन्य का मुख्य सहयोगी है. यह 2001 में अलकायदा से जुड़ा था. मौलाना कलीमुद्दीन को अलकायदा के ईस्टर्न इंडिया जोन का प्रभारी बनाया गया था. जिहाद की मानसिकता रखने वाले लोगों को चिन्हित कर अपने पास बुलवाकर अलकायदा आतंकी संगठन से जोड़ना मुख्य काम था. इसके खिलाफ जमशेदपुर बिष्टुपुर थाना में 25 जनवरी 2016 को मामला दर्ज किया गया था. सऊदी अरब, बांग्लादेश और अफ्रीका जैसे देशों का भ्रमण कर चुका है.

बताया जा रहा है कि मोस्ट वांटेड आतंकवादी मोहम्मद कलीमउद्दीन प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन अलकायदा के सक्रिय आतंकवादी मोहम्मद अब्दुल रहमान अली उर्फ कटकी जो वर्तमान में तिहाड जेल दिल्ली में बंद वह उसका सहयोगी है. कटकी के अलावा अब्दुल सामी, अहमद मसूद, राजू उर्फ नसीम अख्तर और जीशान हैदर का सहयोगी रहा है. कहा जा रहा है कि जमशेदपुर का आजाद नगर, जहां से अलकायदा आतंकी मौलाना कलीमुद्दीन को पकड़ा गया है, यह इलाका आतंकियों का शरणगाह है. कोलकाता के अमेरिकन सेंटर पर हमला करने वाला नूर मुहम्मद भी यहीं से पकड़ा गया था. यहां का रहनेवाला अब्दुल सामी अलकायदा से जुड़ा था. जिसकी गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने हरियाणा के मेवात की थी. समी ने पूछताछ में पुलिस को कई महत्वपूर्ण व चौंकाने वाली जानकारी दी थी. अब्दुल सामी ने बताया था कि जनवरी 2014 में वह दुबई के रास्ते पाकिस्तान गया था, वहां करांची में कुछ दिन रूकने के बाद पाकिस्तान के मंसेरा में हथियार चलाने का प्रशिक्षण लिया था. इसके बाद जनवरी 2015 में वह भारत आ गया था. वह कटक से गिरफ्तार आतंकवादी अब्दुल रहमान उर्फ कटकी के संपर्क में था. झारखंड एटीएस उस गिरफ्तार कर अज्ञात स्‍थान ले गई है जहां उससे कडाई से पूछताछ जारी है. गिरफ्तार आतंकी भारत में अलकायदा के लिए काम करने में जुटा हुआ था.


Web Title: jharkhand: ATS arrested al qaeda terrorists from jamshedpur
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे