Blood Pressure ka ilaj: 'साइलेंट किलर' ब्लड प्रेशर के लक्षण और घरेलू इलाज क्या है ?

By उस्मान | Published: February 6, 2021 01:11 PM2021-02-06T13:11:20+5:302021-02-06T13:11:20+5:30

ब्लड प्रेशर के लक्षणों को अच्छी तरह समझ लें ताकि आपको किसी गंभीर स्थिति का सामना न करना पड़े

how to lower blood pressure: causes and symptoms of blood pressure, blood pressure norman range, tips and home remedies for blood pressure, blood pressure kam karne ke upay, blood pressure ka gharelu ilaj, blood pressure ki dawa in Hindi | Blood Pressure ka ilaj: 'साइलेंट किलर' ब्लड प्रेशर के लक्षण और घरेलू इलाज क्या है ?

ब्लड प्रेशर का इलाज

Next
Highlightsजानिये बीपी को साइलेंट किलर क्यों कहा जाता है लक्षणों को समझकर इलाज में मिल सकती है मददहेल्दी लाइफस्टाइल बीपी से कर सकता है बचाव

ब्लड प्रेशर का बढ़ना एक गंभीर समस्या है जिसका समय पर इलाज नहीं होने से मरीज की जान जा सकती है। ब्लड प्रेशर बढ़ने से धमनियों की दीवारों के खिलाफ रक्त का बल लगातार बहुत अधिक होता है। इस स्थिति को हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन कहा जाता है। इस दबाव के कारण कई समस्याएं हो सकती हैं। इनमें हृदय रोग भी शामिल हैं उच्च रक्तचाप को 'साइलेंट किलर' भी कहा जाता है।

ब्लड प्रेशर क्यों बढ़ता है

ब्लड प्रेशर बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं. मुख्यतः ब्लड प्रेशर के बढ़ने के कारणों में अचानक दवाएं बंद कर देना, अन्हेल्दी डाइट, किडनी से जुड़ी दवाओं का सेवन, एक्सरसाइज की कमी, सर्दियों में नसों के सिकुड़ना और अत्यधिक तनाव लेना आदि शामिल हैं. 

ब्लड प्रेशर के लक्षण

ब्लड प्रेशर बढ़ने पर मरीज को छाती में दर्द, सांस लेने में कठिनाई, कमजोरी, दृष्टि में परिवर्तन, बोलने में कठिनाई और भयानक सिरदर्द आदि की समस्या हो सकती है। इस तरह के लक्षण दिखने पर आपको तुरंत चिकित्सीय सहायता लेनी चाहिए। 

ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए

नॉर्मल ब्लड प्रेशर 90 / 60mmHg और 120 / 80mmH के बीच माना जाता है। यदि आपका रक्तचाप 180/120 या इससे अधिक है आपको आपातकालीन देखभाल लेनी चाहिए। ब्लड प्रेशर बढ़ने से आपके कई अंगों को नुकसान हो सकता है। 

50 से 55 साल की उम्र में पुरुषों का ब्लड प्रेशर 128-85mmHg और महिलाओं का 129-85mmHg होना चाहिए। जबकि 60 साल से अधिक के पुरुषों का ब्लड प्रेशर 135-88mmHg और महिलाओं का 134-84mmHg होना चाहिए। 

ब्लड प्रेशर नापने का तरीका

ब्लड प्रेशर दो संख्याओं के साथ दर्ज किया जाता है - सिस्टोलिक और डायस्टोलिक दबाव। सिस्टोलिक दबाव (उच्च संख्या) वह बल है जिस पर आपका हृदय आपके शरीर के चारों ओर रक्त पंप करता है। चक्कर आना, सिरदर्द और सीने में दर्द आपातकालीन चेतावनी इसके संकेत हैं। दूसरा है डायस्टोलिक दबाव (कम संख्या) रक्त वाहिकाओं में रक्त के प्रवाह का प्रतिरोध है।

ब्लड प्रेशर के लिए गोली

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए BP Tel 40mg  टैबलेट का इस्तेमाल किया जाता है। यह दवा ब्लड प्रेशर को कम करके भविष्य में होने वाले हार्ट अटैक और स्ट्रोक की रोकथाम में मदद कर सकती है। ध्यान रहे कि कोई भी दवा लेने से पहले आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

ब्लड प्रेशर का घरेलू इलाज

ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए वजन घटाने सबसे प्रभावी तरीका है। आपको सप्ताह में 150 मिनट, या सप्ताह के अधिकांश दिनों में लगभग 30 मिनट एक्सरसाइज करनी चाहिए। 

ऐसे आहार का सेवन करना जो साबुत अनाज, फल, सब्जियों और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों से भरपूर हो और संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल को कम करता हो। भोजन में सोडियम की थोड़ी सी भी कमी आपके हृदय के स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है और रक्तचाप कम हो सकता है।

इस समस्या से बचने के लिए आपको शराब का कम सेवन करना चाहिए। इसके अलावा आपको स्मोकिंग और कैफ़ीन के अधिक सेवन से बचना चाहिए। एक्सपर्ट्स मानते हैं कि तनाव भी इसका एक बड़ा कारण है इसलिए आपको तनाव से बचना चाहिए। 

Web Title: how to lower blood pressure: causes and symptoms of blood pressure, blood pressure norman range, tips and home remedies for blood pressure, blood pressure kam karne ke upay, blood pressure ka gharelu ilaj, blood pressure ki dawa in Hindi

स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे