यूपी चुनावः सपा-रालोद गठबंधन की पहली रैली, अखिलेश यादव और जयंत चौधरी बोले-किसानों का इंकलाब, बाइस में बदलाव, देखें वीडियो

By सतीश कुमार सिंह | Published: December 7, 2021 04:56 PM2021-12-07T16:56:57+5:302021-12-07T16:58:58+5:30

उत्तर प्रदेश चुनाव: राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) अध्यक्ष जयंत चौधरी और समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए दोनों दलों के बीच गठबंधन की औपचारिक घोषणा की।

uttar pradesh 2022 SP chief Akhilesh Yadav and RLD chief Jayant Chaudhary hold a joint rally in Meerut | यूपी चुनावः सपा-रालोद गठबंधन की पहली रैली, अखिलेश यादव और जयंत चौधरी बोले-किसानों का इंकलाब, बाइस में बदलाव, देखें वीडियो

भाईचारे को मजबूत करने लिए रालोद-सपा के कार्यकर्ता खड़े हैं।

Next
Highlightsकिसानों और युवाओं ने मिलकर भाजपा को भगाने का फैसला लिया कर लिया है।अखिलेश यादव ने दावा किया कि गठबंधन, किसानों को उनका हक दिलाएगा।भाजपा के मंत्री और समर्थकों ने किसानों को गाड़ी से कुचल दिया है।

मेरठः समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) प्रमुख जयंत चौधरी ने मेरठ में एक संयुक्त रैली की। दोनों नेता ने भाजपा और योगी सरकार पर हमला किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि ‘‘उत्तर प्रदेश में बदलाव की शुरुआत आज हो गई है।’’

अखिलेश यादव ने कहा कि मेरठ के लोग बदलाव चाहते हैं, यूपी में युवाओं के पास नौकरी नहीं है, यहां के किसान बीजेपी सरकार से छुटकारा पाना चाहते हैं। भाजपा सरकार के झूठे वादों से उन्हें मूर्ख बनाया गया। यहां डबल इंजन की सरकार फेल हो गई है। गन्ना किसान अपना बकाया भुगतान चाहते हैं।

योगी आदित्यनाथ को प्रधानमंत्री से कहना चाहिए कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की आधारशिला समाजवादी पार्टी ने रखी थी और उन्हें लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों के बारे में भी सोचना चाहिए।उत्तर प्रदेश के मेरठ जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर दबथुआ गांव में मंगलवार को हुई रैली में राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) अध्यक्ष जयंत चौधरी और समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आगामी विधानसभा चुनावों के लिए दोनों दलों के बीच गठबंधन की औपचारिक घोषणा की।

अखिलेश यादव ने रैली में जमा भीड़ की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘इस समय का उत्साह बता रहा है कि वर्ष 2022 में बदलाव होगा।’’ उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ इस बार पश्चिम (उत्तर प्रदेश) में भाजपा का सूरज नहीं उगेगा। यहां के किसानों और युवाओं ने मिलकर भाजपा को भगाने का फैसला लिया कर लिया है।’’ सपा प्रमुख ने कहा,‘‘उनका गठबंधन चाहता है कि किसानों को उनका हक मिले और एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर ठोस फैसला हो।

लेकिन भाजपा किसानों के हक में फैसला नहीं करना चाहती है।’’ अखिलेश यादव ने दावा किया कि गठबंधन, किसानों को उनका हक दिलाएगा। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘ भाजपा के मंत्री और समर्थकों ने किसानों को गाड़ी से कुचल दिया है। मान छीना है, भाजपा को जाना होगा।’’ सपा प्रमुख ने कहा, ‘‘भाजपा सरकार ने हवाई जहाज बेच दिये, एयरपोर्ट बेच दिये, रेलवे स्टेशन बेच दिये। हवाई चप्पल वाले को हवाई जहाज में बैठाने का क्या हुआ। आज मोटरसाइकिल चलाना भी मुश्किल हो गया है। लेकिन भाईचारे को मजबूत करने लिए रालोद-सपा के कार्यकर्ता खड़े हैं।’’

अखिलेश यादव ने कहा, ‘‘भाजपा के पास मुद्दे नहीं हैं। वे बस हमारे बीच खाई पैदा करते हैं।’’ उन्होंने तंज कसते हुए कहा, ‘‘ जो पैदा करें खाई, वही भाजपाई।’’ उन्होंने इसके साथ ही लोगों से चौधरी चरण सिंह और चौधरी अजीत सिंह की विरासत को बचाने के लिए एकजुट होकर मतदान करने की अपील की। सपा प्रमुख ने सरकार बनने पर किसानों का बकाया भुगतान करने और सस्ती दरों पर बिजली उपलब्ध कराने की भी घोषणा की। उन्होंने भाजपा के विकास के दावों का माखौल उड़ाते हुए कहा, ‘‘ भाजपा की हर बात झूठी है। विकास का फिल्मी घोड़ा है, जो दौड़ता दिखता है लेकिन असल में दौड़ता नहीं है।’’

वहीं, जयंत चौधरी ने गठबंधन के बारे में कहा, ‘‘ अखिलेश जी और मैं एक साथ इस संबंध की घोषणा कर रहे हैं। हमारी डबल इंजन की सरकार का पहला काम शहीद किसानों का स्मारक बनाना होगा, जो चौधरी चरण सिंह की इस जमीन पर प्रदर्शन करने के दौरान मारे गए।’’ उन्होंने तंज कसते हुए कहा, ‘‘भाजपा वाले अपने को फायर ब्रांड नेता कहते हैं, लेकिन उनमें कोई फयर ब्रांड नेता नहीं है। अगर होते तो जब उत्तर प्रदेश में किसानों पर अत्याचार हो रहा था तब वह कहां थे।’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘ योगी जी (मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ) औरंगजेब से शुरुआत करते हैं या जाते हैं कैराना। नौजवान मजदूर बनने को पलायन करता है। यह उन्हें दिखाई नहीं देता। बिजनौर में उद्घाटन करने के दौरान ही सड़क टूट गई।’’ रालोद अध्यक्ष ने कहा, ‘‘ बाबा (योगी) तभी खुश नजर आते हैं जब बछड़ों के बीच होते हैं। उन्हें गोरखपुर भेज दो।

सरकारी काम उनसे संभल नहीं रहा। हम भूल नहीं सकते किसानों को रौंदा गया था।’’ गौरतलब है कि जयंत चौधरी और अखिलेश तय कार्यक्रम से करीब एक घंटा विलंब से दोपहर बाद एक बजकर 19 मिनट पर दबथुवा रैलीस्थल पहुंचे थे।

Web Title: uttar pradesh 2022 SP chief Akhilesh Yadav and RLD chief Jayant Chaudhary hold a joint rally in Meerut

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे