Lok Sabha elections 2019: Phase 3 polls in UP to decide fate of four members of Mulayam’s clan | लोकसभा चुनावः इस बार चुनावी समर में शरद पवार, मुलायम सिंह यादव और पूर्व पीएम देवगौड़ा का परिवार, कौन मारेगा बाजी
शरद पवार, मुलायम सिंह यादव और एचडी देवगौड़ा

Highlights2019 के लोकसभा चुनाव में कई परिवारों की विरासत दांव पर, हर दल में परिवार के लोग लड़ रहे चुनावएनसीपी प्रमुख शरद पवार के बेटी सुप्रिया सुले बारामती से और पौत्र पार्थ पवार मावल से चुनावी मैदान मेंलोकसभा चुनाव 2019 में सपा संरक्षक व पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव परिवार के 6 सदस्य मैदान में हैं।

लोकसभा चुनाव में परिवारवाद जारी है। हर दल में परिवार के लोग चुनाव लड़ रहे हैं। कोई किसी से कम नहीं है। लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव अहम भी है। 

महाराष्ट्र राजनीति के दिग्गज नेता शरद पवार, उत्तर प्रदेश से मुलायम सिंह यादव और कर्नाटक से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा परिवार चुनावी दंगल में हैं। बीते 4-5 दशक की सियासत की बात होगी, तो इन परिवार का जिक्र सबसे पहले होगा, सूबे के साथ-साध देश की राजनीति में इन परिवार का दखल है।

 2019 के लोकसभा चुनाव में कई परिवारों की विरासत दांव पर है। प्रसिद्ध समाजवादी डॉ. राममनोहर लोहिया ने चेताया था कि जिसमें नेतृत्व क्षमता हो, वे आगे आएं। राजनीति में वंशवाद को कोई स्थान नहीं होना चाहिए। हमारे देश में राजनीति एक बढ़िया व्यवसाय बनने जा रही है, जिसमें न तो किसी शैक्षणिक योग्यता की जरूरत होती है और न ही किसी विशेषज्ञता की। 

उम्र का कोई बंधन नहीं और रिटायरमेंट के लिए कोई जगह नहीं। पूरा भारत ही परिवारवाद से चलता है। सभी सियासी पार्टियां परिवार के रोग से ग्रस्त हैं। कई राजनेता और कई दल इसी की चपेट में हैं। 

महाराष्ट्र में मराठा दिग्गज शरद परिवार

महाराष्ट्र के राजनीतिक परिवारों में विरासत लगी है। एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार की बेटी बारामती से चुनावी मैदान में हैं। शरद पवार के भतीजे अजीत पवार और उनकी बेटी सुप्रिया सुले महाराष्ट्र में जाना पहचाना नाम हैं, जिन पर एनसीपी की पूरी राजनीति चलती रही है।

बारामती लोकसभा सीट एनसीपी के सबसे बड़े गढ़ के रूप में जानी जाती है। पिछले 27 साल से इस सीट पर पवार परिवार का कब्जा है। यहां से शरद पवार 6 बार, उनकी बेटी सुप्रिया सुले दो बार और उनके भतीजे अजीत पवार एक बार सांसद रहे हैं। 

शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले के कंधे पर पवार परिवार की राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की जिम्मेदारी है। महाराष्ट्र की मावल लोकसभा सीट से पहली बार एनसीपी प्रमुख शरद पवार के पौत्र और अजीत पवार के बेटे पार्थ पवार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

दिल्ली की राजनीति में पवार परिवार की सुप्रिया सुले, पार्थ पवार और शरद पवार (राज्य सभा से) तीन सदस्यों की मौजूदगी होगी, वहीं, महाराष्ट्र की विधानसभा में अजित पवार और रोहित पवार मौजूद होंगे। शरद पवार के भाई अप्पा साहेब पवार के बेटे का नाम राजेंद्र पवार था। अब राजेंद्र के 31 साल के बेटे रोहित को राजनीति में दिलचस्पी है। हाल ही में वह पुणे जिला परिषद के सदस्य बने हैं।

यूपी राजनीति में मुलायम सिंह यादव परिवार

लोकसभा चुनाव 2019 में मुलायम सिंह यादव परिवार अहम है। इस चुनाव में परिवार के 6 सदस्य मैदान में हैं। इस बार के लोकसभा चुनाव में मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव, आजमगढ़ से अखिलेश यादव, कन्नौज से डिंपल यादव, बदायूं से धर्मेंद्र यादव तो वहीं फिरोजाबाद से अक्षय यादव चुनाव लड़ रहे हैं।

साल 2014 के चुनाव में भी मुलायम परिवार पांच सीटें जीतने में कामयाब हुआ था। मुलायम सिंह यादव के भाई और अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के टिकट पर भतीजे अक्षय यादव के खिलाफ फिरोजाबाद सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

मुलायम सिंह यादव तीन बार यूपी के सीएम रहे, भारत के रक्षामंत्री रहे। एक आंकलन ये है कि 30 लोग इस परिवार के ऐसे हैं, जो किसी न किसी रसूखदार राजनीतिक पद पर हैं। मुलायम के  चचेरे भाई राम गोपाल यादव राज्यसभा सांसद हैं।

कर्नाटक में एचडी देवगौड़ा परिवार

लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण में वोट डाल दिए गए। इसके साथ ही देवगौड़ा परिवार का भविष्य ईवीएम में कैद हो गया। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और उनके दो पोते अलग-अलग सीटों से चुनावी मैदान में उतरे हैं।

कर्नाटक की तुमकुर लोकसभा सीट सुर्खियों में है, यहां से पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा चुनावी मैदान में उतरे हैं। कर्नाटक की हासन लोकसभा सीट देवगौड़ा परिवार की परंपरागत सीट मानी जाती है। इस सीट पर पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा के पोते प्रज्ज्वल रेवन्ना चुनावी मैदान में उतरे हैं। प्रज्जवल रेवन्ना प्रदेश के पीडब्लूडी मंत्री एच डी रेवन्ना के बेटे हैं।

 हासन सीट की तरह की है मंड्या लोकसभा सीट भी 'देवगौड़ा परिवार' की परंपरागत सीट रही है। इस सीट पर देवगौड़ा के पोते निखिल कुमारस्वामी मैदान में उतरे हैं। निखिल कुमारस्वामी कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बेटे हैं।


Web Title: Lok Sabha elections 2019: Phase 3 polls in UP to decide fate of four members of Mulayam’s clan