जम्मू कश्मीर: तीन दशकों में आतंकियों ने 1724 की हत्या की, उनमें से 89 कश्मीरी पंडित

By विशाल कुमार | Published: December 15, 2021 11:23 AM2021-12-15T11:23:38+5:302021-12-15T11:30:15+5:30

आरटीआई कार्यकर्ता पीपी कपूर द्वारा दायर एक आवेदन के जवाब में श्रीनगर में जिला पुलिस मुख्यालय के एक डीएसपी ने बताया कि 1990 में आतंकवाद की शुरुआत के बाद से हमलों में 89 कश्मीरी पंडित मारे गए थे।

Jammu kashmir in-3-decades-militants-killed-1724-89-of-them-are-kashmiri-pandits-rti | जम्मू कश्मीर: तीन दशकों में आतंकियों ने 1724 की हत्या की, उनमें से 89 कश्मीरी पंडित

(प्रतीकात्मक तस्वीर: पीटीआई)

Next
Highlights89 कश्मीरी पंडितों के अलावा अन्य धर्मों के 1,635 लोगों की भी हत्या की गई।प्रत्येक पंजीकृत कश्मीरी प्रवासी को 9 किलो चावल, 2 किलो आटा और 1 किलो चीनी दी जा रही।राशन के अलावा प्रतिमाह सहायता के रूप में 3,250 रुपये का भुगतान किया जा रहा है।

श्रीनगर: पिछले तीन दशकों में जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों ने 1,724 लोगों की हत्या की, जिसमें 89 कश्मीरी पंडित थे। एक आरटीआई कार्यकर्ता द्वारा प्राप्त जानकारी से पता चला है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, हरियाणा के समालखा (पानीपत) से आरटीआई कार्यकर्ता पीपी कपूर द्वारा दायर एक आवेदन के जवाब में श्रीनगर में जिला पुलिस मुख्यालय के एक डीएसपी ने बताया कि 1990 में आतंकवाद की शुरुआत के बाद से हमलों में 89 कश्मीरी पंडित मारे गए थे।

जानकारी के मुताबिक, इसी दौरान 89 कश्मीरी पंडितों के अलावा अन्य धर्मों के 1,635 लोगों की भी हत्या की गई।

प्रवासी कश्मीरी पंडितों को केंद्र और राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जा रही वित्तीय सहायता सहित सुविधाओं से संबंधित एक प्रश्न के उत्तर में, यह बताया गया कि प्रत्येक पंजीकृत कश्मीरी प्रवासी को 9 किलोग्राम चावल, 2 किलो आटा और 1 किलो चीनी राशन के अलावा प्रतिमाह सहायता के रूप में 3,250 रुपये का भुगतान किया जा रहा है।

भाजपा पर कश्मीरी पंडितों के लिए पर्याप्त काम नहीं करने और उनके नाम पर सिर्फ वोट की राजनीति में शामिल होने का आरोप लगाया। कपूर ने कहा कि हिंदू, मुस्लिम और सिखों सहित 1.54 लाख लोग आतंकवाद की शुरुआत के बाद से घाटी छोड़ चुके हैं।

इनमें से आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, 53,958 हिंदू, 11,212 मुस्लिम, 5,013 सिख राहत नीति के अनुसार सरकार से मदद ले रहे थे, जबकि 81,448 हिंदू, 949 मुस्लिम और 1,542 सिख आरटीआई के जवाब के अनुसार राहत का लाभ नहीं उठा रहे थे।

केंद्र सरकार ने इस साल मार्च में संसद को बताया था कि 1990 के दशक से लगभग 3,800 कश्मीरी प्रवासी कश्मीर लौट आए हैं और 520 प्रधानमंत्री पैकेज के तहत नौकरी लेने के लिए अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के बाद से वापस आ गए हैं।

Web Title: Jammu kashmir in-3-decades-militants-killed-1724-89-of-them-are-kashmiri-pandits-rti

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे