Gehlot seeks cooperation from all to combat horrific phase of corona infection | गहलोत ने कोरोना संक्रमण के भयावह दौर से मुकाबले के लिए सभी से सहयोग मांगा
गहलोत ने कोरोना संक्रमण के भयावह दौर से मुकाबले के लिए सभी से सहयोग मांगा

जयपुर, 14 अप्रैल राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ने के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा है कि कोरोना महामारी से प्रदेश की जनता को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना संक्रमण के भयावह दौर से मुकाबले के लिए सभी से सहयोग मांगा।

गहलोत ने राजनैतिक एवं धार्मिक-सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों तथा धर्मगुरूओं के साथ मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संवाद किया। उन्होंने कहा, ‘‘हम लोगों को समझाकर और सख्ती करके अपनी जिम्मेदारी को निभाएंगे, जिसमें सभी संगठनों, धार्मिक-सामाजिक संस्थाओं, महत्वपूर्ण व्यक्तियों और आम लोगों के सहयोग की सख्त आवश्यकता है।’’

उन्होंने कहा कि प्रतिदिन छह हजार से अधिक नये संक्रमित आने तथा केवल अप्रैल में ही इस संक्रमण 161 से अधिक मौतों से स्पष्ट है कि संक्रमण का यह दौर भयावह है।

उन्होंने कहा, ‘‘कोविड संक्रमण की पहली लहर के दौरान आमजन स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का समुचित पालन कर रहे थे, इसी कारण हम महामारी से बच पाए। इस बार जबकि संक्रमण अधिक तेजी से फैल रहा है, ज्यादा घातक है और कम उम्र के लोगों को भी चपेट में ले रहा है। इसके बावजूद आम लोगों ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना छोड़ दिया है, यह गंभीर चिंता का विषय है।’’

संवाद में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के प्रतिनिधि डी.के. छंगाणी सहित अन्य सभी सामाजिक संगठनों, व्यापारी संघों, कर्मचारी संगठनों के नेताओं ने महामारी के प्रकोप से बचाव के लिए बीते एक वर्ष के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा लिए गए निर्णयों की सराहना की।

सभी ने एक स्वर में संक्रमण की दूसरी लहर पर नियंत्रण के लिए कठोर कदम उठाने की अपील की। उन्होंने कहा कि आम लोगों द्वारा कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने के कारण पैदा हुई गंभीर स्थिति पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार के सभी निर्णयों एवं दिशा-निर्देशों का पालन करने में उनके संगठन पूरा सहयोग करेंगे।

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने दूसरी लहर में अधिक संक्रात्मकता पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पिछली लहर के मुकाबले इस बार प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में आधारभूत ढ़ांचे और सुविधाओं की उपलब्धता अधिक है। उन्होंने कहा कि लेकिन आम जनता द्वारा अनुशासन का पालन नहीं करने से संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि यदि लोग लापरवाही करते रहेंगे तो सभी चिकित्सकीय इन्तजाम कम पड़ सकते हैं।

शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर द्वारा आयोजित की जाने वाली 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाओं को फिलहाल स्थगित किया गया है। साथ ही, कक्षा आठ के विद्यार्थियों को 9वीं कक्षा, कक्षा 9 के विद्यार्थियों को 10वीं तथा कक्षा 11व़ीं के विद्यार्थियों को 12वीं कक्षा में प्रमोट करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्कूलों में अध्यापन कार्य फिलहाल बंद होने पर अध्यापकों को जागरूकता अभियान सहित कोविड प्रबंधन से जुड़े दायित्वों के निर्वहन की जिम्मेदारी दी जा सकती है।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Gehlot seeks cooperation from all to combat horrific phase of corona infection

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे