IIT Professor Sanjay Mittal revealed Rocket Science behind Jasprit Bumrah’s bowling | जानें क्या है जसप्रीत बुमराह की बॉलिंग एक्शन के पीछे का 'रॉकेट साइंस', आईआईटी प्रोफेसर ने किया खुलासा
आईआईटी प्रोफेसर ने किया बुमराह की गेंदबाजी के पीछे के 'रॉकेट साइंस' का खुलासा किया है।

Highlightsजसप्रीत बुमराह को वर्तमान समय में भारतीय क्रिकेट टीम का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज माना जाता है।जसप्रीत बुमराह का बॉलिंग एक्शन बल्लेबाजों को समझने में काफी दिक्कत होती है। बुमराह के लिए साल 2018 काफी शानदार रहा और पेस के दम पर विश्व के नंबर एक गेंदबाज बने।

जसप्रीत बुमराह को वर्तमान समय में भारतीय क्रिकेट टीम का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज माना जाता है और वो एक ऐसे गेंदबाज हैं जिनकी बॉलिंग इकॉनोमी, गेंदबाजी की रफ्तार, बॉल के ऊपर नियंत्रण सभी काफी अच्छी है। साल 2018 बुमराह के लिए काफी शानदार रहा और अपने शानदार पेस के दम पर विश्व के नंबर एक गेंदबाज बने। इसके अलावा हाल ही में उन्होंने आईपीएल में शानदार गेंदबाजी की और अपनी टीम मुंबई इंडियंस को चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई।

जसप्रीत बुमराह अपने अलग बॉलिंग एक्शन के लिए जाने जाते हैं और यहीं उनको दूसरे गेंदबाजों से अलग बनाती है। बुमराह का बॉलिंग एक्शन बल्लेबाजों को समझने में काफी दिक्कत होती है। इस समय बुमराह गेंद को दोनों तरीके से स्विंग कराना जानते हैं। नई गेंद से रिवर्स स्विंग करवाना भी बुमराह की तरकश का तीर है और पुरानी गेंद से भी बल्लेबाज को परेशान कर सकते हैं। ये सारी बातें बुमराह को उनके समय के श्रेष्ठ तेज गेंदबाजों में शामिल करता है। आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर संजय मित्तल ने बुमराह की गेंदबाजी स्टाइल पर स्टडी किया है और उनकी गेंदबाजी के पीछे के 'रॉकेट साइंस' का खुलासा किया है।

इंडियन एक्प्रेस में छपी रिपोर्ट में संजय मित्तल ने 'रिवर्स मैगनस फोर्स' को जसप्रीत बुमराह के प्रभावशाली होने की वजह बताया है। उन्होंने बताया कि बुमराह की गेंद की गति, सीम पोज़िशन और 1000 आरपीएम की रोटेशनल स्पीड गेंद को 0.1 का 'स्पिन रेश्यो' देती है। इसके कारण बुमराह की गेंद तेज़ी से नीचे की तरफ आती है, जिससे बल्लेबाज को मुश्किल होती है।

रिपोर्ट के अनुसार, 'यदि कोई गोल ठोस वस्तु तरल या हवा में चक्रण कर रही है और हवा और गोल वस्तु के बीच आपेक्षिक गति हो तो उस वस्तु पर किनारे की तरफ एक बल उत्पन्न होता है, इसी को मैगनस प्रभाव कहते हैं।' ठीक इसी तरह बुमराह जब गेंद फेंकते हैं तो वह हवा में तैरती है और एक अलग ही तरह से स्विंग होती है।

25 साल के जसप्रीत बुमराह ने आईपीएल में शानदार प्रदर्शन किया था और अब तक आईपीएल में खेले 77 मैचों में 82 विकेट ले चुके हैं। इसके अलावा बुमराह ने 49 वनडे मैचों में 85 विकेट, 10 टेस्ट मैचों में 49 विकेट और 42 टी20 इंटरनेशनल मैचों में 51 विकेट लिए हैं।

बुमराह के लिए परेशानी बन सकता हैं उनका एक्शन

हालांकि बुमराह के लिए उनका एक्शन परेशान का सबब बन सकता है, क्योंकि यह उनके पीठ के निचले हिस्से में चोट की आशंका बढ़ सकती है। शरीर क्रिया विज्ञान के लेक्चरर डॉक्टर साइमन फेरोस ने हाल ही में खुलासा किया था, 'बुमराह फ्रंट फुट की लाइन के बाहर गेंद को रिलीज करते हैं। इसका मतलब है कि वह गेंद को 'पुश' कर सकते हैं, आमतौर पर इससे दाएं हाथ के बल्लेबाज को बेहतरीन इन स्विंग गेंद फेंकते हैं।' उन्होंने कहा, 'हालांकि, अगर वह 45 डिग्री से ज्यादा मोड़ते हैं (जो मुझे लगता है कि वह कुछ मौकों पर ऐसा करते हैं) तो उनके एक्शन से उन्हें मेरूदंड के निचले हिस्से में कुछ चोटों की समस्याएं हो सकती हैं।


Web Title: IIT Professor Sanjay Mittal revealed Rocket Science behind Jasprit Bumrah’s bowling
क्रिकेट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे