Non-Gujrati case:uttar pradesh and bihar working people in industries were attacked after viral message on social media | इस एक मैसेज के वायरल होने के बाद यूपी-बिहार के लोग हुए पलायन को मजबूर, 20 हजार लोगों ने छोड़ा गुजरात
इस एक मैसेज के वायरल होने के बाद यूपी-बिहार के लोग हुए पलायन को मजबूर, 20 हजार लोगों ने छोड़ा गुजरात

अहमदाबाद : आठ अक्टूबर: यूपी और बिहार के प्रवासियों की सुरक्षा के लिए गुजरात के औद्योगिक इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। हमलों के बाद हिंदीभाषी लोगों के गुजरात से बाहर जाने के बीच राज्य सरकार ने सोमवार को उनसे लौटने की अपील की। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने लोगों से हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील की। वहीं राज्य सरकार ने प्रवासियों को सुरक्षा का आश्वासन देते हुए कहा कि हमलों के संबंध में 431 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 56 प्राथमिकियां दर्ज की गयी हैं।

ये मैसेज ने किया पलायन को  मजबूर

इसी बीच एक ऐसी खबर सामने आ रही है कि यूपी-बिहार के लोग सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल होने के बाद पलायन को मजबूर हुए हैं। वडोदरा में एक कंपनी में काम करनेवाले उत्तर भारतीयों पर हमले को लेकर सोशल मीडिया पर एक मेसेज के वायरल होने की बात सामने आई है। इस बात पर वडोदरा के डेप्युटी एसपी हरेश मेवाड़ा ने परम इंडस्ट्रीज और अन्य कंपनियों में काम करने वाले यूपी और बिहार के कर्मचारियों पर हमले होने की वजह एक मेसेज का वायरल होना बताया है। 

उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताय कि सोशल मीडिया पर मेसेज वायरल हुआ, 'विस्थापित मजदूरों की वजह से राज्य के लोगों को काम नहीं मिल रहा है इसलिए इन्हें राज्य से बाहर जाना चाहिए।' 


 गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दिलाया भरोसा
 
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने लोगों से हिंसा में शामिल नहीं होने की अपील की।  रूपाणी ने दावा किया कि पिछले 48 घंटों में कोई अप्रिय घटना नहीं हुयी है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने स्थिति पर काबू पा लिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस के गहन प्रयासों के कारण स्थिति नियंत्रण में है औैर पिछले 48 घंटों में कोई अप्रिय घटना नहीं हुयी है।

उन्होंने राजकोट में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं और परेशानी की स्थिति में लोग पुलिस को बुला सकते हैं। हम उन्हें सुरक्षा मुहैया कराएंगे।’’ उत्तर प्रदेश और बिहार के मुख्यमंत्रियों- क्रमश: योगी आदित्यनाथ और नीतीश कुमार तथा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने रूपाणी से बात की और हमलों को लेकर चिंता जतायी।

20 हजार लोगों ने छोड़ा गुजरात 

पुलिस ने बताया कि 28 सितंबर को साबरकांठा जिले में 14 महीने की एक बच्ची के साथ कथित बलात्कार के बाद छह जिलों में हिंदीभाषी लोगों पर हमलों की कई घटनाएं हुयी हैं। पुलिस ने इस घटना के संबंध में बिहार के एक श्रमिक रवींद्र साहू को गिरफ्तार किया है। 

उत्तर भारतीय विकास परिषद के अध्यक्ष महेशसिंह कुशवाह ने दावा किया कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के करीब 20 हजार लोग गुजराज से बाहर चले गए हैं।

गैर-गुजरातियों पर सियासी जंग शुरू

इस मामले ने राजनीतिक रंग भी ले लिया और नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के एक नेता ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पत्र लिखकर आरोप लगाय कि गुजरात में बिहार के लोगों के खिलाफ हिंसा के लिए उनकी पार्टी दोषी है।

जदयू प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने आरोप लगाया, ‘‘ आपने गुजरात के कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकुर को बिहार कांग्रेस का सहप्रभारी नियुक्त किया और उनकी सेना (गुजरात क्षत्रिय ठाकोर सेना) बिहार के लोगों को गुजरात से बाहर करने में जुटी है।’’

मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने दिया ये बयान 

विपक्षी कांग्रेस का नाम लिए बिना प्रदेश के गृह मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने कहा कि यह पता लगाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं कि क्या ये (हमले) उन लोगों की साजिश है जो 22 साल से गुजरात की सत्ता से बाहर हैं।

उन्होंने कहा कि यह राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि वह उन लोगों को सुरक्षा मुहैया कराए जो दूसरे प्रांतों से रोजगार के लिए गुजरात आते हैं। उन्होंने हिंसा के कारण भाग गए लोगों से राज्य में लौटने की अपील की।

जडेजा ने कहा कि प्रवासियों की सुरक्षा के लिए औद्योगिक क्षेत्रों में अतिरिक्त बल तैनात किए गए हैं। जडेजा ने गांधीनगर में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि स्थिति पर नियंत्रण के लिए गुजरात सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से केंद्र को अवगत करा दिया गया है।

पुलिस ने हमलों के सिलसिले में ठाकोर सेना के कई सदस्यों को गिरफ्तार किया है और कई प्राथमिकियों में संगठन का भी नाम लिया गया है। संगठन के अध्यक्ष और कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने आरोप लगाया है कि समुदाय के युवकों को फंसाया जा रहा है।

सीएम नीतीश कुमार ने की बच्ची के साथ दुष्कर्म की निंदा 

नीतीश कुमार ने बच्ची के साथ दुष्कर्म की निंदा की और कहा कि अपराध करने वाले को निश्चित तौर पर दंडित किया जाना चाहिए। लेकिन अन्य लोगों के संबंध में समान धारणा नहीं रखनी चाहिए।

नीतीश ने कहा, ‘‘हमारी गुजरात के मुख्यमंत्री और वहां के मुख्य सचिव से बातचीत हुई है। हमारे मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक लगातार उनके संपर्क में हैं।’’ आदित्यनाथ ने कहा कि रूपाणी ने उनसे कहा कि उनकी सरकार ने सभी के लिए सुरक्षा सुनिश्चित की है तथा सबका स्वागत है।

उन्होंने कहा कि गुजरात एक शांतिप्रिय राज्य है और वे लोग अफवाहें फैला रहे हैं जो वहां का विकास मॉडल पसंद नहीं करते।

(समाचार एजेंसी भाषा इनपुट)


Web Title: Non-Gujrati case:uttar pradesh and bihar working people in industries were attacked after viral message on social media
ज़रा हटके से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे