महाराष्ट्र: इंसानों की बात छोड़िए यहां बंदरों के नाम पर है 32 एकड़ जमीन, भूमि अभिलेखों में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

By भाषा | Published: October 16, 2022 12:02 PM2022-10-16T12:02:03+5:302022-10-16T12:09:45+5:30

इस पर बोलते हुए सरपंच बप्पा पड़वाल ने कहा, ‘‘ दस्तावेज में स्पष्ट रूप से उल्लेख है कि भूमि बंदरों की है, हालांकि जानवरों के लिए यह प्रावधान किसने और कब किया, इसका कुछ पता नहीं है।’’

Maharashtra here 32 acres of land name of monkeys revealed usmanabad land records | महाराष्ट्र: इंसानों की बात छोड़िए यहां बंदरों के नाम पर है 32 एकड़ जमीन, भूमि अभिलेखों में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

फोटो सोर्स: ANI (प्रतिकात्मक फोटो)

Next
Highlightsमहाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले ये एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां पर इंसानों की तरह बंदरों के नाम जमीन पाई गई है।उस्मानाबाद जिले के भूमि अभिलेखों के अनुसार, 32 एकड़ जमीन बंदरों के नाम है।

मुंबई: आज के दौर में जब भूमि को लेकर विवाद आम बात हो गई है ऐसे में महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले के एक गांव में 32 एकड़ जमीन बंदरों के नाम पंजीकृत होने का एक दुर्लभ मामला सामने आया हे। 

उस्मानाबाद के उपला गांव में लोग बंदरों को खास सम्मान देते हैं। वे उनके दरवाजे पर आने पर उन्हें खाना देते हैं और कभी-कभी शादी समारोह शुरू करने से पहले भी उनका सम्मान किया जाता है। 

यहां बंदरों के नाम है 32 एकड़ जमीन

उपला ग्राम पंचायत के भूमि अभिलेखों के अनुसार, 32 एकड़ भूमि गांव में रहने वाले सभी बंदरों के नाम है। गांव के सरपंच बप्पा पड़वाल ने कहा, ‘‘ दस्तावेज में स्पष्ट रूप से उल्लेख है कि भूमि बंदरों की है, हालांकि जानवरों के लिए यह प्रावधान किसने और कब किया, इसका कुछ पता नहीं है।’’ 

उन्होंने बताया कि पहले बंदर गांव में किए जाने वाले सभी अनुष्ठानों का हिस्सा होते थे। 

अब केवल 100 बंदर ही बचे है

पड़वाल ने बताया कि गांव में अब करीब 100 बंदर हैं और पिछले कुछ वर्षों में उनकी संख्या कम हो रही है क्योंकि जानवर एक स्थान पर लंबे समय तक नहीं रहते। उन्होंने बताया कि वन विभाग ने जमीन पर वृक्षारोपण का किया और भूखंड पर एक मकान भी था, जो अब ढह गया है। 

बंदरों को कभी भी खाना के लिए नहीं करते है ग्रामवासी मना 

इस पर सरपंच ने कहा, ‘‘पहले, जब भी गांव में शादियां होती थीं तो बंदरों को पहले भेंट दी जाती थी और उसके बाद ही समारोह शुरू होता था। हालांकि अब हर कोई इस प्रथा का पालन नहीं करता है।’’ उन्होंने बताया कि जब भी बंदर दरवाजे पर आते हैं तो ग्रामीण उन्हें खाना खिलाते हैं। कोई भी उन्हें खाने के लिए मना नहीं करता। 

Web Title: Maharashtra here 32 acres of land name of monkeys revealed usmanabad land records

ज़रा हटके से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे