Delete this coronavirus app from your Android phone immediately | कोरोना वायरस की आड़ में ऑनलाइन ठगी का खेल, तुरंत डिलीट कर दें ये एप नहीं तो खाली हो सकता है बैंक अकाउंट
प्रतीकात्मक फोटो

Highlightsएक ऐसे डोमेन का भी पता चला है जिसका नाम 'coronavirusapp[.]site' है। यह एंड्रॉयड रैनसमवेयर दावा कर रहा है कि यूजर के आसपास कोरोनावायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति होने पर यह नोटिफाई करने का दावा करता है। ऐसे सभी एप से आपको बचने की जरूरत है।हाल ही में सिक्यॉरिटी फर्म DomainToolsने जिस कोविडलॉक नाम के रैनसमवेयर का पता लगाया था वह कोरोना वायरस की ट्रैकिंग करने का दावा करता है जबकि वास्तव में वह एक रैनसमवेयर है।

आपने कई ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में कई बार देखा और सुना होगा या हो सकता है कि आपके साथ भी ऑनलाइन फ्रॉड हो चुका हो। अब एक बार फिर देशभर में कोरोना के सहारे ऑनलाइन फ्रॉड का खेल शुरू हो चुका है। तो आप भी कहीं ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों के लपेटे में न आ जाएं इसलिए हम आपको दे रहे हैं कुछ जरूरी जानकारी...

बीते कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया में कोविडलॉक (CovidLock) नाम का एक रैनसमवेयर फैलाया जा रहा था। इसका दावा था कि यह कोरोना वायरस को ट्रैक करने वाला एप है। इसके बाद अब 'कोरोना सेफ्टी मास्क' खरीदने वाला एक लिंक शेयर किया जा रहा है। 

इस नए फ्रॉड गेम के जरिए आपकी पूरी कॉन्टैक्ट लिस्ट के सभी लोगों को एक मैसेज भेजता है जिससे की ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचा जा सके। इस मैसेज में  कोरोना सेफ्टी मास्क (Corona Safety Mask) खरीदने का लिंक रहता है। यह एक वायरस है जो दूसरे के स्मार्टफोन में मैसेज के जरिए जाता है। इस फ्रॉड में लोगों को मास्क का लालच दिया जाता है। 

ThreatLabZ. में रिसर्चर ने कहा कि यदि यूजर्स एप इंस्टॉल कर लेते हैं तो यह एक बटन पर क्लिक करने को कहता है जो आपको ऑनलाइन मास्क बेचने वाले एक ऑनलाइन वेबसाइट पर पहुंचा देता है। यहां आपको मास्क खरीदने के लिए ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए कहा जाता है। जैसे ही आप अपना बैंक डिटेल या क्रेडिट या डेबिट कार्ड डिटेल यहां भरते हैं आपकी सारी जानकारी चुरा ली जाती है।

एक ऐसे डोमेन का भी पता चला है जिसका नाम 'coronavirusapp[.]site' है। यह एंड्रॉयड रैनसमवेयर दावा कर रहा है कि यूजर के आसपास कोरोनावायरस से संक्रमित कोई व्यक्ति होने पर यह नोटिफाई करने का दावा करता है। ऐसे सभी एप से आपको बचने की जरूरत है।

हाल ही में सिक्यॉरिटी फर्म DomainToolsने जिस कोविडलॉक नाम के रैनसमवेयर का पता लगाया था वह कोरोना वायरस की ट्रैकिंग करने का दावा करता है जबकि वास्तव में वह एक रैनसमवेयर है। कोविडलॉक नाम का यह एप सोशल मीडिया ग्रुप्स के जरिए फैलाया जा रहा है। जैसे ही कोई यूजर इस ऐप को इंस्टॉल करता है यह कई एक्सेस और लॉकस्क्रीन जैसी परमिशन मांगता है। एक बार परमिशन मिलने पर ऐप यूजर के फोन को एक पासवर्ड के साथ अनलॉक कर देता है और फोन को अनलॉक करने के लिए 48 घंटे में बिटकॉइन करेंसी में 100 डॉलर देने की मांग करता है।

सावधानी-
आपको बता दें कि कोरोना को रोकने के लिए कोई स्पेशल मास्क नहीं आता है। कोरोना के लिए भी वही साधारण मास्क काम करते हैं जिनका इस्तेमाल आप प्रदूषण और स्मॉग से बचने के लिए करते आए हैं। क्योंकि लोगों यह सावधानी बरतने के लिए कहा जा रहा है कि किसी के खांसने, छींकने से निकलने वाले ड्रॉपलेट्स आपके ऊपर न पड़ें और खासतौर पर आपके चेहरे और हांथों पर न पड़ने पाएं। क्योंकि किसी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के ड्रापलेट्स आपके चेहरे और हाथ के आपके शरीर के भीतर जा सकते हैं। और इसको रोकने के लिए अन्य सावधानियों के साथ ही आपका सामान्य मास्क पर्याप्त है। 

मास्क आप पास के मेडिकल स्टोर या सामान्य स्टोर से खरीद सकते हैं। ऑनलाइन भी खरीदना है तो किसी विश्वसनीय ऑनलाइन शॉपिंग साइट से खरीदें जो लंबे समय से बाजार में मौजूद हैं। 

दूसरी ध्यान देने वाली बात ये है कि जब भी कुछ बड़ी घटना या कुछ होता है तो ठगी करने वाले सक्रिय हो जाते हैं और मौके का फायदा उठाते हैं। ऐसे में किसी भी ऐसे एप्लीकेशन को डाउनलोड करने से बचें जो दावा करते हैं कि यह एप आपको कोरोना से बचाएगा या फिर आपके आसपास कोरोना से पीड़ित व्यक्ति के बारे में बताएगा।

Web Title: Delete this coronavirus app from your Android phone immediately
टेकमेनिया से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे