Karwa Chauth 2021 Moon Rising Time: करवा चौथ व्रत आज, जानें व्रत विधि और चांद निकलने का समय

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: October 23, 2021 02:41 PM2021-10-23T14:41:57+5:302021-10-24T11:11:37+5:30

करवा चौथ व्रत 24 अक्टूबर को है। इस बार करवा चौथ पर शुभ संयोग भी बन रहा है। इस दिन चंद्र देव रोहिणी नक्षत्र में उदय होंगे। इस नक्षत्र में व्रत रखना बेहद शुभ होता है। व्रती को मनोवांछित फल प्राप्त होता है।

Karwa Chauth 2021 Moon Rising Timing vrat vidhi | Karwa Chauth 2021 Moon Rising Time: करवा चौथ व्रत आज, जानें व्रत विधि और चांद निकलने का समय

करवा चौथ 2021

Next
Highlights 24 अक्टूबर को शाम 05 बजकर 43 मिनट से 06 बजकर 59 मिनट तक रहेगा पूजा मुहूर्त24 अक्टूबर को चांद रात 08 बजकर 07 मिनट पर निकलेगा

करवा चौथ सुहागिन महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की दीर्घायु और अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए निर्जल व्रत का पालन करती हैं। करवा चौथ व्रत आज है। ऐसे में व्रती को पहले से ही इस व्रत की तैयारी करनी होती है। सबसे पहले करवा चौथ व्रत में उपयोग होने वाली चीजों की खरीदारी की जाती है। 

करवा चौथ व्रत मुहूर्त 

चतुर्थी तिथि प्रारंभ: 24 अक्टूबर, रविवार को सुबह 03 बजकर 01 मिनट पर
चतुर्थी तिथि समाप्त: 25 अक्टूबर 2021 को सुबह 05 बजकर 43 मिनट पर
पूजा मुहूर्त: 24 अक्टूबर को शाम 05 बजकर 43 मिनट से 06 बजकर 59 मिनट तक रहेगा

चांद निकलने का समय

चंद्रोदय: 24 अक्टूबर को चांद रात 08 बजकर 07 मिनट पर निकलेगा।

करवा चौथ की पूजा सामाग्री

मिट्टी का टोंटीदार करवा और उसका ढक्कन, गंगाजल, पानी के लिए एक लोटा, रूई, अगरबत्ती, दीपक, रोली, अक्षत, फूल, चंदन, कुमकुम, गाय का कच्चा दूध, दही, देसी घी, चावल, मिठाई, शहद, चीनी, हल्दी, चीनी का बूरा, माता गौरी को बनाने के लिए पीली मिट्टी, चंद्रमा को जल अर्पित करने के लिए छलनी, लकड़ी की चौकी।

करवा चौथ व्रत विधि

ब्रह्म मुहूर्त में उठकर घर की परंपरा के अनुसार सरगी आदि ग्रहण करें। स्नानादि करने के पश्चात निर्जल व्रत का संकल्प करें। शाम के समय तुलसी के पास बैठकर दीपक प्रज्वलित कर करवाचौथ की कथा सुनें। चंद्रोदय से पहले ही एक थाली में धूप-दीप, रोली, पुष्प, फल, मिष्ठान आदि रख लें। एक लोटे में अर्घ्य देने के लिए जल भर लें। मिट्टी के बने करवा में चावल या फिर चिउड़ा आदि भरकर उसमें दक्षिणा के रुप में कुछ पैसे रख दें। एक थाली में श्रृंगार का सामान भी रख लें। चंद्र दर्शन कर पूजन आरंभ करें। सभी देवी-देवताओं का तिलक करके फल-फूल मिष्ठान आदि अर्पित करें। श्रृंगार के सभी सामान को भी पूजा में रखें और टीका करें। अब चंद्र देव को जल का अर्घ्य दें। छलनी में दीप जलाकर चंद्र दर्शन करें, अब छलनी से अपने पति के दर्शन करें। इसके बाद पति के हाथों से जल पीकर व्रत का पारण करें। अंत में  श्रृंगार की सामाग्री और करवा को अपनी सास या फिर किसी सुहागिन स्त्री को दें।

Web Title: Karwa Chauth 2021 Moon Rising Timing vrat vidhi

पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे