Chaitra Navratri 2018 nine things you should not do during navratri | नवरात्रि के नौ दिनों में भूलकर भी ना करें ये काम, बन सकते हैं पाप के भागी

मां भगवती को समर्पित नौ दिनों का पर्व चैत्र नवरात्रि 18 मार्च 2018 से प्रारंभ हो रहा है। माता के भक्तों में अभी से ही इस महापर्व का उत्साह देखें को मिल रहा है। माता के मंदिर सज रहे हैं, बाजारों में धीरे-धीरे रौनक बढ़ रही है। हिन्दू धर्म में चैत्र ना केवल नवरात्रि पर्व के लिए वरन् हिन्दू नववर्ष के रूप में भी मनाया जाता है। यह हिन्दू पंचांग का प्रथम महीना होता है। पंचांग के अनुसार इस बार चैत्र नवरात्रि 18 से शुरू होकर 26 तक चलेंगे।

उत्थान ज्योतिष संस्थान के निदेशक ज्योतिर्विद पं दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार इस साल नवरात्रि 9 नहीं बल्कि 8 दिन के लिए मनाये जाएंगे। क्योंकि पंचांग के अनुसार इस बार अष्टमी एवं नवमी एक ही दिन को है। 25 मार्च दिन रविवार को सुबह 7 बजकर 3 मिनट तक अष्टमी तिथि होगी और उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी। 26 को नवरात्रि व्रत का पारण किया जाएगा। तो अगर इस बार आप भी व्रत कर रहे हैं या फिर आपके घर पर भी माता की अखंड ज्योति प्रज्वलित की जाएगी तो आपको नवरात्रि के कुल 9 दिनों तक कुछ कार्यों को करने से बचना चाहिए। अन्यथा देवी क्रोधित होकर दंड भी दी सकती हैं।

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि 2018: जानें घटस्थापना से लेकर नवरात्रि पारण तक की तिथि, शुभ मुहूर्त

आइए जानते हैं नवरात्रि के दौरान वर्जित कार्य:

- नवरात्रि के नौ दिनों तक भूल से भी दाढ़ी-मूंछ या बाल नहीं कटवाने चाहिए। शास्त्रीय महत्व के अनुसार नवरात्रि का समय शुभ कार्यों के लिए उत्तम माना जाता है किन्तु फिर भी इन दिनों में बच्चों का मुंडन भी नहीं करवाना चाहिए
- नवरात्रि के नौ दिनों में नाखून भी नहीं काटने चाहिए
- अगर आपके घर में नवरात्रि की अखंड ज्योति विराजमान है, नवरात्रि कलश सजाया गया है तो घर कभी खाली ना छोड़ें। घर का कोई एक सदस्य हर पल घर में रहना चाहिए
- जिस घर में नवरात्रि का कलश और अखंड ज्योति स्थापित हो उस घर में प्याज, लहसुन आदि तामसिक खाद्य पदार्थों का सेवन या इस्तेमाल नहीं होना चाहिए

यह भी पढ़ें: नवरात्रि में करें इन 6 देवी धामों के दर्शन, मां अम्बे की बरसती है कृपा!

- इसके अलावा घर का कोई भी सदस्या इन दिनों में शराब, तम्बाकू आदि नशीले पदार्थों का सेवन करने से बचे
- घर के किसी भी सदस्य को काले वस्त्र धारण नहीं करने चाहिए
- व्रत के दिनों में घर में नींबू नहीं काटना चाहिए
- अगर घर के सभी सदस्य व्रत करते हैं तो खाने में साधारण नमक और अन्य अनाज का प्रयोग ना करें। सेंधा नमक और व्रत के अन्या फलाहार ही ग्रहण करें
- बेल्ट, चप्पल-जूते, चमड़े के बैग आदि चीजों को घर के पूजा स्थल से दूर रखें