Those who want to use Ladakh's resources for selfishness are not welcome: Namgyal | अनुच्छेद-370ः लद्दाख आइए विकास कीजिए, इसका दोहन और दुरुपयोग मत करें, नहीं तो हम स्वागत नहीं करेंगेः नामग्याल
कई लोग उनके क्षेत्र में आकर कारोबारी संभावनाओं का लाभ उठाना चाहते हैं

Highlightsपांच अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त कर दिया था।राज्य को दो केंद्रीय शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख में बांटने का फैसला किया था। 

लद्दाख से लोकसभा सदस्य जाम्यांग त्सेरिंग नामग्याल ने बुधवार को कहा कि कई लोग उनके क्षेत्र में आकर कारोबारी संभावनाओं का लाभ उठाना चाहते हैं लेकिन क्षेत्र में सिर्फ उन लोगों का स्वागत है जो वास्तव में संसाधानों का लाभ उठाना चाहते हैं और उसका दुरुपयोग नहीं करेंगे।

महाराष्ट्र में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि जो लोग लद्दाख के संसाधनों को स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करना चाहते हैं उनका क्षेत्र में स्वागत नहीं है। नामग्याल ने कहा, ‘‘अनुच्छेद-370 और 35 ए हटाने के बाद कई लोग कारोबारी संभावनाओं को तलाशने के लिए लद्दाख आना चाहते हैं। इसमें दो तरह के लोग हैं। कुछ लोग क्षेत्र की संभावनाओं का इस्तेमाल करना चाहते हैं जबकि कुछ स्वार्थी उद्देश्य से संसाधनों का दोहन करना चाहते हैं, जो लोग कारोबारी संभावनाओं के लिए आना चाहते हैं उनका स्वागत है।’’

नामग्याल ने जम्मू-कश्मीर पर केंद्र की ओर से लिए गए फैसले का संसद में पुरजोर तरीके से समर्थन किया था और युवाओं से राष्ट्रनिर्माण में हिस्सा लेने की अपील की थी। उन्होंने कहा, ‘‘ कुछ लोग जो खुद असुरक्षित महसूस करते हैं ने पूर्वाग्रह बना लिया है कि राजनीति गंदा खेल है जो सच नहीं है।’’

गौरतलब है कि पांच अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त कर दिया था और राज्य को दो केंद्रीय शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख में बांटने का फैसला किया था। 


Web Title: Those who want to use Ladakh's resources for selfishness are not welcome: Namgyal
राजनीति से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे