Uttar Pradesh police reached Banda jail for Mukhtar Ansari | मुख्तार अंसारी को लेकर बांदा जेल पहुंची उत्तर प्रदेश पुलिस
मुख्तार अंसारी को लेकर बांदा जेल पहुंची उत्तर प्रदेश पुलिस

बांदा/लखनऊ (उप्र), सात अप्रैल उत्तर प्रदेश पुलिस ने करीब दो साल पंजाब की जेल में रहे बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायक एवं गैंगस्टर मुख्तार अंसारी को बुधवार तड़के कड़ी सुरक्षा के बीच बुंदेलखंड की बांदा जेल में स्थानांतरित किया।

इस बीच, लखनऊ में एमपी-एमएलए (सांसद-विधायक) की विशेष अदालत ने अभियुक्त मुख्तार अंसारी को साल 2000 में कारापाल और उप कारापाल पर हमला करने, जेल में पथराव करने तथा जानमाल की धमकी देने के मामले में आरोप तय करने के लिए 12 अप्रैल को व्यक्तिगत रूप से तलब किया है।

मुख्तार अंसारी के बड़े भाई एवं गाजीपुर से बसपा के सांसद अफजाल अंसारी ने पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा लाते समय मुख्तार अंसारी के साथ अमानवीय बर्ताव किए जाने का आरोप लगाया है।

बांदा के अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) महेंद्र प्रताप सिंह चौहान ने बुधवार को 'पीटीआई-भाषा' से कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश पुलिस के एक विशेष दल ने गैंगस्टर और मऊ के बसपा विधायक मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जिला जेल से अपनी हिरासत में लेने के बाद बुधवार तड़के साढ़े चार बजे बांदा जेल में स्थानांतरित कर दिया।"

मुख्तार अंसारी को जबरन वसूली के एक मामले में पंजाब की रोपड़ जेल में रखा गया था। मुख्तार अंसारी को यहां लाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार और पंजाब सरकार के बीच उच्चतम न्यायालय में मुकदमा चला। उच्चतम न्यायालय ने 26 मार्च को मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश भेजने का आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने पंजाब की जेल में बंद अंसारी को दो सप्ताह में उत्तर प्रदेश भेजे जाने का निर्देश दिया। उच्चतम न्यायालय ने अंसारी की हिरासत स्थानांतरण याचिका पर यह फैसला सुनाया था।

उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार ने पंजाब की कांग्रेस सरकार पर मुख्तार को संरक्षण देने का आरोप लगाया था।

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार के मुताबिक, अंसारी के खिलाफ उत्तर प्रदेश समेत विभिन्‍न राज्‍यों में 52 मामले दर्ज हैं।

इसी बीच, लखनऊ में बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि पुलिस का विशेष सुरक्षा दल पंजाब की रोपड़ जेल से विचाराधीन कैदी मुख्तार अंसारी को बुधवार तड़के लगभग चार बजकर 50 मिनट पर बांदा जिला जेल के मुख्यद्वार पर लाया और तड़के लगभग पांच बजे उसे कारागार के अंदर लाया गया।

बयान के अनुसार, मेडिकल कॉलेज बांदा के चिकित्सकों के दल ने मुख्तार अंसारी के स्वास्थ्य की जांच की और स्वास्थ्य में तात्कालिक तौर पर कोई समस्या नहीं पाई गई।

बयान के अनुसार, मुख्तार अंसारी की सुरक्षा के लिए जेल प्रशासन ने पर्याप्त इंतजाम किए हैं। मुख्तार अंसारी को बैरक संख्या 16 में रखा गया है जो 24 घंटे कैमरे की निगरानी में है।

बयान के अनुसार कारागार की प्रशासनिक और सुरक्षा व्यवस्था के लिए नगर मजिस्ट्रेट बांदा को प्रभारी जेल अधीक्षक बनाया गया है।

बयान में कहा गया कि रोपड़ जेल में मुख्तार अंसारी की कोरोना वायरस संबंधी जांच किए जाने की कोई रिपोर्ट कारागार को प्राप्त नहीं हुई है, इसलिए बुधवार को बांदा जेल में उसकी जांच कराई जाएगी।

उच्चतम न्यायालय के दिशा-निर्देशों के अनुपालन के तहत बांदा जिला प्रशासन तथा मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी के सहयोग से मुख्तार अंसारी की स्वास्थ्य व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

पंजाब के रूपनगर की रोपड़ जेल से मुख्तार अंसारी को लेकर आ रहे सुरक्षाकर्मियों ने 900 किलोमीटर लंबी यात्रा की। उच्चतम न्यायालय के एक आदेश पर कार्रवाई करते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को 57 वर्षीय मुख्तार अंसारी को रूपनगर जेल से वापस बांदा जेल में लाने के लिए अपनी हिरासत में ले लिया था। चिकित्सकीय जांच के बाद मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश पुलिस को सौंपने के लिए औपचारिकताएं पूरी करने में कुछ घंटे लगे।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने एंबुलेंस, दंगा रोधी वाहन और भारी सुरक्षा बल के साथ मुख्तार अंसारी को रोपड़ जेल से बांदा लाने के लिए करीब 14 घंटे सफर किया। बांदा जेल परिसर छावनी में तब्दील हो गया था और पुलिस चारों ओर चौकसी बरत रही थी। मुख्तार अंसारी को लेकर पुलिस अधिकारियों के वाहन ने तड़के साढ़े चार बजे बांदा जेल में प्रवेश किया।

पंजाब से मुख्तार अंसारी को पूरी चौकसी और भारी सुरक्षा के बीच पुलिस की टीम मंगलवार दोपहर करीब दो बजे रोपड़ जेल से लेकर रवाना हुई थी और उसने शाम करीब छह बजे उत्‍तर प्रदेश की सीमा में प्रवेश किया।

बांदा में मुख्तार अंसारी को लाए जाने से पहले जेल अधिकारियों ने बताया था कि उसे जेल की बैरक नंबर 15 में रखा जाएगा, जहां उसे पंजाब की जेल में स्थानांतरित किए जाने से पहले रखा गया था।

इस बीच, मंगलवार को लखनऊ की एमपी एमएलए (सांसद-विधायक) की विशेष अदालत ने अभियुक्त मुख्तार अंसारी को 2000 में कारापाल और उप कारापाल पर हमला करने, जेल में पथराव करने तथा जानमाल की धमकी देने के मामले में आरोप तय करने के लिए 12 अप्रैल को व्यक्तिगत रूप से तलब किया है।

लखनऊ में कारापाल और उप कारापाल पर हमले के मामले में अंसारी के अलावा युसुफ चिश्ती, आलम, कल्लू पंडित तथा लालजी यादव पर आरोप तय होने हैं। इनमें से चिश्ती तथा आलम न्यायिक हिरासत में जेल में हैं जबकि कल्लू पंडित और लालजी यादव जमानत पर रिहा हैं। अभियोजन के अनुसार, मुख्तार अंसारी की अनुपस्थिति के कारण आरोप तय नहीं हो पा रहे हैं।

विशेष अदालत के न्यायाधीश पी के राय ने पिछली कई तारीखों पर अंसारी को अदालत में पेश कराने के संदर्भ में उत्तर प्रदेश पुलिस के आला अधिकारियों और पंजाब की रूपनगर जेल के वरिष्ठ अधीक्षक को भी निर्देश दिया था।

बलिया से मिली खबर के अनुसार, अफजाल अंसारी ने पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा लाते समय मुख्तार अंसारी के साथ अमानवीय बर्ताव किए जाने का आरोप लगाया।

अफजाल अंसारी ने बुधवार को 'पीटीआई-भाषा' से बातचीत के दौरान आरोप लगाया कि रोपड़ जेल से बांदा लाते समय मुख्तार अंसारी के साथ किसी दरिंदे सरीखा अमानवीय व्यवहार किया गया।

उन्होंने आरोप लगाया कि तकरीबन 15 घंटे की यात्रा में मुख्तार अंसारी को रास्ते में न तो पानी पीने को दिया गया और न ही भोजन करने दिया गया तथा मेडिकल सुविधा भी नहीं दी गई ।

अफजाल ने आरोप लगाया, ‘‘अमानवीय व्यवहार के कारण मुख्तार अंसारी की तबीयत बिगड़ गई। मुख्तार अंसारी को बांदा जेल में अर्द्धमूर्छित अवस्था में लाया गया। उसका मधुमेह एवं रक्तचाप बढ़ गया है। जेल में चिकित्सक की अनुशंसा को जेल प्रशासन स्वीकार नहीं कर रहा। उपचार कराने के बजाय मुख्तार अंसारी को नींद का टीका लगाया गया है।''

उन्होंने साथ ही कहा कि बांदा जेल पहुंचने पर मुख्तार अंसारी को डेढ़ घण्टे तक जेल से बाहर एम्बुलेंस में रखा गया और बुधवार सुबह नौ बजे कुछ परिचित मुख्तार अंसारी से मुलाकात करने बांदा जेल पहुंचे थे, लेकिन उन्हें मुलाकात कराये बगैर जेल परिसर से भगा दिया गया।

बसपा सांसद अफजाल ने कहा कि मुख्तार अंसारी विचाराधीन बंदी है और सजायाफ्ता न होने के बावजूद उसके साथ कैदी सरीखा सलूक किया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य राज्य मंत्री आनन्द स्वरूप शुक्ल ने कहा है कि मुख्तार अंसारी को जेल में सुरक्षा दी जायेगी और उसके साथ मुन्ना बजरंगी जैसा कुछ भी नहीं होगा।

बागपत जेल में 51 वर्षीय प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की जुलाई 2018 में एक गैंगस्टर द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

मुख्तार की पत्नी और भाई ने उसकी सुरक्षा को लेकर खतरे की आशंका जताई है।

संसदीय कार्य राज्य मंत्री शुक्ल ने बुधवार को बलिया में पत्रकारों से कहा, ''बांदा जेल में मुख्तार अंसारी को सुरक्षा दी जायेगी।'' उन्होंने कहा, ‘‘अंसारी के खिलाफ चल रहे मामलों के गवाहों को पूरी सुरक्षा दी जाएगी ताकि वह निर्भय होकर गवाही दे सकें और सरकार का प्रयास होगा कि समय से सुनवाई पूरी हो जाए।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Uttar Pradesh police reached Banda jail for Mukhtar Ansari

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे