कुतुब मीनार में नमाज पर रोक, हिंदू पक्ष ने पूजा की मांगी इजाजत, सरकार ने कहा- ASI की नीतियां 'निर्जीव स्थानों' पर पूजा की इजाजत नहीं देती

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: May 24, 2022 11:33 AM2022-05-24T11:33:30+5:302022-05-24T11:48:36+5:30

संस्कृति मंत्रालय के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की नीतियां निर्जीव स्थानों पर पूजा की इजाजत नहीं देती है। 

Rules bar worship at non-living places says govt over namaz at Qutub Minar | कुतुब मीनार में नमाज पर रोक, हिंदू पक्ष ने पूजा की मांगी इजाजत, सरकार ने कहा- ASI की नीतियां 'निर्जीव स्थानों' पर पूजा की इजाजत नहीं देती

कुतुब मीनार में नमाज पर रोक, हिंदू पक्ष ने पूजा की मांगी इजाजत, सरकार ने कहा- ASI की नीतियां 'निर्जीव स्थानों' पर पूजा की इजाजत नहीं देती

Next
Highlightsविश्व हिंदू परिषद ने दावा किया था कि कुतुब मीनार मूल रूप से एक ‘विष्णु स्तंभ' थापरिसर के अंदर से हिंदू और जैन मूर्तियां बरामद हुई थी जिसे सरकार प्रदर्शित करने पर विचार कर रही है

नई दिल्ली: भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने कुतुब मीनार में स्थित मुगल मस्जिद नमाज पर रोक लगा दी है। वहीं एएसआई के फैसले पर सरकार ने भी स्पष्टीकरण जारी किया है। संस्कृति मंत्रालय के एक अधिकारी ने सोमवार को कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की नीतियां निर्जीव स्थानों पर पूजा की इजाजत नहीं देती है। 

अधिकारी ने कहा कि ये आदेश हाल में कोई जारी नहीं किया गया है बल्कि यह नियम पहले से ही मौजूद है। पहले भी एएसआई ने एक पत्र में वहां नमाज को बंद करने के लिए कहा था। वहीं नमाज पर रोक को लेकर मस्जिद के इमाम मौलाना शेर मोहम्मद ने कहा कि वह पिछले 47 वर्षों से मस्जिद के इमाम हैं। एएसआई ने नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी है। 

उधर, कुतुब मीनार में हिंदू और जैन मूर्तियों की बरामदगी के बाद पूजा की मांग को लेकर हिंदू पक्ष ने याचिका दायर की थी जिसपर ASI विरोध किया है। एएसआई ने साकेत कोर्ट में दाखिल अपने जवाब में कहा है कि कुतुब मीनार की पहचान बदली नहीं जा सकती। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने जवाब में कहा है कि  कुतुब मीनार को 1914 से संरक्षित स्मारक का दर्जा मिला है। और इसकी पहचान बदली नहीं जा सकती।

हाल ही में एक अधिकारी ने जानकारी दी कि संस्कृति मंत्रालय दिल्ली के कुतुब मीनार परिसर में मिली हिंदू और जैन मूर्तियों को प्रदर्शित करने पर विचार कर रहा है और स्थल की खुदाई या किसी भी धार्मिक प्रथा को रोकने की कोई योजना नहीं है। कुछ दिन पहले, राष्ट्रीय संस्मारक प्राधिकरण (एनएमए) के अध्यक्ष तरुण विजय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को पत्र लिखकर अनुरोध किया था कि कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद में मिली गणेश की दो मूर्तियों को परिसर से बाहर ले जाया जाए। अधिकारी ने कहा कि मंत्रालय इस पर विचार कर रहा है कि क्या इनमें से कुछ मूर्तियों को लेबल लगाकर प्रदर्शित किया जा सकता है।

संस्कृति सचिव गोविंद मोहन और एएसआई अधिकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने पिछले हफ्ते साइट का दौरा किया, जबकि अधिकारियों ने कहा कि यह दौरा नियमित था। केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने अलग से कहा कि कुतुब मीनार में खुदाई पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है। मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि मोहन ने साइट का दौरा किया क्योंकि सरकार लाल किले पर एक व्याख्या केंद्र स्थापित करने की योजना बना रही है। एएसआई ऐसे 500 स्मारकों पर ऐसे केंद्र स्थापित करने का काम कर रहा है।

पूर्व केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय प्रह्लाद पटेल ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि कुतुब मीनार "मंदिरों में तोड़फोड़" के बाद बनाई गई थी। “कुतुब मीनार के बारे में फारसी (फारसी) में लिखा है कि इसे 27 मंदिरों को तोड़कर बनाया गया है और यह उन लोगों ने लिखा है जिन्होंने इसे किया है, न कि एएसआई या सरकार ने। इससे बड़ा कोई सबूत नहीं होगा।"

दिल्ली की एक अदालत ने पहले एएसआई को अगले आदेश तक कुतुब मीनार परिसर से भगवान गणेश की दो मूर्तियों को हटाने का निर्देश दिया था। अदालत का आदेश जैन देवता तीर्थंकर भगवान ऋषभ देव की ओर से दायर एक मुकदमे के जवाब में आया, जिसमें दावा किया गया था कि मुहम्मद गौरी की सेना में एक जनरल कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा 27 मंदिरों को आंशिक रूप से ध्वस्त कर दिया गया था और सामग्री का पुन: उपयोग करके 12 वीं शताब्दी के स्मारक के अंदर कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद का निर्माण किया गया था ।

Web Title: Rules bar worship at non-living places says govt over namaz at Qutub Minar

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे