नेस वाडिया का विवादों से है पुराना नाता, जानिए जन्म से लेकर जापान में जेल की सजा पाने तक का इतिहास

By रजनीश | Published: May 1, 2019 07:19 PM2019-05-01T19:19:43+5:302019-05-01T19:19:43+5:30

वाडिया कारोबारी समूह के वारिस नेस वाडिया को जापान की एक स्थानीय अदालत ने दो साल जेल की सजा सुनायी है। नेस वाडिया को तत्काल नहीं काटनी होगी। नेस वाडिया तब भी विवादों से घिर गई थे जब उनकी पूर्व प्रेमिका प्रीति जिंटा ने उनपर बदसलूकी का आरोप लगाया था।

Ness Wadia has old ties with controversies, history of Wadia Group | नेस वाडिया का विवादों से है पुराना नाता, जानिए जन्म से लेकर जापान में जेल की सजा पाने तक का इतिहास

नेस वाडिया नुस्ली वाडिया और दीना वाडिया के बेटे हैं। दीना मोहम्मद अली जिन्ना की इकलौती बेटी थीं।

Next
Highlightsनेस वाडिया का जन्म लिवरपूल में हुआ था। उनकी पढ़ाई कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल और लॉरेंस स्कूल हिमाचल प्रदेश में हुई। नेस वाडिया 2011 तक  बॉम्बे डाइंग में जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर रहे।

उद्योगपति और वाडिया ग्रुप के चैयरमेन नुस्ली वाडिया के बेटे नेस नाडिया एक बार फिर चर्चा में हैं। उन्हें जापान में ड्रग्स रखने के मामले में दो साल कैद की सजा सुनाई गई है। नेस को मार्च महीने में होक्काइडो आइलैंड पर 25 ग्राम मैरिजुआना रखने के मामले में गिरफ्तार किया गया था। खैर ये पहली बार नहीं है जब नेस किन्ही गलत कारणों से चर्चा में आए हैं। पांच साल पहले उनकी गर्लफ्रेंड रहीं बॉलीवुड अभिनेत्री प्रीति जिंटा ने उनके खिलाफ कथित तौर पर हिंसा और शोषण का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज करवाई थी। 

प्रीति जिंटा ने नेस पर आरोप लगाया था कि 2014 में आईपीएल मैच के दौरान उन्होंने उनके साथ छेड़छाड़ की थी। प्रीति ने कहा था कि मैच के दौरान वीआईपी बॉक्स में आकर नेस ने उन्हें हाथ से पकड़कर खींचा और कई लोगों के सामने उनसे गालीगलौच की। वहीं नेस ने उन पर आईपीएल के हर मैच में सारी सीटें कब्जा करने का आरोप लगाया था। नेस ने कहा था कि जब वे अपनी मां के साथ मैच देखने पहुंचे तो उन्हें वहां कोई सीट नहीं मिली। इस बीच जब उन्होंने प्रीति से बात की तो वे उन पर बेवजह भड़क गईं। नेस ने ये भी कहा प्रीति ने इस बीच उनकी मां से भी बुरा बर्ताव किया था।

हांलाकि दोनों ही अपने रिश्ते को 5 साल पहले 2009 में ही खत्म कर चुके थे लेकिन वे आईपीएल की टीम किंग्स इलेवन पंजाब में पार्टनर बने रहे। चार साल बाद 2018 में दोनों ने कोर्ट में ये कहते हुए इस मामले को वापस ले लिया कि उनके बीच का विवाद सुलझा लिया गया है और वे अब आगे बढ़ना चाहते हैं। 

नेस वाडिया ने ड्राइवर के साथ की थी मारपीट

2016 में नेस वाडिया पर उनके ही ड्राइवर ने तेज गाड़ी चलाने के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज करवाया था। उनके ड्राइवर ने पुलिस से शिकायत में कहा कि जब उसने तेज गाड़ी चलाने से मना कर दिया तो नेस ने उसके साथ मारपीट की और गालियां दीं। 

वाडिया ग्रुप का इतिहास

वाडिया ग्रुप भारत का सबसे पुराना औद्योगिक घराना है। टेक्सटाइल्स, केमिकल, इलेक्ट्ऱॉनिक, हेल्थ केयर, रियल स्टेट क्षेत्र के अलावा वाडिया ग्रुप की इकाइयों में बॉम्बे डाइंग, बॉम्बे बर्मन ट्रेडिंग और गो एयर एयरलाइन भी शामिल हैं। इस ग्रुप की बिस्कुट कंपनी ब्रिटानिया के डायरेक्टर खुद नेस वाडिया हैं। 

वाडिया ग्रुप की शुरुआत 1736 में हुई थी जब लवजी नसरवानजी वाडिया ने मुंबई में एक शिपिंग इंडस्ट्री की स्थापना की। उनकी कंपनी ने ब्रिटिश सेना के लिए इंग्लैंड से बाहर जहाजों का निर्माण भी किया था। उन्होंने एशिया के पहले ड्राई डॉक बॉम्बे ड्राई डॉक की स्थापना की थी। नेस के दादा नेविल 1977 तक बॉम्बे डाइंग कंपनी के चेयरमेन रहे। इसके बाद ये पद नुस्ली वाडिया ने संभाला। वाडिया की मां मौरीन एक फ्लाइट अटेंडेंट थीं। अब वे एक फैशन मैगज़ीन ग्लैडरैग्स की मालकिन हैं। वहीं नेस के भाई जहांगीर गोएयर एयरलाइन को देखते हैं। 

वाडिया परिवार का जिन्ना कनेक्शन

वाडिया खानदान का संबंध पाकिस्तान के संस्थापक और पहले प्रधानमंत्री मोहम्मद अली जिन्ना से भी है। जिन्ना की बेटी दीना की शादी वाडिया परिवार में नेविल वाडिया से हुई थी। नेस वाडिया के पिता नुस्ली वाडिया दीना वाडिया के बेटे हैं। 

 वाडिया परिवार का सामाजिक सरोकार

वाडिया परिवार पारसी धर्म से ताल्लुक रखता है। ये परिवार पारसी प्रथा को बढ़ावा देने और ज़रूरतमंद पारसी परिवारों की मदद करने के लिए मुंबई में 'नौरोज़ जी नसरवानजी वाडिया ट्रस्ट और रुस्तोम जी नौरोज़ जी ट्रस्ट' चलाता है। नेस की पर-पर दादी जेरबाई वाडिया ने गुजरात के गांवों से लाकर मुंबई में कई पारसी परिवारों को बसाया था और उन्हें कम लागत में घर मुहैया करवाए थे।  ट्रस्ट के अलावा वाडिया ग्रुप में पुणे वाडिया कॉलेज, नेस वाडिया फाउंडेशन जैसे संस्थान भी शामिल हैं।

अंतरराष्ट्रीय संबंधों और इंजीनियरिंग मैनेजमेंट में डिग्री होल्डर हैं नेस वाडिया

नेस का जन्म लिवरपूल में हुआ था। उनकी शुरुआती पढ़ाई कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल और लॉरेंस स्कूल हिमाचल प्रदेश में हुई। इसके बाद अमेरिका में टफ्ट्स यूनिवर्सिटी से अंतरराष्ट्रीय संबंधों में और इंग्लैंड में वारविक यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग मैनेजमेंट की डिग्री ली। पढ़ाई पूरी करने के बाद वे 2011 तक  बॉम्बे डाइंग में जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर रहे। इसके बाद वह बॉम्बे बर्मा ट्रेडिंग कंपनी में डायरेक्टर और वाडिया ग्रुप की कई कंपनियों के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल रहे। 

फिलहाल नेस को 25 ग्राम मारिजुआना रखने के मामले में जापान में सोपोरो जिले की कोर्ट ने सजा सुनाई। नेस ने अपनी सफाई में कहा था कि वह ड्रग्स उन्होंने उन्होंने निजी इस्तेमाल के लिए रखा था। नेस की ये सजा 5 साल के लिए निलंबित रहेगी। इस बीच वे अगर जापान में कोई औऱ गैर कानूनी काम करते हुए पाए जाते हैं तो उन्हें जेल भेज दिया जाएगा। 

Web Title: Ness Wadia has old ties with controversies, history of Wadia Group

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे