Mumbai: Grand Ganeshotsav of lalbaugcha Raja canceled for the first time, decision taken due to Covid-19 | मुंबईः लालबागचा राजा का भव्य गणेशोत्सव पहली बार रद्द, कोविड-19 की वजह से लिया गया फैसला
इस साल नहीं होंगे लालबागचा राजा के दर्शन (फाइल फोटो)

Highlightsगणेशोत्सव भाद्र मास की चतुर्थी को मनाया जाता है जिसे गणेश चतुर्थी भी कहते हैं।सचिव सुधीर साल्वी ने कहा कि मंडल मुख्यमंत्री राहत कोष में भी दान करेगा। 

लाल बागचा राजा के इतिहास में पहली बार भगवान गणपति की प्रतिमा स्थापित नहीं की जाएगी। मुंबई स्थित लालबागचा राजाज गणेशोत्सव मंडल ने कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह फैसला किया है। मंडल के अधिकारियों ने बताया कि इसकी जगह पर रक्त दान शिविर लगाया जाएगा। गणेशोत्सव के 11 दिनों में मंडल बढ़ चढ़कर सामाजिक कार्यों में हिस्सा लेगा।

आयोजन मंडल ने कहा कि उसी स्थान पर रक्त दान शिविर, प्लाज्मा दान शिविर लगाया जाएगा। साथ ही, एलओसी और एलएसी पर शहीद हुए जवानों के परिजनों को सम्मानित किया जाएगा। ऐसा पहली बार हो रहा है जब लालबागचा राजा की मूर्ति नहीं स्थापित होगी। सचिव सुधीर साल्वी ने कहा कि मंडल मुख्यमंत्री राहत कोष में भी दान करेगा। 

गौरतलब है कि हर साल मुंबई में गणेशोत्सव बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। जहां लाखों श्रद्धालु भगवान गणेश का आशीर्वाद पाने के लिए जमा होते हैं। गणेशोत्सव भाद्र मास की चतुर्थी को मनाया जाता है जिसे गणेश चतुर्थी भी कहते हैं। इसबार यह 22 अगस्त को पड़ रहा है।

कोविड-19 से महाराष्ट्र बुरी तरह प्रभावित है। यहां अभी तक 1 लाख 76 हजार से ज्यादा संक्रमित मिल चुके हैं। लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल की स्थापना वर्ष 1934 में हुई थी। यह मुंबई के लालबाग, परेल इलाके में स्थित हैं। मंडल के अधिकारियों का कहना है कि लालबाग राजा अपने लोगों को स्वस्थ देखना चाहते हैं, यही वजह है कि इस साल न कोई मूर्ति होगी, न ही विसर्जन होगा।

Web Title: Mumbai: Grand Ganeshotsav of lalbaugcha Raja canceled for the first time, decision taken due to Covid-19
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे