karnataka assembly election prakash javadekar congress bjp karnataka bjp government | सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीएस येदियुरप्पा ने कहा, हम कल 100% बहुमत साबित करेंगे

नई दिल्ली, 18 मईः कर्नाटक में राजनीति का घमासान अभी थमा नहीं है। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट का आदेश आने के बाद सियासत और गर्मा गई है। अब भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को बहुमत सिद्ध करने के लिए करीब 28 घंटे का समय दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कर्नाटक के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा है कि हम राज्य के मुख्य सचिव के साथ चर्चा करेंगे। आगे उन्होंने कहा कि वह शनिवार को विधानसभा सत्र को बुलाएंगे और हमें 100 फीसदी विश्वास है कि हम पूर्ण बहुमत साबित करेंगे।  



वहीं, केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर कर्नाटक ने कहा कि वह शनिवार को फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित कर देंगे।

इधर, कांग्रेस नेता और सीनियर एडवोकेट अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट से बाहर आने के बाद संवाददाताओं से बातचीत करते  मनु सिंघवी ने कहा कि आज सुप्रीम कोर्ट का यह एतिहासिक फैसला है और शनिवार तक येदियुरप्पा कोई नीतिगत निर्णय नहीं ले सकते हैं, जोकि सबसे अच्छा निर्णय लिया गया है। 

ये भी पढ़ें-बीएस येदियुरप्पा कल शाम 4 बजे विधान सभा में साबित करें बहुमत: सुप्रीम कोर्ट

उन्होंने कहा कि शनिवार को दूध-दूध का पानी का पानी हो जाएगा और हम हाउस के फ्लोर पर 100 फीसदी विश्वासमत जीतेंगे ऐसा मेरा अभी विश्वास है।  वहीं,  कांग्रेस नेता अश्विनी कुमार ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने संविधान और लोकतंत्र को बचाए रखा है। यह एक फैसला है,  जिसका जश्न होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट में लोगों का विश्वास एक बार फिर जगा है।

ये भी पढ़ें-इनसाइड स्टोरी, येदियुरप्पा के बहुमत परीक्षण पर सुप्रीम कोर्ट में बीजेपी और कांग्रेस ने रखी ये दलीले

बीजेपी नेता शोभा करंदलाजे ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। हम हाउस के फ्लोर पर बहुमत साबित करेंगे। 

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के 32वें सीएम बीएस येदियुरप्पा को विधान सभा में बहुमत साबित करने के लिए शनिवार (19 मई) साम चार बजे का वक्त दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी के उस दलील को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कम से कम सोमवार तक का वक्त माँगा था लेकिन सर्वोच्च अदालत ने उनकी दलील को खारिज कर दिया।

ये भी पढ़ें-कर्नाटक में मचे घमासान के बीच PM मोदी ने दी एचडी देवगौड़ा को जन्मदिन की बधाई, ट्वीट में लिखी ये बात

कर्नाटक विधान सभा में कुल 225 सीटें हैं जिनमें से 224 सीटों के लिए चुनाव होते हैं। एक सीट पर राज्यपाल एंग्लो-इंडियन समुदाय के किसी सदस्य को मनोनीत करते हैं। 12 मई को 222 सीटों के लिए मतदान हुआ। 15 मई को आए नतीजों में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला। बीजेपी को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस गठबंधन को 38 सीटों पर जीत मिली। एक सीट केपी जनता पार्टी और एक सीट निर्दलीय विधायक को मिली। कर्नाटक विधान सभा में बहुमत के लिए 112 विधायकों के समर्थन की जरूरत होती है।