जबरन वसूली के आरोप में परमबीर सिंह, पांच अन्य पुलिसकर्मियों के विरूद्ध प्राथमिकी

By भाषा | Published: July 22, 2021 02:15 PM2021-07-22T14:15:53+5:302021-07-22T14:15:53+5:30

FIR against Parambir Singh, five other policemen for extortion | जबरन वसूली के आरोप में परमबीर सिंह, पांच अन्य पुलिसकर्मियों के विरूद्ध प्राथमिकी

जबरन वसूली के आरोप में परमबीर सिंह, पांच अन्य पुलिसकर्मियों के विरूद्ध प्राथमिकी

Next

मुंबई, 22 जुलाई मुंबई पुलिस ने भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी परमबीर सिंह, पांच अन्य पुलिसकर्मियों तथा दो अन्य लोगों के विरूद्ध एक बिल्डर से उसके खिलाफ मामले को वापस लेने के एवज में 15 करोड़ रूपये की कथित रूप से मांग किए जाने के सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज की है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

अधिकारी ने बताया कि बिल्डर की शिकायत के आधार पर दक्षिणी मुंबई के मरीन ड्राइव पुलिस थाने में यह मामला दर्ज किया है। उन्होंने इस मामले का अधिक विवरण नहीं दिया। इस मामले में जिन अन्य पांच पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया गया है, उनमें पुलिस उपायुक्त (अपराध) अकबर पठान, निरीक्षक श्रीकांक शिंदे, आशा कोरके, नंदकुमार गोपाले एवं संजय पाटिल शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में बिल्डर के दो साझेदारों सुनील जैन एवं संजय पूर्णिमा को मामले में गिरफ्तार किया गया है।

शिकायत के अनुसार जैन और पूर्णिमा ने पुलिस अधिकारियों के साथ साठगांठ कर बिल्डर के खिलाफ कुछ मामलों को वापस लेने की एवज में उससे 15 करोड़ रूपये की मांग की थी।

अधिकारी ने बताया कि बिल्डर ने अपनी शिकायत में मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त तथा अन्य का नाम लिया है।

यह मामला भारतीय दंड विधान की धारा 387,388,389 (सभी जबरन धन वसूली से संबंधित), 420 (धोखाधड़ी), 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र), 403 (संपत्ति का गलत उपयोग), 409 (लोकसेवक द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन) तथा अन्य सुसंगत धाराओं के तहत दर्ज किया गया है।

उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के समीप विस्फोटकों से लदा वाहन मिलने के मामले में निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वाझे की गिरफ्तारी के बाद इस साल मार्च में सिंह को मुंबई पुलिस के शीर्ष पद से हटा कर महानिदेशक होमगार्ड बना दिया गया था।

सिंह अनुसूचित जाति एवं जनजाति (उत्पीड़न से निवारण) अधिनियम के तहत भी एक मामले का सामना कर रहे हैं। यह मामला पुलिस निरीक्षक अकोला के बी आर घडगे कि शिकायत पर इस साल अप्रैल में दर्ज किया गया था।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: FIR against Parambir Singh, five other policemen for extortion

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे