Razorpay को हैकर्स और धोखेबाजों ने बनाया निशाना, पेमेंट गेटवे फर्म के नाक के नीचे से ₹7.38 करोड़ की हुई चोरी, साइबर सेल में मामला दर्ज

By आजाद खान | Published: May 21, 2022 08:34 AM2022-05-21T08:34:59+5:302022-05-21T09:07:08+5:30

इस मामले में आनंद ने अपनी शिकायत में यह कहा है कि कंपनी कुल 831 लेनदेन के जरिए 7.38 करोड़ रुपए नुकसान हुए है। वे इसे चाह कर भी अभी तक हासिल नहीं कर पाई है।

Razorpay targeted hackers fraudsters theft ₹ 7.38 crore payment gateway firm case registered delhi cyber cell Abhishek Abhinav Anand finserv | Razorpay को हैकर्स और धोखेबाजों ने बनाया निशाना, पेमेंट गेटवे फर्म के नाक के नीचे से ₹7.38 करोड़ की हुई चोरी, साइबर सेल में मामला दर्ज

Razorpay को हैकर्स और धोखेबाजों ने बनाया निशाना, पेमेंट गेटवे फर्म के नाक के नीचे से ₹7.38 करोड़ की हुई चोरी, साइबर सेल में मामला दर्ज

Next
Highlightsरेजरपे ने कहा है कि उनके सिस्टम के जरिए 7.38 करोड़ रुपए की चोरी की गई है।यह चोरी उसके सिस्टम के साथ छेड़छाड़ और हेराफेरी करके की गई है। मामले में कंपनी ने दिल्ली के दक्षिण-पूर्व साइबर अपराध प्रकोष्ठ में शिकायत दर्ज की है।

Razorpay Fraud: पेमेंट गेटवे कंपनी रेजरपे ने अपनी पुलिस शिकायत में यह कहा है कि उसके सिस्टम के साथ छेड़छाड़ और हेराफेरी करके 7.38 करोड़ रुपए की चोरी की गई है। कंपनी द्वारा दर्ज की गई पुलिस शिकायत के मुताबिक, हैकर्स और धोखाधड़ी करने वाले ग्राहकों ने कुल 831 फेल लेनदेन को सही बताने के लिए रेजरपे सॉफ्टवेयर की ऑथराइजेशन प्रोसेस के साथ छेड़छाड़ गिया गया है और इसके बाद यह फ्रॉड किया गया है। इस मामले में रेजरपे के कानूनी विवाद और कानून प्रवर्तन प्रमुख अभिषेक अभिनव आनंद ने 16 मई को दिल्ली के दक्षिण-पूर्व साइबर अपराध प्रकोष्ठ में अपनी शिकायत दर्ज की है। आनंद ने अपनी शिकायत में यह कहा है कि कंपनी कुल 831 लेनदेन के जरिए नुकसान हुए 7.38 करोड़ रुपए को हासिल नहीं कर पाई है। 

रेजरपे ने अपनी शिकायत में क्या कहा

मामले में अभिषेक अभिनव आनंद ने अपनी शिकायत में कहा, “इन 831 लेनदेन को ऑथेंटिकेशन और ऑथराइजेशन नाकाम होने के कारण फिसर्व द्वारा विफल या असफल के रूप में चिह्नित किया गया था। हालांकि, यह पता चला है कि कुछ अज्ञात हैकर्स और धोखाधड़ी वाले ग्राहकों ने ‘प्राधिकरण और प्रमाणीकरण प्रक्रिया’ में छेड़छाड़, परिवर्तन और हेरफेर किया है…” आनंद ने इस पर आगे कहा, “इस धोखाधड़ी की वजह से 831 लेनदेन के खिलाफ ‘स्वीकृत’ के रूप में झूठे परिवर्तित संचार को रेजरपे सिस्टम को भेजा गया, जिसके परिणामस्वरूप रेजरपे को 7,38,36,192 रुपए का नुकसान हुआ।”

16 व्यापारियों ने लगाया कंपनी को चुना

इस पर पूरी जानकारी के लिए जब कंपनी ने फिनटेक और भुगतान कंपनी फिसर्व से संपर्क साधा तो इस फ्रॉड के खुलासे हुए हैं। फिसर्व जो कि कंपनी की एक ‘ऑथराइजेशन एंड ऑथेंटिकेशन पार्टनर’ है ने बताया है कि ये जो भी लेनदेन हुए है उनका ट्रांजेक्शन फेल हो गया था। कंपनी ने फिसर्व से मिली जानकारी के आधार पर मामले की जांच कराई थी जिसमें यह खुलासा हुआ कि इसी साल 6 मार्च से 13 मई के बीच में 16 ऐसे व्यापारियों ने 831 लेनदेन के जरिए 7,38,36,192 रुपए की चोरी की है। 

इसके बाद रेजरपे ने आरोपी व्यापारियों को कन्फर्मेशन मैसेज भेज कर लेनदेन के हिसाब को सुलझाने की बात कही है। इस मामले में अभिषेक अभिनव आनंद ने दिल्ली साइबर सेल से पूरी जानकारी साझा कर लेनदेन की डिटेल्स को दिया है। पुलिस मामले की जांच में लगी है। 

Web Title: Razorpay targeted hackers fraudsters theft ₹ 7.38 crore payment gateway firm case registered delhi cyber cell Abhishek Abhinav Anand finserv

क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे