Syed Mushtaq Ali Trophy 2023: टूर्नामेंट में कई रिकॉर्ड टूटे, 1503 छक्के, 11 गेंदों में फिफ्टी, शीर्ष प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी, टीम इंडिया के लिए इसमें क्या है?, यहां जानें सबकुछ

Syed Mushtaq Ali Trophy review 2023: प्रमुख घरेलू टी20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (एसएमएटी) ने कई रिकॉर्ड दिए। नए खिलाड़ी ने जमकर हाथ खोले। 

By सतीश कुमार सिंह | Published: November 8, 2023 05:46 PM2023-11-08T17:46:11+5:302023-11-08T17:48:04+5:30

Syed Mushtaq Ali Trophy review 2023 Key stats, top performers, potential India players records broken 1503 sixes fifty in 11 balls What’s in there for Indian team? | Syed Mushtaq Ali Trophy 2023: टूर्नामेंट में कई रिकॉर्ड टूटे, 1503 छक्के, 11 गेंदों में फिफ्टी, शीर्ष प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी, टीम इंडिया के लिए इसमें क्या है?, यहां जानें सबकुछ

file photo

Next
Highlightsदेश की क्रिकेट प्रणाली और राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है।आगामी टी20 विश्व कप केवल सात महीने दूर है। चयनकर्ता सलिल अंकोला और शिव सुंदर दास फाइनल मैच देखने गए थे।

Syed Mushtaq Ali Trophy review 2023: मोहाली में हाई-स्कोरिंग थ्रिलर मैच में पंजाब ने करिश्मा कर दिया। बड़ौदा को 20 रन से हराकर सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी20 टूर्नामेंट में पहली ट्रॉफी अपने नाम की। फाइनल में अनमोलप्रीत सिंह और भारतीय तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह ने शानदार प्रदर्शन किया। 

प्रमुख घरेलू टी20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (एसएमएटी) ने कई रिकॉर्ड दिए। नए खिलाड़ी ने जमकर हाथ खोले। देश की क्रिकेट प्रणाली और राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण है। आगामी टी20 विश्व कप केवल सात महीने दूर है। चयनकर्ता सलिल अंकोला और शिव सुंदर दास फाइनल मैच देखने गए थे।

एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड

आक्रामक बल्लेबाजी देखने को मिली। इस साल अब तक खेले गए सभी टी20 मैचों में टूर्नामेंट का रन रेट 8.09 था, जबकि कुल रन रेट 8.01 था। इसमें SMAT के इतिहास में सबसे अधिक छक्के (1503) भी लगे। टूर्नामेंट में कई रिकॉर्ड टूटे। पंजाब ने आंध्र के खिलाफ 275/6 का सर्वोच्च स्कोर बनाया। भारतीय टी20 टीम की ओर से एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड (22) दर्ज किया।

अरुणाचल प्रदेश के खिलाफ रेलवे के लिए आशुतोष शर्मा की 11 गेंदों में अर्धशतक ने युवराज सिंह के 12 गेंदों में अर्धशतक के लंबे समय से चले आ रहे रिकॉर्ड को तोड़ दिया, जो उन्होंने 2007 में उद्घाटन विश्व टी20 में इंग्लैंड के खिलाफ बनाया था। पंजाब के सफल अभियान में 23 साल के अभिषेक शर्मा ने अहम भूमिका निभाई और 192.46 के स्ट्राइक रेट से 485 रन बनाए।

एसएमएटी में लगातार सात बार पचास से अधिक का स्कोर बनाया

सलामी बल्लेबाज ने 39 छक्के लगाए और हर 3.4 गेंदों पर बाउंड्री (चौके और छक्के दोनों) लगाए। प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया। रियान पराग का पर्पल पैच लगातार जारी रहा। 21 वर्षीय देवधर ट्रॉफी (354) में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे और इसके बाद उन्होंने एसएमएटी में लगातार सात बार पचास से अधिक का स्कोर बनाया।

उन्होंने 510 रन बनाए और टूर्नामेंट में 500 रन का आंकड़ा पार करने वाले तीसरे खिलाड़ी बन गए। उन्होंने 182.79 की औसत से 85 की औसत से रन बनाए। पहली बार कप्तान बने पराग के अलावा ऋषव दास और सुमित घाडीगांवकर ने भी छाप छोड़ी। उत्तर प्रदेश के लिए भुवनेश्वर कुमार की वापसी संतोषजनक रही।

युजवेंद्र चहल ने सात पारियों में 11 शिकार किए

वह 16 विकेट के साथ संयुक्त रूप से तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। युजवेंद्र चहल ने सात पारियों में 11 शिकार किए। संजू सैमसन का प्रदर्शन स्थायी प्रभाव नहीं छोड़ सका। उन्होंने छह पारियों में 138 रन बनाए। हर्षल पटेल ने छह मैचों में हरियाणा के लिए ओपनिंग भी की थी। टूर्नामेंट बेहद निराशाजनक रहा और उनका अंत सात विकेट और 124 रनों के साथ हुआ।

उमरान मलिक, मुकेश कुमार, वाशिंगटन सुंदर, अवेश खान और अर्शदीप सिंह भी प्रभाव नहीं डाले। रिंकू सिंह, तिलक वर्मा, रुतुराज गायकवाड़, रवि बिश्नोई और यशस्वी जयसवाल ने अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया। रिंकू ने निचले क्रम में अच्छा प्रदर्शन किया और 170 से अधिक की स्ट्राइक रेट से 256 रन बनाए।

दुबे ने मुंबई के लिए 190 रन बनाए

तिलक ने बड़ौदा के खिलाफ शतक लगाया, जबकि गायकवाड़ ने विदर्भ के खिलाफ भी यही उपलब्धि हासिल की। जयसवाल ने तेज शुरुआत दी। शिवम दुबे और वेंकटेश अय्यर के पास मौके थे, लेकिन वे कोई खास प्रभाव नहीं डाल सके। दुबे ने मुंबई के लिए 190 रन बनाए और अय्यर मध्य प्रदेश के लिए पांच मैचों में 122 रन बनाने में सफल रहे।

सनवीर सिंह और अभिमन्यु सिंह राजपूत जैसे तेज गेंदबाजी ऑलराउंडरों ने भी क्षमता दिखाई। चहल को रवि बिश्नोई से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा। भारत के लिए 16 टी20 मैच खेल चुके हैं। बिश्नोई ने आठ मैचों में 13 विकेट लिए। सुयश शर्मा ने दोनों स्पिनरों को पछाड़ दिया। उन्होंने केवल सात मैचों में 18 विकेट हासिल किए। संयुक्त रूप से दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए। 

भारतीय टीम के लिए इसमें क्या है? रियान पराग, अभिषेक शर्मा और सुयश शर्मा जैसे खिलाड़ियों ने एसएमएटी में अच्छा प्रदर्शन किया। टी20 विश्व कप को देखते हुए क्या वह अंतरराष्ट्रीय मंच के लिए तैयार हैं? भारत मौजूदा एकदिवसीय विश्व कप के तुरंत बाद घरेलू मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच टी20 मैच भी खेलेगा।

Open in app