Hima Das was in tears during national anthem after winning historical gold medal | ऐतिहासिक गोल्ड जीतने के बाद राष्ट्रगान बजने पर भावुक हुईं हिमा दास, छलक पड़े आंसू, देखें वीडियो

नई दिल्ली, 14 जुलाई: किसी भी खिलाड़ी के लिए  विश्व स्तर पर अपने देश का प्रतिनिधित्व करना और फिर गोल्ड जीतना सबसे गौरवशाली क्षण होता है। दुनिया के सामने पोडियम पर राष्ट्रगान गाने का सम्मान बहुत कम खिलाड़ियों को मिल पाता है। 

कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया भारत की 18 वर्षीय हिमा दास ने, जिन्होंने शुक्रवार को फिनलैंड में आईएएएफ अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर की रेस 51.46 सेकेंड में पूरा करते हुए एथलेटिक्स ट्रैक इवेंट में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बन गई हैं। 

असम के नौगांन जिले के कंधुलीमारी गांव के किसान की बेटी हिमा दास ने पूरे देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया। पोडियम पर गोल्ड मेडल लेते समय देश का राष्ट्रगान गाते समय हिमा भावुक हो गईं और उनकी आंखों से आंसू छलक पड़े। कभी हिमा का सपना था पोडियम पर खड़े होकर देश का राष्ट्रगान गाना, इसे उन्होंने फिनलैंड में सच कर दिखाया।

पढ़ें: हिमा दास ने रचा इतिहास, बनीं वर्ल्ड चैंपियनशिप के ट्रैक इवेंट में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय

हिमा ने कहा, 'मैं चाहती थी कि राष्ट्रगान बजे और ऐसा होने पर मैं खुशी के साथ रो पड़ी। मैं अपने माता-पिता और अपने कोच को धन्यवाद कहना चाहती हूं, जो मुझे गुवाहाटी से बाहर लाए। साथ ही मैं भारत के लोगों का भी  उनके आशीर्वाद के लिए शुक्रिया अदा करना चाहती हूं।'

पढ़ें: हिमा दास ने वर्ल्ड एथलेटिक्स में गोल्ड जीत रचा इतिहास, सोशल मीडिया में लगा बधाइयों का तांता


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए हिमा दास के भावुक होने और जीत के तुरंत बाद तिरंगा खोजने के पलों की तारीफ की और इसे हर भारतीय के आखों में आंसू लाने वाला पल करार दिया। पीएम ने हिमा का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, 'हिमा दास की जीत के अविस्मरणीय पल। जीत के बाद उनका तिरंगा खोजना और राष्ट्रगान गाते समय भावुक होने ने मेरे दिल को छूल लिया। किस भारतीय की आंखों में खुशी के आंसू नहीं होंगे!' पढ़ें: हिमा दास की अंग्रेजी पर कमेंट को लेकर ट्विटर पर छाई नाराजगी के बाद एथलेटिक्स फेडरेशन ने मांगी माफी


हिमा विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के ट्रैक इवेंट में गोल्ड जीतने वाली पहली भारतीय बन गई हैं। AIFF अंडर-20 के 400 मीटर रेस के फाइनल में हिमा ने धीमी शुरुआत के बाद जोरदार वापसी की और रोमानिया की आंद्रिया मिकलोस (52.07 सेंकड)  और यूएस की टेलर मैनसन (52.28 सेकेंड) को पीछे छोड़ते हुए 51.46 सेकेंड का समय निकालते हुए ऐतिहासिक गोल्ड जीता।