Tablighi Jamaat faces criticism in Pakistan for COVID-19 spread: 2,50,000 people participated in event | पाकिस्तान में भी तबलीगी जमात से फैला कोरोना वायरस, 3 हजार विदेशियों सहित ढाई लाख लोग कार्यक्रम में हुए थे शामिल, लोग कर रहे हैं आलोचना
प्रतीकात्मक तस्वीर

Highlightsपाकिस्तान के लाहौर में भी तबलीगी जमात में शामिल 27 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।पाकिस्तान में कोरोना वायरस से 63 लोगों की मौत हो गई है।

इस्लामाबाद: भारत में केंद्र सरकार ने दावा किया है कि तबलीगी जमात की वजह से कोरोना वायरस का संक्रमण ज्यादा हुआ है। ऐसा ही कुछ पाकिस्तान में भी देखने को मिल रहा है। पाकिस्ता में भी कोविड-19 के संक्रमण को बढ़ाने को लेकर तबलीगी जमात की आलोचना हो रही है। पाकिस्तान में भी तबलीगी जमात ने अपना हर साल होने वाला धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया था। दुनियाभर में कोरोना वायरस से 70 हजार लोगों की जान जा चुकी है। पाकिस्तान में कोरोना वायरस के चार हजार से ज्यादा मरीज हैं। 

ढाई लाख से ज्यादा लोगों ने सालाना कार्यक्रम में हिस्सा लिया था- तबलीगी जमात के प्रबंधन 

पाकिस्तान की वेबसाइट डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक पंजाब प्रांत की सरकार द्वारा भारी विरोध के बाद भी वहां तबलीगी जमात ने अपना सलाना कार्यक्रम किया था। पंजाब स्पेशल ब्रांच ने बताया है कि 10 मार्च 2020 को वहां हुए कार्यक्रम में 70 से 80 हजार लोग शामिल हुए थे। 

तबलीगी जमात के प्रबंधन ने दावा किया है कि उनके वार्षिक कार्यक्रम में ढाई लाख लोगों ने हिस्सा लिया था। जिसमें 3 हजार लोगो विदेशों से आए थे, जिसमें 40 देशों के लोग शामिल थे। वह सारे लोग पाकिस्तान में ही है...क्योंकि पाकिस्तान ने कोरोना वायरस के मद्देनजर सारे इंटरनेशनल फ्लाइट पर रोक लगा दी है। 

तबलीगी जमात की वजह से पाकिस्तान का रायविंद शहर पूरी तरह सील

तबलीगी जमात के रायविंद शहर में हुए कार्यक्रम के बाद वहां सैकड़ों जमातियों के कोरोना पॉजिटिव केस आए हैं। जिसके बाद रायविंद शहर को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। रायविंद शहर की जनसंख्या दो लाख के करीब है 

पंजाब के 36 जिलों में  10,263 लोगों को क्वॉरेंटाइन किया गया है, जिन्होंने पिछले महीने कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। तबलीगी जमात के 539 सदस्यों कोरोना के मरीज निकले हैं। रायविंद शहर 
404 से सबसे अधिक मामले सामने आए हैं।

जानें सफाई में तबलीगी जमात ने क्या कहा? 

जमात की ओर से सफाई में सिर्फ इतना किया गया है कि उन्होंने 6 दिवसीय कार्यक्रम को घटाकर तीन दिन कर दिया था। बताया जा रहा है कि रायविंद मरकज में अभी भी करीब 5 हजार लोग हैं। इसमें से 3 हजाक लोग विदेशी हैं।

भारत और मलेशिया में तबलीगी जमात की हो रही है आलोचना

भारत और मलेशिया में तबलीगी जमात के एक हजार से ज्यादा कोरोना मरीज हैं, जिसकी वजह से वो आलोचनाओं के शिकार हो रहे हैं। भारत सरकार के मुताबिक भारत में सामने आ रहे कोरोना के कुल मामलों में 30 फीसदी जमाती हैं। भारक के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सोमवार (6 अप्रैल) को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोविड-19 के कुल 4,067 मामले सामने आए थे, जिनमें से कम से कम 1,445 पिछले महीने दिल्ली के पश्चिम निजामुद्दीन इलाके में स्थिति तबलीगी जमात के कार्यक्रम से जुड़े थे।     

केंद्र और राज्य सरकार द्वारा तबलीगी जमात के लोगों की पहचान के लिए शुरू किए  गए “व्यापक अभियान” के बाद अब तक 25,500 तबलीगी सदस्यों और उनके संपर्कों को पृथकवास में भेज दिया गया है। इस धार्मिक कार्यक्रम में 1,000 विदेशियों समेत कम से कम 9000 लोग शामिल हुए थे और इसके बाद ये लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में भी गए। राज्यों से मिली खबरों के मुताबिक इन प्रतिभागियों में से बहुत से अब भी जांच के लिए सामने नहीं आए हैं।

Web Title: Tablighi Jamaat faces criticism in Pakistan for COVID-19 spread: 2,50,000 people participated in event
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे