Pakistan's new plan to spread terror in Kashmir, entrusted work to terrorist organization like Jaish and Lashkar | पाकिस्तान का कश्मीर में आतंक फैलाने का नया प्लान, जैश व लश्कर जैसे आतंकी संगठन को सौंपा काम
सांकेतिक तस्वीर (फाइल फोटो)

Highlightsबीते दिनों पाकिस्तान में प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के वरिष्ठ पदाधिकारियों के बीच कई बैठकें हुई है।लश्कर के पेरेंट संगठन जमात-उद-दावा के महासचिव आमिर हमजा ने मार्क सुभान अल्लाह, जेएम के वरिष्ठ पदाधिकारियों से कश्मीर को लेकर मुलाकात की।आतंकवादी सूत्रों से मीडिया को जानकारी मिली है कि प्रत्येक तंजीम को 20 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं, अभी और 30 लाख देने की बात कही गई है।

नई दिल्ली:जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाए हुए है। यही वजह है कि पाकिस्तान कश्मीर में आतंक फैलाकर इस क्षेत्र को अशांत करना चाहता है।

एचटी रिपोर्ट की मानें तो अब पाकिस्तानी सेना ने कश्मीर में आतंक फैलाने की जिम्मेदारी जैश-ए मोहम्मद व लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठन को सौंपा है। 

इस बारे में भारतीय खुफिया और सुरक्षा एजेंसियों को अहम जानकारी हाथ लगी है। यही वजह है कि सुरक्षा व खुफिया एजेंसियों द्वारा तैयार किए गए एक डोजियर के अनुसार, जैश कमांडर मुफ्ती मोहम्मद असगर खान कश्मीरी संयुक्त समन्वय के साथ लश्कर, जेईएम, हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) और तालिबान सहित प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के वरिष्ठ पदाधिकारियों के बीच कई बैठकें हुई है।

मिली जानकारी के मुताबिक, पहली अहम बैठक 27 दिसंबर, 2019 को हुई, जब लश्कर के पेरेंट संगठन जमात-उद-दावा के महासचिव आमिर हमजा ने मार्क सुभान अल्लाह, जेएम के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ मुलाकात की। बहावलपुर, संसाधनों को साझा करने और भारत के खिलाफ संचालन को तेज करने के लिए एक संयुक्त रणनीति बनाने के लिए ये बैठक हुई थी।

इस्लामाबाद में 3-8 जनवरी और 19 जनवरी, 2020 को पाकिस्तान के समर्थन में बैठकें आयोजित की गईं। इन बैठकों में मुफ्ती अब्दुल रऊफ असगर, जेएम के वास्तविक प्रमुख, मौलाना अम्मार, बीमार जेएम प्रमुख मसूद अजहर के भाई, जकी-उर-रहमान लखवी, एल के मुख्य परिचालन कमांडर सहित दो विश्व स्तर पर नामित आतंकवादी समूहों के शीर्ष पदाधिकारियों ने भाग लिया। परिचालन तालमेल पर निर्णय लेने के बाद, मुफ्ती असगर कश्मीरी ने योजना को लागू करने के लिए कश्मीर में अपने  लोगों से भी संपर्क किया है। 

इसके अलावा, आतंकवादी सूत्रों से मीडिया को जानकारी मिली है कि प्रत्येक तंजीम को 20 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं और इसके साथ ही अगर उनके द्वारा सफल संचालन किया जाता है तो 30 लाख रुपये अतिरिक्त देने का वादा भी किया गया है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में नियंत्रण रेखा के पार विभिन्न लॉन्च पैड्स में लगभग 270 से 300 आतंकवादी डेरा डाले हुए हैं।

Web Title: Pakistan's new plan to spread terror in Kashmir, entrusted work to terrorist organization like Jaish and Lashkar
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे