बौद्ध भिक्षु और शांति कार्यकर्ता थिच नहत हान का 95 वर्ष की आयु में निधन

By अनिल शर्मा | Published: January 22, 2022 07:54 AM2022-01-22T07:54:50+5:302022-01-22T07:58:10+5:30

मठवासी संगठन 'प्लम विलेज' की वेबसाइट पर इस खबर की घोषणा की। प्लम विलेज ने कहा कि थिच नहत हान का स्थानीय समयानुसार शनिवार सुबह “शांतिपूर्वक” निधन हो गया।

buddhist monk and peace activist thich nhat hanh dies at 95 | बौद्ध भिक्षु और शांति कार्यकर्ता थिच नहत हान का 95 वर्ष की आयु में निधन

बौद्ध भिक्षु और शांति कार्यकर्ता थिच नहत हान का 95 वर्ष की आयु में निधन

Next
Highlights थिच नहत हान ने विश्वभर में शांति फैलाने का काम किया थिच नहत हान ने वियतनाम युद्ध को रोकने के लिए पश्चिमी नेताओं की पैरवी की थी इस वजह से उन्हें 39 साल के लिए निर्वासित कर दिया गया था

वियतनामी बौद्ध भिक्षु, शांति कार्यकर्ता और अग्रणी आवाज थिच नहत हान का वियतनाम के ह्यू में तू हिउ मंदिर में निधन हो गया है। वह 95 वर्ष के थे। उन्होंने मठवासी संगठन 'प्लम विलेज' की स्थापना की थी। इस संगठन की वेबसाइट पर इस खबर की घोषणा की।
प्लम विलेज ने कहा कि थिच नहत हान का स्थानीय समयानुसार शनिवार सुबह “शांतिपूर्वक” निधन हो गया।

प्लम विलेज के बयान में कहा गया है, "थाय (थिच नहत हान) सबसे असाधारण शिक्षक रहे हैं। जिनकी शांति, कोमल करुणा और उज्ज्वल ज्ञान ने लाखों लोगों के जीवन को प्रभावित किया है।" "चाहे हमने उनका सामना रिट्रीट पर, सार्वजनिक वार्ता में, या उनकी पुस्तकों और ऑनलाइन शिक्षाओं के माध्यम से - या केवल उनके अविश्वसनीय जीवन की कहानी के माध्यम से किया हो - हम देख सकते हैं कि थाय एक सच्चे बोधिसत्व रहे हैं।"

प्लम विलेज के मुताबिक, थिच नहत हान ने 1961 में प्रिंसटन विश्वविद्यालय में तुलनात्मक धर्म सिखाने के लिए अमेरिका की यात्रा की। उस दशक के बाद, उन्होंने कॉर्नेल और कोलंबिया विश्वविद्यालय में व्याख्यान दिया, जहां उन्होंने शांति का संदेश फैलाना जारी रखा और वियतनाम युद्ध को समाप्त करने के लिए पश्चिमी नेताओं की पैरवी की।

साल 1967 में, डॉ. मार्टिन लूथर किंग, जूनियर ने थिच नहत हान को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया। उन्हें "शांति और अहिंसा का प्रेरित" कहा। हालांकि, उस वर्ष कोई नोबेल शांति पुरस्कार नहीं दिया गया। युद्ध का विरोध करने को लेकर थिच नहत हान के मिशन को उत्तरी वियतनाम और दक्षिण वियतनाम दोनों ने दशकों तक देश में लौटने के अधिकार से वंचित कर दिया। उन्हें 39 साल के लिए निर्वासित कर दिया गया था और केवल 2005 में उन्हें अपने वतन लौटने की अनुमति दी गई थी।

Web Title: buddhist monk and peace activist thich nhat hanh dies at 95

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे