Halharini Amavasya 2022: कब है हलहारिणी अमावस्या? किसानों के लिए बेहद खास होती है यह तिथि, जानें महत्व

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: June 24, 2022 02:10 PM2022-06-24T14:10:32+5:302022-06-24T14:11:36+5:30

इस अमावस्या को कृषि से जोड़कर देखा जाता है। इस दिन किसानों के द्वारा इस दिन हल और खेती से संबंधित उपकरणों की पूजा की जाती है और भगवान से अच्छी फसल और अधिक उत्पादन के लिए प्रार्थना भी करते हैं।

Halharini Amavasya 2022 date significance of Ashadha Amavasya | Halharini Amavasya 2022: कब है हलहारिणी अमावस्या? किसानों के लिए बेहद खास होती है यह तिथि, जानें महत्व

Halharini Amavasya 2022: कब है हलहारिणी अमावस्या? किसानों के लिए बेहद खास होती है यह तिथि, जानें महत्व

Next

Halharini Amavasya 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार, हलहारिणी अमावस्या आषाढ़ माह की अमावस्या तिथि को कहा जाता हैं। हलहारिणी अमावस्या केवल पितृ तर्पण के लिए ही नहीं, बल्कि किसानों के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है। दरअसल, इस अमावस्या को कृषि से जोड़कर देखा जाता है। इस दिन किसानों के द्वारा इस दिन हल और खेती से संबंधित उपकरणों की पूजा की जाती है और भगवान से अच्छी फसल और अधिक उत्पादन के लिए प्रार्थना भी करते हैं। इस बार 28 जून, मंगलवार को हलहारिणी अमावस्या पड़ेगी। 

किसानों के लिए बेहद खास होती है यह अमावस्या 

किसानों के द्वारा हलहारिणी अमावस्या का व्रत बड़े उल्लास से मनाया जाता है। इस दिन किसान बैलों से खेतों में काम नहीं करते बल्कि उन्हें चरने के लिए खुला छोड़ देते हैं। इस दिन किसान अपनी खेती में उपयोग किए जाने वाले उपकरणों की पूजा करते हैं। हलहारिणी अमावस्या वर्षा ऋतु के ठीक आरंभ होने से पहले आती है, जिसमें किसान ईश्वर से अच्छी फसल और अच्छी पैदावार की कामना करते हैं। 

आषाढ़ अमावस्या पर पितृ तर्पण

हिंदू धर्म में प्रत्येक अमावस्या तिथि को पितृ तर्पण के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन अपने दिवंगत पूर्वजों की आत्मा की तृप्ति के लिए   पितृ तर्पण किया जाता है। इस दिन लोग प्रातः काल गंगा जी में या किसी पवित्र नदी में स्नान करके पितरों का तर्पण, श्राद्ध व पूजा पाठ करते हैं, ताकि उनके पूर्वजों की आत्मा को मोक्ष प्राप्त हो और वे उन्हें खुशहाली का आशिर्वाद प्रदान करें। 

इन चीजों का करें दान

आषाढ़ी आमावस्या पर स्नान के पश्चात दान करने से विशेष पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन आप गरीब या जरुरतमंद लोगों में तिल, तेल, चावल, चद्दर, छाता, चना, खिचड़ी, पुस्तक, साबूदाना, मिठाई, चने की दाल, अन्न, वस्त्र, रुई, उड़द की दाल बांट सकते हैं। 

अमावस्या तिथि

अमावस्या तिथि  28 जून, मंगलवार की सुबह 05:53 से प्रारंभ हो जाएगी। जो अगले दिन 29 जून, बुधवार की सुबह 08:23 तक रहेगी। 

Web Title: Halharini Amavasya 2022 date significance of Ashadha Amavasya

पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे