सेक्स एक ऐसा विषय है जिसके बारे में हर कोई खुलकर बात नहीं करता है। और अगर करते भी हैं तो केवल उन्हीं से जिनके साथ वे कम्फर्टेबल हों। कम लोगों से बात करने के कारण ही सेक्स को लेकर कई सारी गलतफहमियां कपल्स के बीच प्रचलित हो जाती हैं। आज हम सेक्स से जुड़ी कुछ ऐसी ही भ्रांतियों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिनपर कपल्स आंख मूंदकर विश्वास कर लेते हैं लेकिन असलियत में ये सभी महज मिथक हैं। 

1. पुरुष लिंग बड़ा हो तो ही बेहतर है

पुरुषों में यह मिथाक्क काफी फेमस है कि पुरुषों का लिंग साइज़ में जितना बड़ा होगा, सेक्स का उतना ही अधिक आनंद मिलता है। लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है। एक शोध के अनुसार बड़े पुरुष लिंग के कारण अधिक दर्द और कम इंजॉयमेंट मिलती है।

2. पीरियड्स में कॉन्ट्रसेप्‍शन की जरूरत नहीं

कपल्स के बीच यह बात काफी प्रचलित है कि अगर लड़की अपने पीरियड्स साइकिल से गुजर रही है तो उस समय बिना कॉन्ट्रसेप्‍शन के सेक्स किया जा सकता है। इससे लड़की प्रेग्नेंट नहीं होगी। लेकिन यह महज एक मिथक है। पीरियड्स में भी सेक्स करने से प्रेगनेंसी की संभावना होती है। अगर मेल स्पर्म फीमेल वेजाइना में रह जाए और पीरियड्स खत्म होने तक टिका रहे तो वह बाद में प्रेगनेंसी का कारण बन सकता है।

3. जल्दी निकालने से प्रेग्नेंट नहीं होते

पुरुषों के मुताबिक अगर सेक्स के दौरान कॉन्ट्रसेप्‍शन का इस्तेमाल ना किया जाए और एजेकुलेशन से ठीक पहले प्राइवेट पार्ट को बाहर निकाल लिया जाए तो इससे प्रेग्‍नेंसी की संभावना खत्‍म हो जाएगी। लेकिन यह सच नहीं है। कुछ पुरुषों को प्री-एजेकुलेशन  भी हो जाता है जिसका उन्हें मालूम नहीं पड़ता। ऐसे में प्रेगनेंसी की संभावना बढ़ जाती है।

सेक्स के बाद कुछ मर्दों का रोने का करता है मन, रिसर्च में हुआ खुलासा

4. सेक्स के दौरान ऑर्गेज्‍म जरूरी नहीं

यह बिलकुल गलत फैक्ट है। अगर सेक्स के दौरान पुरुषों के लिए एजेकुलेशन जरूरी है तो महिलाओं के लिए ऑर्गेज्‍म का होना भी इम्पोर्टेन्ट है। और अगर ऐसा ना हो पाए तो उसे करना का अलग तरीका अपनाएँ। खुद को अपने आप ही एक्स्प्लोर करने की कोशिश करें।

5. सेक्स लाइफ है तो मास्‍टरबेशन ना करें

कुछ लोग यह कहते हैं कि अगर सेक्स लाइफ चल रही है और एक्टिव है तो ऐसे व्यक्ति को मास्‍टरबेशन नहीं करना चाहिए। लेकिन यह सरासर गलत है। मास्‍टरबेशन का सेक्स से या उसकी परफॉरमेंस से कोई लेना देना नहीं होता है।

6. ऑर्गेज्‍म के लिए पेनिट्रेशन काफी है

यह सच है कि सेक्स के दौरान पेनिट्रेशन सबसे जरूरी चीज होती है, लेकिन महिलाएं इसी से ऑर्गेज्‍म रिलीज करती हैं यह एक गलत फैक्ट है। ज्यादातर महिलाओं को क्लिटोरियल स्टिम्युलेशन से अधिक ऑर्गेज्‍म मिलता है। वह इससे अधिक प्रसन्न होती हैं।

7. पुरुष हमेशा तैयार रहते हैं

2016 में हुए एक शोध के अनुसार महिलाओं में पुरुषों की तुलना में सेक्स को लेकर अधिक उत्सुकता रहती है। 71 फीसदी महिलाओं ने बताया कि वे जितना सेक्स कर चुकी हैं, अभी उससे कई अधिक करने की चाहत रखती हैं। 

8. सेक्स मतलब ऑर्गेज्‍म

यह बिलकुल भी जरूरी नहीं है। यदि महिला को सेक्स के दौरान ऑर्गेज्‍म नहीं हो रहा है तो संभव है कि उसे दूसरे तरीके अपनाने चाहिए। और अगर सेक्स के दौरान ही पुरुष को ऑर्गेज्‍म की चाहत हो तो फॉरप्ले पार्ट को अधिक कर देना चाहिए।

रिश्ते-नातों से जुड़ी अन्य ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट!


रिश्ते नाते से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे