sub-sonic cruise missile Nirbhay successfully test fired know top 10 destroyer missile in world including india brahmos | स्वदेशी मिसाइल 'निर्भय' का परीक्षण सफल, जानें 10 विध्वंसक मिसाइलों के बारे में जो मिनटों में कर देंगी नेस्तनाबूद
स्वदेशी सबसोनिक क्रूज मिसाइल 'निर्भय' का सफल परीक्षण

Highlights1000 किलोमीटर तक मार करेगी निर्भय मिसाइल।निर्भय सभी मौसम में काम करने वाली क्रूज मिसाइल है।

भारत ने स्वदेशी सबसॉनिक क्रूज मिसाइल 'निर्भय' का ओडिशा तट से सटे चांदीपुर स्थित टेस्ट रेंज में सफल परीक्षण किया गया। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित इस मिसाइल का छठा परीक्षण था।

निर्भय मिसाइल 300 किलोग्राम परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम है और 1000 किलोमीटर के दायरे में स्थित ठिकानों को निशाना बना सकती है। निर्भय सभी मौसम में काम करने वाली क्रूज मिसाइल है।

यह मिसाइल नीचे उड़ान भरने में सक्षम है जिससे यह दुश्मन के रडान से छिपकर आतंकी अड्डों को आसानी से निशाना बना सकती है। यह मिसाइल ब्रह्मोस की कमी को पूरा करती है, क्योंकि उसकी मारक सीमा 290 किलोमीटर है, जबकि निर्भय लंबी दूरी तक मार कर सकती है।

मिसाइल के क्षेत्र में भारत का सफर काफी आगे बढ़ चुका है। भारत के पास सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस के अलावा अंतर-महाद्वीपिय मिसाइल अग्नि भी है, जो 5500 किमी से ज्यादा दूरी तक मार कर सकता है। हालांकि दुनिया में इन मिसाइलों से भी बेहद खतरनाक मिसाइलें हैं जो मिनटों में दुश्मन को नेस्तनाबूद कर सकती है। आइये जानते हैं 10 टॉप मिसाइलों के बारे में

LGM-30 Minuteman, अमेरिका

LGM-30 Minuteman एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) है। 13,000 किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाले यह मिसाइल एक साथ 3 परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम है। यह एक साथ ही तीन अलग-अलग ठिकानों को तबाह कर सकता है। अमेरिकी सेना ने इसे ट्राइडेंट मिसाइल सिस्टम से लैस करके दुनिया की सबसे मारक मिसाइल बना दिया है। फिलहाल ये अमेरिकी सेना में शामिल इकलौती अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल है।

R-36, रूस

यह दुनिया की सबसे लंबी दूरी तक मारे करने वाली मिसाइल है। 8 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से चलने वाली यह मिसाइल 16 हजार किलोमीटर तक लक्ष्य को भेद सकती है। परमाणु हथियारों के अलावा दुनिया की सबसे ज्यादा विस्फोटक अपने साथ ले जाने में सक्षम मिसाइल भी है। यह अपने साथ 550 किलोग्राम वजनी परमाणु बम ले जाने में सक्षम है। ये एक साथ 10 से ज्यादा ठिकानों पर निशाना साधने में रक्षम है। इसे शुरुआत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों के लिए बनाया गया था, लेकिन बाद में मारक मिसाइल में तब्दील कर दिया गया। 

DF-41, चीन

इस मिसाइल की मारक क्षमता 14 हजार किलोमीटर है। 8.16 किलोमीटर प्रति सेकेंड की स्पीड से चलने वाली यह मिसाइल दुनिया की दूसरी सबसे लंब दूरी तय कर मार करने वाली मिसाइल है जिसें चीन ने बनाया है। चीन इसी मिसाइल के दम पर अमेरिका, जापान और भारत समेत पूरी दुनिया को आंख दिखाता है।

M51, फ्रांस 

फ्रांस द्वारा निर्मित यह M51 एसएलबीएम यानि बैलिस्टिक मिसाइल है। यह ईएडीएस एस्ट्रियम अंतरिक्ष परिवहन द्वारा डिजाइन किया गया था और फ्रांसीसी नौसेना द्वारा प्रयोग किया जाता है। यह मिसाइल अपने साथ 8 से 10 थर्मोन्यूक्लियर हथियार ले जाने में सक्षम है और इसे पानी के अंदर पनडुब्बी से भी दागा जा सकता है। 

UGM-133 Trident ll, अमेरिका

अमेरिकी हथियार निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन की ओर से विकसित की गईं ये बैलिस्टिक मिसाइल पानी से भी दागी जा सकती हैं। चीन की DF-41 से इतर ये मिसाइल पनडुब्बियों पर भी तैनात हैं, जिनकी जद में पूरी दुनिया है। इस मिसाइल का इस्तेमाल सिर्फ अमेरिका और ब्रिटेन की रॉयल नेवी करती है। परमाणु हथियारों से लैस ये मिसाइल एक साथ कई लक्ष्यों को भेदने में सक्षम है। 1983 में विकसित इस मिसाइल को अमेरिकी और ब्रिटिश सेना 1990 से इस्तेमाल कर रहे हैं, जिनकी मारक क्षमता 7840 किलोमीटर तक है।

Jericho lll, इजरायल

इजरायल की हथियार प्रणाली बेहद गोपनिय होती है और जनता के बीच इनकी जानकारी बेहद कम है। Jericho lll इजरायल द्वारा निर्मित अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईएसबीएम) है। यह लगभग परमाणु हथियारों सहित 1000 किलो का विस्फोटक ले जा सकता है। इसकी रेंज 2000 किमी से लेकर 11,500 किलोमीटर तक होने का अनुमान लगाया गया है।

BrahMos, भारत

इस मिसाइल को भारत और रूस ने मिलकर बनाया है। ये मिसाइल महज 290 किमी तक ही मार करने में सक्षम है, लेकिन सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल की श्रेणी में दुनिया की उन गिनी चुनी मिसाइलों में से एक है, जिसे जल, थल, वायु कहीं से भी दागा जा सकता है। इस मिसाइल को दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल होने का तमगा प्राप्त है, जो रडार की पकड़ में नहीं आती। ये मिसाइल सिर्फ 10 मीटर की ऊंचाई पर उड़ने की भी क्षमता रखती है, जिसकी वजह से इसे दुश्मन के रडार से कभी पकड़ा नहीं जा सकता। 

Tomahawk, अमेरिका

इस मिसाइल का उपयोग अमेरिका ने अफगानिस्तान और इराक युद्ध में किया था। टॉमहॉक क्रूज मिसाइल मध्यम से लंबी दूरी तक मार करने की सबसे खतरनाक मिसाइल है। टॉम हॉक 1500 किलोमीटर की दूरी से अपना लक्ष्य साध कर हमला करती है। इस मिसाइलों को पकड़ पाना बेहद मुश्किल है, जो छोड़े जाने के महज कुछ ही देर में अपने लक्ष्य को तहस नहस कर देती हैं। टॉमहॉक ने सबसे पहले 1991 के खाड़ी युद्ध में अपना जौहर दिखाया था। 

V-2 Rocket, जर्मनी

वी -2 रॉकेट को आज के मिसाइल और रॉकेट टेक्नोलॉजी का अगुआ कहा जाता है। यह इंसानों द्वारा बनाया गया पहला रॉकेट था जो अंतरिक्ष में प्रवेश करने में सक्षम था। इसे नाजी शासन में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान बनाया गया। जर्मनी ने इसका इस्तेमाल लंदन और एंटवर्प में बमबारी के लिए किया था। कहा जाता है कि 3000 वी-2 राकेट ने करीब 9000 लोगों को मारा था। इसके अलावा इसे बनाने के दौरान यातना शिविरों में मौजूद 12 हजार मजबूर मजदूरों की मौत हो गई। 

PGM-17 Thor, अमेरिका

यह पहली बैलिस्टिक मिसाइल है जो 1950 में उपयोग में लाया गया। अमेरिकी वायु सेना के यूनाइटेड किंगडम में तैनात एक मध्यवर्ती दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल के रूप में इसका इस्तेमाल किया गया। यह 20 मीटर की ऊंचाई और 2.4 मीटर के एक व्यास के साथ एक प्रभावशाली मिसाइल था।

English summary :
India successfully tested the indigenous Subsonic cruise missile 'Nirbhay' in the test range located in Chandipur, adjacent to Odisha coast. This was the sixth test of the missile developed by Defense Research and Development Organization (DRDO).


Web Title: sub-sonic cruise missile Nirbhay successfully test fired know top 10 destroyer missile in world including india brahmos
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे