RSS प्रमुख मोहन भागवत का बयान- अगर भारत को भारत बने रहना है तो उसे हिंदू बने रहना होगा

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: November 28, 2021 07:42 AM2021-11-28T07:42:31+5:302021-11-28T07:53:48+5:30

संघ प्रमुख ने कहा, ‘‘इतिहास गवाह है कि जब भी हिंदू ‘भाव’ (पहचान) को भूले, देश के सामने संकट खड़ा हो गया और वह टूट गया लेकिन अब (हिंदू का) पुनरूत्थान हो रहा है...

rss chief mohan bhagwat statement If india has to remain india it has to remain hindu | RSS प्रमुख मोहन भागवत का बयान- अगर भारत को भारत बने रहना है तो उसे हिंदू बने रहना होगा

RSS प्रमुख मोहन भागवत का बयान- अगर भारत को भारत बने रहना है तो उसे हिंदू बने रहना होगा

Next
Highlightsसंघ प्रमुख ने मोहन भागवत ने कहा, भारत को पहचान बनाए रखनी है तो उसे हिंदू बने रहना होगाजब भी हिंदू अपनी पहचान भूले, देश के सामने संकट आयाः मोहन भागवतजिस किसी बात को हिंदू कहा जाता है, उसका विकास इसी भूमि में हुआः RSS प्रमुख

ग्वालियरः राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को कहा कि ‘‘हिंदुस्तान’’ एक हिंदू राष्ट्र है जिसका उद्गम हिंदुत्व था तथा हिंदू एवं भारत अविभाज्य हैं। उन्होंने कहा, हिंदुस्तान हिंदुओं का देश है, इसलिए हिन्दू राष्ट्र रहेगा।  हिन्दू के बिना भारत नहीं भारत के बिना हिन्दू नही रहेगा, भारत हिन्दुस्तान है, भारत और हिन्दू अलग हो नहीं सकते। आरएसएस प्रमुख ने यह भी कहा कि हिंदू यदि हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को ‘अखंड’ बनना ही होगा।

भारत को पहचान बनाए रखनी है तो उसे हिंदू बने रहना होगा

मोहन भागवत ये बातें ग्वालियर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।  भागवत ने कहा, ‘‘हिंदुस्तान एक हिंदू राष्ट्र है और उसका उद्गम हिंदुत्व था । हिंदू भारत से अविभाज्य हैं और भारत हिंदू से अविभाज्य है।’’ उन्होंने यह भी कहा कि यदि भारत को अपनी पहचान बनाये रखनी है तो उसे हिंदू बने रहना होगा तथा हिंदू यदि हिंदू बने रहना चाहते हैं तो भारत को ‘अखंड’ बनना ही होगा।

जब भी हिंदू अपनी पहचान भूले, देश के सामने संकट आया

संघ प्रमुख ने कहा, ‘‘इतिहास गवाह है कि जब भी हिंदू ‘भाव’ (पहचान) को भूले, देश के सामने संकट खड़ा हो गया और वह टूट गया लेकिन अब (हिंदू का) पुनरूत्थान हो रहा है तथा भारत की प्रतिष्ठा वैश्विक रूप से बढ़ रही है। दुनिया भारत को निहार रही है और उसके लिए समाज के सभी वर्गों को मिलकर काम करना चाहिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ यदि भारत को भारत बने रहना है तो उसे हिंदू बने रहना होगा और यदि हिंदू हिंदू बने रहना चाहते है तो भारत को अखंड होना ही होगा।

जिस किसी बात को हिंदू कहा जाता है, उसका विकास इसी भूमि में हुआ

भागवत ने आगे कहा, यह हिंदुस्तान है जहां हिंदू रह रहे हैं और अपनी परंपराओं का पालन कर रहे हैं। जिस किसी बात को हिंदू कहा जाता है, उसका विकास इसी भूमि में हुआ।’’ भागवत ने कहा कि हिंदुओं के बिना भारत नहीं है और भारत के बिना हिंदु नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘भारत का विभाजन हुआ और पाकिस्तान बना क्योंकि हम उस भाव (पहचान) को भूल गये कि हम हिंदू हैं। और इसे मुसलमान भी भूल गये। ब्रिटिश ने हिंदुत्व की पहचान को तोड़ दिया तथा भाषा एवं धर्म के आधार पर बांट दिया।’’ 

Web Title: rss chief mohan bhagwat statement If india has to remain india it has to remain hindu

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे