पीएम 'माफीवीर' बनें और अग्निपथ स्कीम वापस लें, विरोध के बीच बोले राहुल गांधी- सरकार ने 'जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का लगातार अपमान किया

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: June 18, 2022 11:37 AM2022-06-18T11:37:18+5:302022-06-18T11:41:57+5:30

'अग्निपथ’ योजना के विरोध के बीच शुक्रवार को कुछ राज्यों में राजमार्ग और रेलवे स्टेशन में हिंसा देखी गई। तेलंगाना के सिकंदराबाद में पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

Rahul Gandhi tweet PM have to withdraw Agneepath scheme Government continuously insulted values of Jai Jawan, Jai Kisan | पीएम 'माफीवीर' बनें और अग्निपथ स्कीम वापस लें, विरोध के बीच बोले राहुल गांधी- सरकार ने 'जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का लगातार अपमान किया

पीएम 'माफीवीर' बनें और अग्निपथ स्कीम वापस लें, विरोध के बीच बोले राहुल गांधी- सरकार ने 'जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का लगातार अपमान किया

Next
Highlightsअग्निपथ योजना को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैंहिंसक प्रदर्शनों के बीच राहुल गांधी ने पीएम से कहा कि उन्हें अग्निपथ को वापस लेना पड़ेगासरकार ने मंगलवार को इस योजना की शुरुआत करते हुए कहा था कि सेना में भर्ती 4 साल के लिए की जाएगी

नयी दिल्लीः कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विवादित कृषि कानूनों को वापस लेना पड़ा था, ठीक उसी तरह उन्हें युवाओं की मांग को स्वीकार करना होगा और ‘अग्निपथ’ रक्षा भर्ती योजना को वापस लेना पड़ेगा। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार लगातार आठ वर्षों से ‘जय जवान, जय किसान’ के मूल्यों का ‘अपमान’ कर रही है।

‘अग्निपथ’ योजना के विरोध के बीच शुक्रवार को कुछ राज्यों में राजमार्ग और रेलवे स्टेशन में हिंसा देखी गई। तेलंगाना के सिकंदराबाद में पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी, जबकि कुछ शहरों में ट्रेन में आग लगाए जाने और निजी एवं सार्वजनिक वाहनों में तोड़फोड़ किए जाने की घटनाएं सामने आई थीं।

राहुल ने ट्वीट किया, ‘‘आठ वर्षों से भाजपा सरकार ने ‘जय जवान, जय किसान' के मूल्यों का लगातार अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री जी को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें ‘माफीवीर’ बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और ‘अग्निपथ’ को वापस लेना ही पड़ेगा।’’ सरकार ने मंगलवार को इस योजना की शुरुआत करते हुए कहा था कि साढ़े 17 से 21 साल तक की उम्र के युवाओं को संविदा के आधार पर चार साल के कार्यकाल के लिए थल सेना, वायुसेना और नौसेना में भर्ती किया जाएगा।

सरकार ने कहा था कि रक्षा जरूरतों के आधार पर 25 प्रतिशत जवानों को नियमित सेवा के लिए बरकरार रखा जाएगा। ‘अग्निपथ’ योजना को लेकर बढ़ते विरोध के मद्देनजर भर्ती के लिए ऊपरी आयु सीमा गुरुवार को बढ़ाकर 23 साल कर दी गई थी। नयी भर्ती योजना को सरकार ने तीनों सेनाओं में युवाओं की संख्या बढ़ाने के लिए दशकों पुरानी चयन प्रक्रिया में एक बड़े बदलाव के रूप में पेश किया है।

Web Title: Rahul Gandhi tweet PM have to withdraw Agneepath scheme Government continuously insulted values of Jai Jawan, Jai Kisan

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे