चिराग पासवान ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर कटाक्ष करते हुए कहा, "नेता के बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ेंगे तभी सुधरेगी व्यवस्था"

By एस पी सिन्हा | Published: July 9, 2022 06:16 PM2022-07-09T18:16:53+5:302022-07-09T18:20:19+5:30

लोजपा (रामविलास) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने पटना में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि शिक्षा के महत्व को मैं समझता हूं। मगर, हमारे राज्य के नीति निर्धारक उतना नहीं समझते हैं।

Chirag Paswan took a dig at Bihar's education system and said, "The system will improve only when the children of the leader will study in a government school" | चिराग पासवान ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर कटाक्ष करते हुए कहा, "नेता के बच्चे सरकारी स्कूलों में पढ़ेंगे तभी सुधरेगी व्यवस्था"

फाइल फोटो

Next
Highlightsबिहार में शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाना है तो नेताओं के बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाया जाएचिराग ने कहा कि शिक्षा के महत्व को मैं समझता हूं मगर राज्य के नीति निर्धारक नहीं समझते हैंराजस्थान के कोटा का हाल देखिए, वहां पढ़ने वाले और पढ़ाने वाले दोनों ही बिहारी हैं

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) प्रमुख और सांसद चिराग पासवान ने कहा है कि बिहार में शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाना और इसे बेहतर बनाना है तो इसके लिए जरूरी है कि सभी नेताओं के बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिए। जब तक नेता के बच्चे सरकारी स्कूलों में नहीं पढ़ेंगे तो व्यवस्था ठीक नहीं होगी।

पटना में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि शिक्षा के महत्व को मैं समझता हूं। मगर, हमारे राज्य के नीति निर्धारक उतना नहीं समझते हैं।

उन्होंने कहा कि बिहार में ज्ञान और टैलेंट की कमी नहीं है लेकिन यहां कमी है तो व्यवस्था की। शिक्षा के मामले में बिहार का गौरवशाली इतिहास रहा है पर आज की तारीख में सबसे ज्यादा हाशिए पर बिहार में शिक्षा व्यवस्था ही है।

चिराग ने कहा कि यहां के बच्चे दूसरे प्रदेश में पढ़ाई करने जाते हैं. वहां पढ़ाई कर टॉप करते हैं। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि कोटा का हाल देखिए? वहां पढ़ने वाला और पढ़ाने वाले बिहारी हैं। वहां शिक्षण संस्थानों के मालिक बिहारी हैं, पर व्यवस्था राजस्थान सरकार की है। आखिर वो व्यवस्था बिहार में क्यों नहीं हो सकती है?

चिराग ने साफ तौर पर कहा कि हमारे मुख्यमंत्री को पब्लिक पॉलिसी बनाने की जरूरत है। मुख्यमंत्री उम्र और अनुभव में मुझसे काफी ज्यादा बड़े हैं, पर मुझे उनकी नीतियों में दिक्कत दिखाई देती है।

उन्होंने कहा कि बिहार में प्रखंड स्तर पर शिक्षा व्यवस्था बेहद खराब है। हमारा राज्य अक्सर गलत नीतियों को लेकर सुर्खियों में रहता है। इस मौके पर उन्होंने शिक्षकों की बहाली पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि ऐसे शिक्षकों की बहाली सरकार ने की है, जो बच्चों सही से पढ़ा नहीं पाते हैं। जब उनसे कोई सवाल पूछा जाता है तो उसका सही जवाब नहीं दे पाते हैं।

इसे लेकर कई बार सुर्खियां बनी। इन्हें बहाल करने वाले राज्य के अधिकारी भी दोषी हैं। लोजपा सांसद ने कहा कि बिहार में बीमार होने पर इमरजेंसी में गरीब परिवारों को एम्बुलेंस की सुविधा नहीं मिल पाती है। मगर हमारे मुख्यमंत्री आंख का एक छोटा सा ऑपरेशन कराने के लिए चार्टेड प्लेन से दिल्ली चले जाते हैं।

बिहार में शिक्षा के साथ ही मेडिकल व्यवस्था को सही करना है। यहां से लोगों के पलायन को रोकना है। राज्य को विकसित बनाना है तो इसके लिए व्यवस्था बदलने की सोच के साथ बिहार को बदलने की सोच पैदा करनी होगी।

Web Title: Chirag Paswan took a dig at Bihar's education system and said, "The system will improve only when the children of the leader will study in a government school"

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे