Ayodhya Verdict Exclusive: 'Somnath Model' can be adopted for Ayodhya Ram Mandir Trust | Ayodhya Verdict Exclusive: अयोध्या ट्रस्ट के लिए अपनाया जा सकता है 'सोमनाथ मॉडल', रामनवमी तक निर्माण कार्य शुरू करने की योजना
Ayodhya Verdict Exclusive: अयोध्या ट्रस्ट के लिए अपनाया जा सकता है 'सोमनाथ मॉडल', रामनवमी तक निर्माण कार्य शुरू करने की योजना

Highlightsयह संभव है कि RSS से किसी प्रतिनिधि को इस ट्रस्ट में जिम्मेदारी सौंपी जाए. केंद्र और राज्य सरकार की ओर से चार—चार सदस्य को ट्रस्ट के लिए नामित किया जा सकता है.

अयोध्या फैसला आने के बाद सरकार अब इसके लिए अगले तीन महीने में एक ट्रस्ट का गठन करेगी. यह ट्रस्ट ही यह तय करेगा कि आगे के कार्य और निर्माण कार्य कैसे किए जाएं. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने संकेत दिए हैं कि यहां पर आने वाले समय में सोमनाथ ट्रस्ट के मॉडल पर ट्रस्ट बनाया जा सकता है. ऐसा होने पर केंद्र और राज्य के नामित व्यक्ति इस ट्रस्ट के सदस्य होंगे.

सोमनाथ ट्रस्ट में इस समय आठ सदस्य हैं. इनमें से एक चेयरमेन भी होता है. केंद्र और राज्य सरकार की ओर से चार—चार सदस्य को ट्रस्ट के लिए नामित किया जा सकता है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि संघ इस ट्रस्ट का सदस्य नहीं होगा. इसकी वजह यह है कि संघ किसी भी संस्था में बतौर एक संगठन कभी नहीं रहता है. यह संभव है कि संघ से किसी प्रतिनिधि को इस ट्रस्ट में जिम्मेदारी सौंपी जाए.

जब भी कोई नया ट्रस्ट बनता है तो पहले पुराने बने हुए ट्रस्ट का अवलोकन किया जाता है और उसके बेहतर पक्षों को नए ट्रस्ट में शामिल किया जाता है. हमारे पास सोमनाथ ट्रस्ट की सफलता है. हमें उम्मीद है कि उससे कुछ प्रेरणा अवश्य हासिल की जाएगी. सोमनाथ ट्रस्ट में हमेशा से राजनैतिक लोगों का वर्चस्व रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के अलावा पूर्व गृह मंत्री और लौह पुरूष सरदार पटेल तक इस ट्रस्ट के सदस्य रहे हैं.

सोमनाथ ट्रस्ट को देश के सबसे बेहतर ट्रस्ट में शामिल किया जाता है और यहां आने वाले श्रद्धालु भी इसके कार्य की प्रशंसा करते रहे हैं. संघ के इस वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि फिलहाल वहां पर निमार्ेही अखाड़े से ही जुड़े एक पक्ष के व्यक्ति के पास पूजा का दायित्व है. फैसले के तुरंत बाद इसमें किसी तरह के बदलाव की हमें आशा नहीं है. लेकिन जब ट्रस्ट बनेगा तो इस पर चर्चा हो सकती है. इसके अलावा यहां पर निर्माण कार्य और अन्य कदमों को लेकर भी ट्रस्ट ही निर्णय करेगा. यह सरकार का दायित्व और कर्तव्य है कि वह समयबद्ध तरीके से ट्रस्ट का निर्माण करे.

रामनवमी तक निर्माण कार्य शुरू करने की योजना

सरकार के सूत्रों के मुताबिक सरकार ट्रस्ट का गठन अगले तीन महीने में कर देगी. इसके साथ ही उसका इरादा यह है कि वह अप्रैल 2020 की शुरुआत में नवरात्रि के बाद रामनवमी को यहां पर निर्माण कार्य को शुरू कर दे. अगर यह कार्य बड़े स्तर पर नहीं भी होता है तो इसका सांकेतिक स्तर पर शुरू किया जाए.


Web Title: Ayodhya Verdict Exclusive: 'Somnath Model' can be adopted for Ayodhya Ram Mandir Trust
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे