अफगानिस्तान: महिलाओं पर सख्त हुआ तालिबान, महिला कलाकारों वाले कार्यक्रम बंद करने और महिला पत्रकारों को हिजाब पहनने का निर्देश

By विशाल कुमार | Published: November 22, 2021 08:14 AM2021-11-22T08:14:18+5:302021-11-22T08:17:14+5:30

अफगान मीडिया को जारी किए गए अपने पहले निर्देश में तालिबान के सदाचार को बढ़ावा और बुराई पर रोक के मंत्रालय ने महिला टेलीविजन पत्रकारों से अपनी रिपोर्ट पेश करते समय इस्लामी हिजाब पहनने का भी आह्वान किया।

afghanistan taliban women actors shows women journalists hijab | अफगानिस्तान: महिलाओं पर सख्त हुआ तालिबान, महिला कलाकारों वाले कार्यक्रम बंद करने और महिला पत्रकारों को हिजाब पहनने का निर्देश

अफगानिस्तान: महिलाओं पर सख्त हुआ तालिबान, महिला कलाकारों वाले कार्यक्रम बंद करने और महिला पत्रकारों को हिजाब पहनने का निर्देश

Next
Highlightsटेलीविजन चैनल महिला कलाकारों वाले ड्रामा शो और शोप ओपेरा दिखाना बंद कर दें.महिला पत्रकारों से रिपोर्ट पेश करते समय इस्लामी हिजाब पहनने का भी आह्वान किया।पैगंबर मोहम्मद या अन्य सम्मानित व्यक्ति वाले कार्यक्रम न दिखाने का निर्देश।

काबुल: अफगानिस्तान के तालिबान अधिकारियों ने रविवार को एक नया धार्मिक दिशानिर्देश जारी किया जिसमें कहा गया कि देश के टेलीविजन चैनल महिला कलाकारों वाले ड्रामा शो और शोप ओपेरा दिखाना बंद कर दें.

अफगान मीडिया को जारी किए गए अपने पहले निर्देश में तालिबान के सदाचार को बढ़ावा और बुराई पर रोक के मंत्रालय ने महिला टेलीविजन पत्रकारों से अपनी रिपोर्ट पेश करते समय इस्लामी हिजाब पहनने का भी आह्वान किया।

इसके साथ ही मंत्रालय ने चैनलों से उन फिल्मों या कार्यक्रमों को प्रसारित नहीं करने के लिए कहा जिनमें पैगंबर मोहम्मद या अन्य सम्मानित व्यक्ति दिखाए जाते हैं। इसने उन फिल्मों या कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया जो इस्लामी और अफगान मूल्यों के खिलाफ हैं।

मंत्रालय के प्रवक्ता हकीफ मोहजीर ने कहा कि ये नियम नहीं बल्कि एक धार्मिक दिशानिर्देश हैं। नया निर्देश रविवार देर रात सोशल मीडिया नेटवर्क पर व्यापक रूप से प्रसारित किया गया।

इस बात पर जोर देने के बावजूद कि वे इस बार और अधिक संयम से शासन करेंगे, तालिबान ने पहले ही नियम लागू कर दिए हैं कि महिलाएं विश्वविद्यालय में क्या पहन सकती हैं और प्रेस की स्वतंत्रता को बनाए रखने का वादा करने के बावजूद कई अफगान पत्रकारों को पीटा और परेशान किया।

साल 2001 में तालिबान के शासन का अंत होने के बाद पश्चिमी देशों की मदद से अफगान मीडिया बहुत तेजी और आधुनिक तरीके से आगे बढ़ाया।

इससे पहले 1996 से 2001 तक के अपने शासन में तालिबान ने अफगान मीडिया- टेलीविजन, फिल्मों और मनोरंजन के अन्य रूपों पर प्रतिबंध लगा दिया था। तब केवल एक रेडियो स्टेशन, वॉयस ऑफ शरिया था, जो प्रचार और इस्लामी प्रोग्रामिंग प्रसारित करता था।

Web Title: afghanistan taliban women actors shows women journalists hijab

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे