Highlightsशरीर में यूरिक एसिड बढ़ने से गाउट होने का खतरा होता है शराब और चीनी जैसी चीजें यूरिक एसिड का ज्यादा उत्पादन करती हैं सेब जैसी चीजें खाने से आपको फायदा हो सकता है

गाउट एक तरह का गठिया का ही रूप है जो शरीर में यूरिक एसिड लेवल बढ़ने के कारण होता है।इसकी वजह से जोड़ों में दर्द और सूजन पैदा होती है। यह आमतौर पर आपके पैरों को प्रभावित करता है। इससे पैर के जोड़ों में सूजन और दर्द, विशेष रूप से बड़े पैर की अंगुली में दर्द होता है। जोड़ में यूरिक एसिड क्रिस्टल बनने से गाउट के तीव्र लक्षण जल्दी आते हैं औरयह लक्षण 3 से 10 दिनों तक रह सकते ते हैं।  

यूरिक एसिड पाचन का एक बाइप्रोडक्ट है। यह एक बेकार उत्पाद है जिसे शरीर किडनी के जरिये जारी करता है। यूरिक एसिड लेवल को कम करने के लिए आपको मांस, समुद्री भोजन, पशु प्रोटीन और यहां तक कि कुछ दालों के सेवन से बचना चाहिए। हालांकि यूरिक का केवल एक तिहाई आहार प्रोटीन द्वारा निर्मित होता है और इसका दो-तिहाई हिस्सा शरीर द्वारा ही निर्मित किया जाता है।

यूरिक एसिड बढ़ने से नुकसान

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने से आपको गठिया रोग होने का खतरा रहता है। इससे आपको हाथों पैरों में जकड़न महसूस होने लगती है। यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स यूरिन नली में जमा हो जाते हैं, जिससे किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है। एक शोध में बताया गया है खून में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने से दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा यूरिक लेवल ज्यादा हाई होने पर हार्ट अटैक भी आ सकता है। इससे इंसुलिन का बैलेंस बिगड़ जाता है जिससे डायबिटीज का खतरा भी बढ़ जाता है। इसके अलावा बीपी या हाइपरटेंशन की समस्या का एक कारण यूरिक एसिड भी है।

गाउट की समस्या से बचने के लिए आपको ऐसी चीजों का सेवन करना चाहिए जो शरीर में यूरिक एसिड को कम करती हैं। हम आपको रोजाना इस्तेमाल होने वाली कुछ ऐसी चीजों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आपको तुरंत खाना बंद कर देना चाहिए या बहुत कम मात्रा में सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से आपके शरीर में यूरिक एसिड नहीं बढ़ेगा और आपको गाउट जैसी समस्या से बचने में मदद मिलेगी।

चीनी

अधिक चीनी के सेवन से न केवल डायबिटीज और इंसुलिन प्रतिरोध का खतरा बढ़ जाता है, बल्कि शरीर द्वारा यूरिक एसिड का उत्पादन भी बढ़ जाता है। साथ ही, यह उस दर को कम करता है जिस पर यूरिक एसिड शरीर द्वारा उत्सर्जित होता है। जिन लोगों में गाउट होता है, उनमें 95% को हाइपरिन्सुलिनिमिया भी होता है। शुगर आंत में खराब बैक्टीरिया को बढ़ाता है जिससे शरीर में अधिक यूरिक एसिड पैदा होता है।

फ्रुक्टोज

फलों के ठोस पदार्थों में से अधिकांश चीनी हैं। इस चीनी में सभी ग्लूकोज और फ्रुक्टोज होते हैं। इन शर्करा को शर्करा को कम करना कहा जाता है। इसके अलावा, फलों की संरचना में सुक्रोज के कई अलग-अलग मात्रा होते हैं। इन उत्पादों के अधिक सेवन से यूरिक एसिड का उत्पादन बढ़ सकता है।

शराब

अधिक शराब के सेवन से शरीर में यूरिक एसिड का उत्पादन बढ़ जाता है और इसका स्राव कम हो जाता है। शराब नहीं पीने से रक्त में यूरिक एसिड के स्तर को नीचे लाने में मदद मिलती है।

अधिक प्यूरीन वाले खाद्य पदार्थ

कुछ प्रकार की मछली और भोजन जैसे शेलफिश, एंकोवी, सार्डिन, हेरिंग, मसल्स, कोडफिश, स्कैलप्स, ट्राउट और हैडॉक आदि में प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है। इसके अलावा कुछ मीट जैसे बेकन, टर्की, वील, वेनिसन, बीफ, चिकन, बतख, पोर्क और लीवर में भी प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है। 

यूरिक एसिड लेवल कम करने के लिए खायें चीजें

इसके लिए आपको रोजाना सेब, सेब का सिरका, फ्रेंच बीन्स, चेरी, बेरी, केले, ग्रीन टी, टमाटर, खीरे और ब्रोकोली जैसे चीजों का सेवन करना चाहिए।

English summary :
Gout is a form of arthritis that occurs due to increasing uric acid levels in the body, causing pain and swelling in the joints. It usually affects your feet.


Web Title: Uric acid and gout: food to avoid and include your diet to decreased uric acid level in your body and keep away gout
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे