tight clothes may cause of vaginal yeast infection in girls | सावधान! टाइट जींस-अंडरवियर पहनने वाली लड़कियों को हो सकता है योनि से जुड़ा ये रोग, सेक्स लाइफ को खतरा
फोटो- पिक्साबे

आजकल लड़कियां टाइट जीन्स, लोअर, लेगिंग, शॉर्ट्स, कैपरी पहनती हैं। बेशक इन कपड़ो में आप हॉट एंड सेक्सी नजर आ सकती हैं लेकिन इस तरह के कपड़े आपकी योनि (Vagina) के लिए नुकसानदायक साबित हो सकते हैं। मेडिकल एक्सपर्ट और अध्ययन इस बात का दावा करते हैं कि टाइट कपड़े पहनने से महिलाओं को वैजाइनल यीस्ट इन्फेक्शन (Vaginal yeast infection) का खतरा हो सकता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें उन्हें डिस्चार्ज, खुजली, जलन, सेक्स और पेशाब के दौरान दर्द व जलन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। 

दिल्ली स्थित मोंगा क्लीनिक में गायनेकोलॉजिस्ट डॉटर सुमन के अनुसार, योनि महिला के शरीर के सबसे नाजुक हिस्सों में से एक है और इसकी विशेष देखभाल की जरूरत होती है। उचित देखभाल नहीं करने से इस हिस्से में तेजी से बैक्टीरिया पैदा हो सकते हैं जिससे आपको वैजाइनल यीस्‍ट इन्फेक्शन का खतरा होता है।  

आजकल लड़कियों का टाइट कपड़े पहनना आम फैशन है। अब छोटे शहरों में भी यह प्रचलन बढ़ गया है। वास्तव में टाइट कपड़े पहनने से योनि और पेल्विक हिस्से में पसीने और चुभन से यीस्ट इन्फेक्शन होने का खतरा रहता है। इस तरह के कपड़े पहनने से त्वचा को हवा नहीं मिल पाती है और वहां नमी बनने से संक्रमण का खतरा बढ़ता है। 

डॉक्टर के अनुसार लड़कियों को यीस्ट इन्फेक्शन से बचने के लिए टाइट कपड़े पहनने से बचना चाहिए। इसके अलावा कॉटन के कपड़े पहनें। इसके अलावा हमेशा कॉटन का अंडरवियर ही लें। गीले कपड़े पहनने से बचें और एक्सरसाइज के बाद हमेशा कपड़ों को धोकर सुखाएं।  

वैजाइनल यीस्‍ट इन्फेक्शन क्या है (causes and symptoms of Vaginal yeast infection)

डॉक्टर के अनुसार, यह एक दर्दनाक स्थिति है जो 75 फीसदी महिलाओं को अपने जीवन में कभी न कभी अनुभव होती है। इसे कैंडिडिआसिस (candidiasis) के रूप में भी जाना जाता है। 

इसके लक्षणों में बहुत अधिक खुजली, जलन, दर्द और डिस्‍चार्ज आदि शामिल हैं। योनि और उसके आसपास के हिस्से में नमी की वजह से फंगस को बढ़ने का मौका मिलता है। यह संक्रमण कैंडिडा एल्बीकैंस नामक फंगस के कारण होता है। इससे बचने के लिए इन बातों का ध्यान रखें- 

1) कॉटन इनर वियर पहनने 
कॉटन इनर वियर पहनने में आरामदायक होते हैं, तेजी से सूखते हैं। कॉटन का कपड़ा बैक्टीरिया और यीस्ट के विकास को रोकते हैं। सिंथेटिक इनर वियर पहनने से इस हिस्से में जलन पैदा हो सकती है।

2) सेक्स के बाद योनि को धोयें 
सेक्स के बाद योनि को धोने से संक्रमण की संभावना को कम करने में मदद मिलती है। इससे वो जीवाणु साफ़ हो जाते हैं, जो सेक्स के दौरान प्रवेश कर जाते हैं। सेक्स के बाद दोनों पार्टनर को अपने अंगों की सफाई करनी चाहिए। 

3) पेशाब के बाद भी योनी को धोयें
बैक्टीरिया मूत्रमार्ग के जरिये भी फैल सकते हैं। इसलिए मूत्र पथ में किसी भी संक्रमण को रोकने के लिए पेशाब के बाद तुरंत पानी से अंगों को धोना इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है। पेशाब से बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। 

4) टाइट कपड़े पहनने से बचें 
बहुत ज्यादा टाइट कपडे पहनने से निचले हिस्से में हवा नहीं पहुंच पाती है। इससे नमी का खतरा होता है और नमी में बैक्टीरिया तेजी से पनपते हैं। इसलिए आपको लंबे समय तक टाइट कपड़े पहनने से बचना चाहिए। 

5) कठोर साबुन के इस्तेमाल से बचें
योनि अपने आप में एक बहुत ही संवेदनशील हिस्सा है और कठोर साबुन का उपयोग करने से इसका पीएच लेवल कम हो जाता है। पीएच लेवल नार्मल रहना चाहिए जो 3.5-4.5 के बीच है। इसमें असंतुलन से बैक्टीरिया पैदा हो सकता है। इसलिए योनि को साफ करने के लिए सादे गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करना चाहिए।


Web Title: tight clothes may cause of vaginal yeast infection in girls
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे