Rajasthan: 6 policeman raped a woman who reached the police station to rescue his brother-in-law in Churu | राजस्थान: देवर को छुड़ाने के लिए थाने पहुंची महिला का 6 सिपाहियों ने किया गैंगरेप, नोचे हाथ-पैर के नाख़ून
इस मामले में राज्य सरकार ने क्षेत्राधिकारी (सीओ) को सस्पेंड करते हुए चूरू के एसपी को हटा दिया है.

Highlightsमहिला का आरोप है कि थानाधिकारी ने उसे थाने में बंधक बनाकर पिटाई की और हाथ व पैरों के नाखून नोंच लिए. मृतक के परिजनों ने मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है.

राजस्थान के चूरू जिले में पुलिस हिरासत में हुई एक युवक की मौत के मामले में उस समय नया मोड़ आ गया, जब उसकी भाभी ने थानाधिकारी सहित आधादर्जन पुलिसकर्मियों पर गैंगरेप करने का आरोप लगाया. महिला का आरोप है कि थानाधिकारी रणवीर सिंह ने उसे अवैध तरीके से थाने में बंधक बनाकर पिटाई की और हाथ व पैरों के नाखून नोंच लिए.

उसका कहना है कि आंखों के सामने ही 6-7 जुलाई की रात को सरदारशहर थाने में उसके देवर की पीट- पीटकर हत्या कर दी गई. पुलिस ने हत्या के सबूत नष्ट करने के उद्देश्य से 7 जुलाई की रात देवर का शव जबरदस्ती जलवा दिया. इस मामले में राज्य सरकार ने क्षेत्राधिकारी (सीओ) को सस्पेंड करते हुए चूरू के एसपी को हटा दिया है.

उधर, मृतक के परिजनों ने मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है. एएसपी ओमप्रकाश ने बताया कि सरदारशहर थाने की पुलिस ने चोरी के एक मामले में छह जुलाई को नेमीचंद नायक को पकड़ा था. नायक की पुलिस हिरासत के दौरान उसी रात अस्पताल में मौत हो गई. जबकि नायक की भाभी ने कहा है कि विगत तीन जुलाई को पुलिस उसके देवर नेमीचंद को जीप में डालकर थाने ले गए.

रास्ते में देवर ने उसे बताया कि 5-6 दिन से जबरदस्ती पुलिस हिरासत में रखकर रोजाना पिटाई कर रही है. जब वह थाने पहुंची तो उसे भी पुलिसकर्मियों ने बंधक बना लिया और उसकी पिटाई की. महिला का आरोप है कि थानाधिकारी सहित कई पुलिसकर्मियों ने उसके साथ गैंगरेप किया. इस दौरान पुलिसकर्मियों ने जबरन कुछ कागजों पर अंगूठा लगवा लिए और रेप एवं देवर की हत्या की बात किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी.

गंभीर रूप से घायल महिला का जयपुर के एसएमएस हॉस्पीटल में इलाज चल रहा है. इस संबंध में महिला की ओर से एक पत्र पुलिस मुख्यालय को भेजा गया है. वहीं, पुलिस की एक टीम महिला का बयान लेने अस्पताल गई थी,जहां उसने बयान दर्ज कराने से इनकार कर दिया.'' पुलिस के मुताबिक हम महिला का बयान दर्ज करने की कोशिश कर रहे हैं. उसकी शिकायत पर उचित कार्रवाई की जाएगी.

उधर, एएसपी ने माना है कि ऐसा एक वीडियो सामने आया है, जिसमें कुछ महिलाओं का आरोप है कि उक्त महिला के साथ पुलिस थाने में मारपीट और जबरदस्ती की गई. जांच में एसपी और सीओ की लापरवाही उजागर राज्य सरकार ने इस मामले की जांच करवाई थी. प्रारंभिक जांच में सामने आया कि युवक के साथ थाने में मारपीट की गई. चूरू एसपी की भी लापरवाही मानी गई कि उन्होंने गंभीर मामले को गंभीरता से नहीं लिया.

वहीं सरदारशहर के सीओ ने भी मामले का सुपरविजन नहीं किया. इन दोनों अफसरों की लापरवाही सामने आने पर राज्य सरकार ने इनके खिलाफ कार्रवाई की है. कार्मिक विभाग के आदेश के अनुसार चूरू के एसपी राजेंद्र कुमार को प्रशासनिक कारणों के चलते एपीओ पदस्थापन की प्रतीक्षा में कर दिया गया है.

वहीं सरदारशहर के सीओ भंवरलाल को सस्पेंड किया गया है. इससे पहले सरदारशहर के थानाधिकारी सहित 7 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर थाने के बाकी 26 लोगों के स्टाफ को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है.


Web Title: Rajasthan: 6 policeman raped a woman who reached the police station to rescue his brother-in-law in Churu
क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे