2043 people are responsible for 6 lakh 84 thousand crore NPA | देश में 2043 लोगों के पास बकाया है बैंकों का इतने लाख करोड़ रुपये, बावजूद NPA में आई कमी
देश में 2043 लोगों के पास बकाया है बैंकों का इतने लाख करोड़ रुपये, बावजूद NPA में आई कमी

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़ों के अनुसार 30 सितंबर 2018 तक देश में बैंकों के 2043 कर्जदार ऐसे थे जिन पर सरकारी क्षेत्र के बैंकों की 25 करोड़ रुपये से अधिक की एनपीए बकाया थीं। इन कर्जदारों पर बकाया राशि की कुल मात्रा 6,84,824 करोड़ रुपये है। 

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी देते हुये बताया कि आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक सरकारी क्षेत्र के बैंकों की दबावग्रस्त संपत्तियों में अचानक हुयी वृद्धि के कारणों में अन्य बातों के अलावा आक्रामक उधार पद्धति, इरादतन चूक या ऋण धोखाधड़ी और कुछ मामलों में भ्रष्टाचार तथा आर्थिक मंदी है। 

गोयल ने बताया कि संपत्ति गुणवत्ता समीक्षा (एक्यूआर) से एनपीए में बढ़ोतरी का पता चलने के बाद बैंकों द्वारा पारदर्शी पहचान के परिणामस्वरूप दबावग्रस्त खातों को एनपीए के रूप में पुनर्वर्गीकृत किया गया। 

इसके अलावा दबावग्रस्त ऋणों से हुयी अनुमानित हानि के आंकलन के प्रावधान करते हुये वित्तीय वर्ष 2017-18 में दबावग्रस्त ऋणों की पुनर्संरचना संबंधी सभी योजनाओं को वापस भी ले लिया गया। उन्होंने आरबीआई के आंकड़ों के हवाले से बताया कि सरकारी बैंकों का 31 मार्च 2015 तक एनपीए 2,79,016 करोड़ रुपये था जो पिछले साल 31 मार्च को बढ़कर 8,95,601 करोड़ रुपये हो गया। 

एनपीए की वसूली और भुगतान के लिये शुरु की गयी समाधान योजना के परिणामस्वरूप यह घटकर 8,64,433 करोड़ रुपये रह गया। 


Web Title: 2043 people are responsible for 6 lakh 84 thousand crore NPA
कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे