IFFI जूरी हेड नदाव लपिड की टिप्पणी के बाद विवेक अग्निहोत्री ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'मैं फिल्में बनाना छोड़ दूंगा अगर कोई...'

By मनाली रस्तोगी | Published: November 29, 2022 04:58 PM2022-11-29T16:58:52+5:302022-11-29T17:02:07+5:30

ट्विटर पर शेयर किए गए एक नए वीडियो में अग्निहोत्री ने कहा कि अगर कोई यह साबित कर दे कि उन्होंने अपनी फिल्म में जो दिखाया वह सच नहीं था तो वह फिल्में बनाना बंद कर देंगे। 

Vivek Agnihotri shares video message after IFFI controversy | IFFI जूरी हेड नदाव लपिड की टिप्पणी के बाद विवेक अग्निहोत्री ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'मैं फिल्में बनाना छोड़ दूंगा अगर कोई...'

IFFI जूरी हेड नदाव लपिड की टिप्पणी के बाद विवेक अग्निहोत्री ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'मैं फिल्में बनाना छोड़ दूंगा अगर कोई...'

Next
Highlightsफिल्म निर्माता विवेक रंजन अग्निहोत्री ने इजरायली फिल्म निर्माता नदाव लपिड द्वारा द कश्मीर फाइल्स पर की गई टिप्पणी पर प्रतिक्रिया दी।इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया के सोमवार को समापन समारोह में ज्यूरी प्रमुख नदाव लपिड ने द कश्मीर फाइल्स को 'अश्लील' करार दिया था।विवेक ने बताया कि फिल्म बनाने से पहले उन्होंने 700 लोगों का इंटरव्यू लिया था।

मुंबई: फिल्म निर्माता विवेक रंजन अग्निहोत्री ने इजरायली फिल्म निर्माता नदाव लपिड द्वारा द कश्मीर फाइल्स पर की गई टिप्पणी पर प्रतिक्रिया दी। ट्विटर पर शेयर किए गए एक नए वीडियो में अग्निहोत्री ने कहा कि अगर कोई यह साबित कर दे कि उन्होंने अपनी फिल्म में जो दिखाया वह सच नहीं था तो वह फिल्में बनाना बंद कर देंगे। 

इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया के सोमवार को समापन समारोह में ज्यूरी प्रमुख नदाव लपिड ने द कश्मीर फाइल्स को 'प्रचार फिल्म' और 'अश्लील' करार दिया था। तब से भारत और इजराइल के कई अधिकारियों, राजनेताओं और राजनयिकों ने उनके शब्दों की निंदा की है, उनसे माफी मांगने को है और यहां तक ​​कि उनके खिलाफ शिकायत भी दर्ज की है। 

अग्निहोत्री ने कहा, "यह मेरे लिए कोई नई बात नहीं है। क्योंकि ऐसी बातें अक्सर आतंकी संगठन, अर्बन नक्सल और देश को बांटने वाले लोग कहते हैं। मेरे लिए चौंकाने वाली बात यह है कि कश्मीर को भारत से अलग करने की इच्छा रखने वालों द्वारा समर्थित नैरेटिव को सरकार द्वारा भारत पर आयोजित एक कार्यक्रम के मंच पर आवाज दी गई थी और भारत में रहने वाले कुछ लोगों ने इसका इस्तेमाल देश के खिलाफ किया। ये लोग कौन हैं?"

उन्होंने कहा कि ये वही लोग हैं जो चार साल पहले से उनकी फिल्म पर आपत्ति जता रहे हैं जब उन्होंने इस विषय पर शोध करना शुरू किया था। द कश्मीर फाइल्स आतंकवादियों द्वारा समुदाय के लोगों की हत्याओं के बाद कश्मीर से कश्मीरी हिंदुओं के पलायन को दर्शाती है। बहुचर्चित फिल्म द कश्मीर फाइल्स वर्ष की सबसे सफल हिंदी फिल्मों में से एक है। विवेक ने बताया कि फिल्म बनाने से पहले उन्होंने 700 लोगों का इंटरव्यू लिया था।

वीडियो में विवेक रंजन अग्निहोत्री ने कहा, "अक्सर यह कहा जाता है कि द कश्मीर फाइल्स एक प्रोपगंडा मूवी है, कि घाटी में हिंदू कभी नहीं मारे गए। इसलिए आज मैं सभी बुद्धिजीवियों, शहरी नक्सलियों और इस्राइल के इस महान फिल्म निर्माता को चुनौती देता हूं: अगर वे यह साबित कर दें कि द कश्मीर फाइल्स का एक भी शॉट, संवाद, घटना असत्य है, तो मैं फिल्में बनाना बंद कर दूंगा।"

नदाव लपिड ने समापन समारोह में कहा था, "मैं महोत्सव के प्रमुख और कार्यक्रम की सिनेमाई समृद्धि के लिए, इसकी विविधता के लिए, इसकी जटिलता के लिए प्रोग्रामिंग के निदेशक को धन्यवाद देना चाहता हूं। यह तीव्र था। हमने नवोदित प्रतियोगिता में सात फिल्में और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में 15 फिल्में देखीं, उत्सव की फ्रंट विंडो। उनमें से 14 में सिनेमाई गुण थे, चूक थी और विशद चर्चाएं हुईं।"

Web Title: Vivek Agnihotri shares video message after IFFI controversy

बॉलीवुड चुस्की से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे